Tech GURU ka Gyan

twitter के कुछ रोचक तथ्य-Interesting Facts about Twitter in Hindi

January 22, 2018 0
interesting-facts-about-twitter
दोस्तों आज हम आप लोगो को इस पोस्ट Interesting facts about Twitter के द्वारा social media की एक top website में से एक  twitter के कुछ ऐसे Facts के बारे में बताने वाले है.

जिसे शायद ही आप जानते होंगे. यदि जानते है तो ठीक है यदि नहीं जानते है, तो आप इसे पढ़ कर जान ही जायेंगे.

जिस प्रकार से आप facebook पर फ्रेंड बना सकते है. उन्हें like कर सकते है, follow कर सकते है.

ठीक उसी प्रकार से आप twitter पर भी आप अपने मित्रो को बना सकते है. और उनके साथ कन्वर्सेशन कर सकते है.

इन्हें भी पढ़े- Interesting Facts About Google in Hindi

आज इस पोस्ट में मैं आप लोगो को बताऊंगा की twitter कब शुरू हुआ. इसके संस्थापक कौन है.  सबसे ज्यादा फालोवर किस के हैं.

इसी तरह के twitter के बारे में रोचक जानकारी आप लोगो को इस पोस्ट Interesting facts about Twitter के माध्यम से दे रहा हूँ.

25 Interesting facts about Twitter in Hindi

तो चलिये अब interesting facts about twitter की शुरुवात करते है. और जानते है की वह कौन से तथ्य है, जो आप लोगो से जाने अनजाने छुट गए थे.
  1. Twitter को 15 जुलाई 2006 में शुरु किया गया था.
  2. Twitter के CEO जैक ड़ोर्सी है.
  3. twitter को पहले twitch नाम से याद रखते थे पर सही नहीं लगा इस वर्ड से मैचिंग शब्द खोजने पर twitter team को इंग्लिश डिक्शनरी में ट्विटर शब्द मिला, तब से इसे twitter नाम से जाना जाता है.
  4. पूरी दुनिया में internet user में से 90 प्रतिशत लोग twitter use नहीं करते है.
  5. ट्विटर को हम 35 भाषाओं में इस्तेमाल कर सकते है.
  6. ट्विटर पर सबसे पहला tweets जैक ड़ोर्सी ने किया था.
  7. ट्विटर के पुरे विश्व में 2700 से अधिक कर्मचारी है.
  8. CIA प्रतिदिन 5 मिलियन ट्वीट पढ़ती है.
  9. ट्विटर पर हर दिन 350 मिलियन tweets भेजी जाती है.
  10. ट्विटर पर पहले नंबर पर केटी पैरी है  इनके follower की संख्या 107 मिलियन है. से अधिक है.
  11. ट्विटर पर दुसरे सबसे ज्यादा follower वाले जस्टिन बिबर के है. इनके follower की संख्या 104 मिलियन है.
  12. ट्विटर के 1 monthly users लगभग 244 मिलियन है.
  13. Twitter के users फेसबुक के मुकाबले 1 मिलियन कम है.
  14. ट्विटर पर सबसे ज्यादा 2012 में प्रतिदिन 10 लाख account बनाए गए.
  15. ट्विटर का उपयोग करने वालों की संख्या अमेरिका की जनसँख्या के बराबर है.
  16. ट्विटर पर सबसे ज्यादा tweets करना का रिकॉर्ड जापान की एक लड़की के नाम है. (@Yougakduan_00)
  17. Twitter पर बना पंक्षी का सिम्बल लैरी पक्षी का है.
  18. आप अपने first tweets को first-tweets.com पर जाकर देख सकते है।
  19. ट्विटर ने 2014 के अक्टूबर month में photo sharing सर्विस बंद करने के कुछ घंटें पहले twitter ने कमाई की थी।
  20. Twitter कम्पनी का एक रूल्स है किसी भी कर्मचारी को सत्यापित (verified) नहीं किया जा सकता.
  21. इन्हें भी पढ़ेExcel Shortcut keys in Hindi

    Some Other Interesting Facts about Twitter in Hindi

    Twitter के बारे में कुछ  रोचक / दिलचस्प बाते जो शायद ही आप जानते हो.


  22. मार्क जुकरबर्ग (फेसबुक सीईओ) ने ट्विटर का इस्तेमाल 2009 से शुरु किया था.
  23. Granada में police ने अपनी वर्दी पर ट्विटर का प्रबंधन किया है.
  24. अगर नेताओं के follower की बात करे तो ट्विटर पर सबसे ज्यादा बराक ओबामा के follower है.
  25. भारतीय नेताओ में सबसे ज्यादा फालोवर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के है. 37.8 मिलियन follower है.
  26. ट्विटर ने अपने पहले 3 साल में बहुत कम कमाई की थी.
  27. ट्विटर पर 1 बिलियन tweets होने में 3 साल 2 महीने और 1 दिन लगा था जो बहुत ज्यादा है.
  28. Twitter का नशा बिलकुल ही शराब और सिगरेट की तरह है.
  29. twitter का use सबसे ज्यादा mobile पर किया जाता है.
  30. 2011 में अमेरिका ने twitter का क्लोन साईट बनाया था.
इन्हें भी पढ़े - Gmail Id कब बना है कैसे जाने 
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को यह पोस्ट Interesting facts about Twitter in Hindi काफी मज़ेदार लगा होगा.

आप twitter के बारे में काफी कुछ जान भी गए होंगे. यदि कोई ऐसी जानकारी हो जो मुझसे भी छूट  गई हो तो आप मुझे कमेंट बॉक्स के जरिये, मुझे जरुर बताये, मै उसे अपने पोस्ट में जरुर शामिल करूंगा.

LSI Kya Hota Hai-Latent Semantic Indexing

January 21, 2018 1
दोस्तों क्या आप जानते है की LSI (latent Semantic Indexing) kya hai और इसका SEO में क्या importance है.

यदि आप एक blogger है, या आप अपना blog start करना चाहते है तो आप को LSI (latent Semantic Indexing)  के बारे में जानना जरुरी है.

इस पोस्ट में मैं आप लोगो को यह भी बताऊंगा की आप इसे कैसे अपने किसी keyword के लिए सर्च कर सकते है.

यदि आप अपने ब्लॉग पोस्ट के टॉपिक के लिए एक बेहतर LSI सर्च कर लिए और उसका सही से use कर दिए

तो आपके किसी सी blogger से यह पूछने की जरुरत नहीं पढेगी की  ब्लॉग पर ट्रैफिक कैसे लाए.

क्योकि यदि आप यह चाहते है की आप के blog post, search engine result page में बढ़िया ranking पाए तो आपको LSI का ज्ञान होना जरुरी है.

इन्हें भी पढ़ेHow to Create a Blog in Hindi (ब्लॉग कैसे बनायें)

On-Page SEO में आप keyword का use 1.5 से 2.5 के बिच ही कर सकते है. लेकिन आपका मेन keyword एक ही होता है.

इससे आपका blog post बेहतर तरीके से SERP में रैंक नहीं कर पायेगा.

search engine में blog post को बेहतर तरीके से rank करने के लिए मेन keyword से मिलते जुलते word या sentence का use करना चाहिए.

आज के इस blog post में मैं आप लोगो को इसी के बारे में बताने वाला हूँ. LSI से कैसे आप अपने ब्लॉग पोस्ट को रैंक करा सकते है, LSI keyword research कैसे करे.

What is LSI in Hindi

चलिये सबसे पहले यह जान लेते है LSI का फुल नेम - latent Semantic Indexing होता है.

latent Semantic Indexing एक मैथमेटिकलसिस्टम है, यह ब्लॉग पोस्ट में शब्द और उसके अवधारणा के बिच एक कनेक्शन बनाती है.

जब किसी कंटेंट को किसी सर्चबोट के द्वारा क्रॉल किया जाता है तो कंटेंट के टॉपिक से जुड़े कुछ सामान्य शब्द और sentence को भी keyword के रूप में जाना जाता है.

यही  latent Semantic Indexing कहलाता है.

LSI keyword ka research kaise kare

LSI keyword का पता करने का सबसे आसान तरीका यह है कि-

जब आप अपने keyword को सर्च रिजल्ट में टाइप करते है तो सर्च इंजन कुछ suggestion शो करता है.

आप उन sentence का उसे ब्लॉग पोस्ट लिखते समय कर सकते है.

कभी कभी सर्च इंजन सर्च रिजल्ट के निचे कई sentence को नीले  कलर में शो करता है, वे भी latent Semantic Indexing keyword होते है.

इन्हें भी पढ़े -Public Domain Content kya hota hai(क्या होता है), इससे पैसे कैसे कमायें ?

आप उन सेंटेंस का use भी अपने ब्लॉग पोस्ट को लिखते समय जरुर करे. ताकि सर्च इंजन में ranking high हो सके.

चलिये आप को कुछ ऐसे LSI (latent Semantic Indexing) Tools की जानकारी देते है जिससे आपका काम आसान हो जायेगा.

LSI (latent Semantic Indexing) Tools

अब आप यह जान चुके है की LSI क्या है और इसका SEO search engine optimization में क्या importance है.

अब आपलोगो को कुछ LSI keyword tools के बारे में बता रहे है.

जिससे आपका latent Semantic Indexing को पाने का काम आसान हो जायेगा

#1- latent Semantic Indexing का सबसे बढ़िया और free tool है google जैसे ही आप  इसमे किसी keyword को टाइप करते है.

यह खुद ही उस keyword से जुडी हुई, कुछ सेंटेंस दिखा देता है.
lsi-latent-semantic-indexing-keyword-tool

lsi-latent-semantic-indexing-keyword-tool


इन्हें भी पढ़े - keyword stuffing क्या होता है?

#2- दूसरा और मोस्ट पोपुलर latent Semantic Indexing tools है  Uberssuggest, यह भी बिलकुल free है.

इसके द्वारा भी आप LSI keyword को रिसर्च कर सकते है.

#3- तीसरा और लोकप्रिय tools है LSIGraph यह भी बहुत ही बेहतरीन LSI keyword पाने का तरीका है.

इसका use, SEOBOOK,ENTERPRENEUR, NEILPATEL जैसे वेबसाइट भी करते है.
lsi-latent-semantic-indexing-keyword-tool-lsigraph

Conclusion

अब आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे की lsi(latent Semantic Indexing) क्या है और इसका seo में क्या importance है.

मैंने जो भी tools बताये है मैं उनका खुद भी use करता हूँ और मैं यही सलाह दूंगा की आप भी इनका use करे.

जब भी आप कोई keyword select करते है, कोई ब्लॉग post लिखने के लिए,

तो उसका latent Semantic Indexing keyword भी अपने ब्लॉग पोस्ट में उसे करे.

ECC Memory Kya Hai - What is ECC memory in Hindi

January 20, 2018 0
 ECC-memory-Hindi
दोस्तों आज हम आप लोगो को बताएँगे की What is ECC memory in Hindi.

क्या आपने कभी यह सोचा है की आप  social media पर जो भी images पोस्ट करते है , वह अब तक कैसे बिना corrupt हुए safe है.


यदि आप cloud storage का use करते है, तो भी आप ने ध्यान दिया होगा की इस पर भी आपके डाटा बिना किसी खराबी के बढ़िया स्थिति में save रहते है.

आखिर क्यों इन online storage या सोशल मीडिया पर store data खराब या corrupt नहीं होती है.

हम लोगो का computer रिबूट भी होता है, और इसमे के data भी कभी कभी corrupt हो जाते है.

आखिर हम लोग के computer और यह इन cloud storage और social media के computer में क्या difference है.

दरअसल यह computer में use होने वाली memory का अंतर ही इसका मेन कारण है.

cloud storage और social media के computer में ECC memory का इस्तेमाल होता है.

हम लोगो के computer PC में use होने वाला memory Non ECC memory होता है.

तो चलिये अब जानते है की ECC memory क्या है.

What is ECC memory in Hindi

ECC memory का full form होता है- Error Correcting Code Memory.

जो computer हम लोग use करते है, उसमे यदि कोई डाटा corrupt हो जाए, या reboot हो जाये तो कोई विशेष बात नहीं होती है.

लेकिन facebook, dropbox , google के computer का data corrupt हो जाए या computer reboot हो जाए तो पूरी दुनिया ही परेशान हो जाएगी.

यदि आप किसी cloud storage पर अपनी डाटा store करते है तो-

वह यह नहीं कहता है की आप data store करो, लेकिन बाद में data मिट जाता है या कुछ हो जाता है तो हमारी गारंटी नहीं है.

इन सभी server पर जो भी data store रहता है, चाहे जितने भी साल हो जाये data वैसे का वैसे ही रहता है-

जैसे आपने इस पर store किया हुआ होते है, और इसका कारण है ECC Memory.

ECC memory किसी भी data को execute करने से पहले उसे चेक करती है की वह जिस स्थिति में store हुआ था वह उसी स्थिति में है या नहीं.

यदि data, store वाली स्थिति में होता है तभी यह उसे execute करती है, अन्यथा

यदि data store वाली स्थिति में data नहीं है तो यह उसे correct करता है फिर उसे execute करता है.

इतना ही नहीं यह ECC memory पूरे system को reboot, data crash और hang होने से भी बचाता है.

अब प्रश्न यह है की जब ECC memory इतना बेहतर है तो क्या हम इसे अपने personal computer में use कर सकते है या नहीं.

ECC Memory का PC में Use नहीं होने के कारण 

हम ECC memory को अपने computer में भी इस्तेमाल कर सकते है. लेकिन यह बहुत ही महंगा होता है.

जिस motherboard का use हम अपने computer में करते है यह उसमे सपोर्ट नहीं करता है.

ECC memory के लिए motherboard भी अलग होता है, और काफी महंगा भी होता है.

यदि हम अपने computer में इसका use करे तो computer का speed कुछ कम हो जायेगा.

क्योकि यह data को store करते समय  और execute करने से पहले उसे वेरीफाई करता है.

यही कारण है की ECC memory का use पर्सनल computer में नहीं किया जाता है.

Conclusion

ECC memory का use, server के लिए काफी जरुरी होता है. क्योकि वहा पर हर एक data का महत्व ज्यादा होता है.

किसी भी यूजर को उसके अपने data की जरुरत कभी भी लग सकती है.

फिर भी यदि हम चाहे की कभी भी हमारा computer down ना हो, और एक smoothly काम करता रहे.

तो हम अपने कंप्यूटर में भी इसका use कर सकते है, यदि हम चाहे.

मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. अप इसे अपने मित्रो के साथ जरुर facebook, twitter, google plus पर share करे.

Thermal Throttling kya hota hai, इसके क्या फायदे है

January 17, 2018 0
thermal-throttling-Hindi
दोस्तों आज इस पोस्ट में मैं आप लोगो को बताऊंगा की What is Thermal Throttling in Hindi.

संभव है की कुछ रीडर को यह न पता हो, लेकिन इस कमाल की चीज़ का पता होना बहुत ही जरुरी है.

हम सभी smartphone, laptop, desktop का use करते है. तो Thermal Throttling को जानना जरुरी है.

Thermal Throttling को कुछ लोग smart device के heat होने से device के बंद होने की समस्या को समझते है.

यह हमारे खून पसीने की कमाई से ख़रीदा गया device की जान बचाता है.

आज इस पोस्ट में Thermal Throttling से जुडी हर जानकारी जैसे -

Thermal Throttling क्या है?, इसके क्या फायदे है? आदि सभी टॉपिक के बारे में हम आप लोगो को बताने वाले है.

आज के 10- 12 साल पहले जब हम लोग पढाई करते थे, उस समय जब हम computer lab में जाते थे.

तमाम तरह की नियम लगे होते थे जैसे की आप लैब में shoe पहन कर नहीं जा सकते थे.game नहीं खेल सकते थे.

इन्हें भी पढ़े - slow computer ki speed kaise badhaye

अगर आप लोगो ने ध्यान दिया होगा तो यह देखा होगा की computer lab में एक ac जरुर लगा होता था.

दरअसल इसके पीछे रीज़न यह था की यदि धुल और गन्दगी computer के अन्दर जायेंगे तो इसकी स्पीड को काम कर देंगे.

इसके पीछे कारण यह था की जो पुराने processor होते थे  वो सिर्फ एक single फ्रीक्वेंसी पर काम करते थे.

जैसे ही हम computer को स्टार्ट करते थे, वो अपने पूरे स्पीड से काम करना शुरू कर देता था.

भले ही हम उस पर कोई काम करे या न करे, processor अपने पूरे फ्रीक्वेंसी पर काम करता ही रहता था.

जिससे वह बहुत ही ज्यादा heat होता था, और उसे ठंडा करने के लिए ac की जरुरत होती थी.

और उन computer पर हम लगातार काम नहीं कर सकते थे. क्योकि यदि computer ज्यादा heat हो जाए तो burn हो जाते थे.

उन computer को burning से बचाने के लिए ही सारे इंतजाम किये गए होते थे.

इन्हें भी पढ़े - Mobile hang problem दूर कैसे करे


Thermal Throttling kya hai?

लेकिन आज  के समय में  आप अपने computer, laptop, smartphone सभी को किसी भी समय use करे, वह बर्न नहीं होगा.

जिसका कारण Thermal Throttling ही है. आखिर यह Thermal Throttling क्या है?

Thermal Throttling आज के smart device की एक खासियत है.जैसे ही कोई device ओवर heat होने लगता है.

यह उसके काम करने की speed को काम कर देती है, यदि हम सिस्टम को बंद नहीं करते है तो-

यह उसे restart कर देती है. ताकि device overheat से burn ना होने पाए.

आज के सभी processor चाहे वह mobile, laptop, desktop में लगे हुए है, single frequency पर काम नहीं करते है.

यह सभी processor multi frequency पर काम करते है.

कहने का मतलब यह है, इन processor की speed आपके द्वारा device पर किये जा रहे काम पर निर्भर करती है.

यदि आप सामान्य काम कर रहे है तो इनकी speed कम रहेगी.

जैसे ही आप इस पर game खेलेंगे तो यह अपने full speed में काम करेंगी.

अब सभी processor लोड के हिसाब से अपने frequency को control करते है.

जिससे वे कम से कम heat होते है.

सबसे बढ़ी बात यह की आज कल के device में कई sensor लगे होते है.

जो हर समय cpu के temperature, speed आही को sense करते रहते है.

यदि device की temperature बढ़ रही है या power consumption बढ़ रही है तो ये अपने frequency को कम कर देते है.

यदि हम system को shut down नहीं करते है तो यह खुद उसे restart कर देती है.

इन्हें भी पढ़ेMobile Phone Sensors की जानकारी हिंदी में 

Thermal Throttling से फायदा  

Thermal Throttling की खासियत की वजह से हमारा device कभी भी burn नहीं होगा.

यह overload की स्थिति में जब सिस्टम overheat होता है तो यह पहले उसके स्पीड को काम करता है.

यदि हम काम को नहीं रोकते है तो यह सिस्टम को restart कर देता है.

Thermal Throttling तभी होता है जब device proper तरीके से कूल नहीं हो पता है.

इससे device की life बढ़ जाती है.

Conclusion

आप लोग यदि computer या smartphone पर जब कभी लगातार कई घंटे तक गेम खेलते होंगे तो देखे होंगे की कुछ समय के बाद आपके device में गेम कुछ धीमा हो जाता होगा.

गेम का धीमा होना Thermal Throttling का शुरुवात होता है.

और यदि हम गेम खेलना बंद नहीं करेंगे तो Thermal Throttling हमारे device को ठंडा करने के लिए उसे restart कर देता है.

मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Thermal Throttling kya hota hai, इसके क्या फायदे है, आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. आप इसे social media पर अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करे.

Google Play Store par Books Sell Kaise Kare

January 16, 2018 0
Google-Play-Store-par-Books-Sell-Kaise-Kare
दोस्तों आज मै इस पोस्ट में एक step-by-step guide share कर रहा हूँ जिसमे मैं आप लोगो को बताऊंगा की आप कैसे अपनी books को google play store पर sell कर सकते है.

यदि आप एक लेखक है, या कोई books लिखे है, तो आप जानते ही होंगे की इसे प्रकाशित करवाना कितना मुश्किल होता है.

किताब को पब्लिश कराकर किसी बेचने में भी तमाम तरह के अप्रूवल लेने की जरुरत होती है.

लेकिन यदि आप  चाहे तो बिना किसी publisher और approval के भी आप अपनी किताब को बेच सकते है.

लेखक बन कर आप इससे पैसे भी कमा सकते है,  मेरे कहने का मतलब यह है की आप इससे अच्छी खासी इनकम भी कर सकते है.

google play store पर अपनी books को sell करने के लिए आपको google के book store का use करना होता है.

Google Book Partner Center (dashboard) अपने यूजर को काफी feature भी देता है. जैसे-
  • आप अलग-अलग- देश के लिए अलग-अलग price set कर सकते है.
  • books के promotion को manage कर सकते है.
  • आप अपनी book का  detailed analysis and sales report भी देख सकते है.
  • आप अपने book का .pdf को free offer दे सकते है.
यदि आप किसी books को online sell करने की सोच रहे है, या कोई book लिख रहे है तो आपको सबसे पहले उसे google play store पर list करना चाहिए.

इन्हें भी पढ़े gmail में two step verification कैसे सेट करे 

A Beginners  Guide - google play पर अपनी किताब कैसे बेचे ?

Step 1-
google play पर अपनी किताब को बेचने के पहले आपको यह चेक करना होगा की आप का country google play पर किताब  बेचने के लिए eligible है की नही.

जो country eligible है, उनकी list आप यहाँ से देख सकते है.

Step 2-
  • यदि आपका country eligible है तो आप google books partner account create कीजिये.
  • account create करने के लिए आप sign up बटन पर click करे. जैसे ही आप इस पर click करते है.
  • यह आपको एक नए पेज पर ले जाता है, और वहा पर google आपको बताता है की वह इस समय लिमिटेड संख्या ही publisher के लिए ले रहा है. 
  •  यदि आप publisher बनना चाहते है तो यहाँ पर आप online interest form पर click करके आप अपने form को submit  कर सकते है. (google ने normal publisher account क्रिएशन को temporary closed किया हुआ है.)
  • google अब आपके form का review करेगा और यदि उसे लगेगा की आप books publish करने के लिए qualified है तो
  • वह आप  को email से सूचना देगा.
इन्हें भी पढ़े Google Search History Delete कैसे करे

जैसे ही google अपने इस programme को स्टार्ट करता है, मै अपने इस पोस्ट को update कर दूंगा.

तब तक आप भी online interest form को सबमिट कर दीजिये, हो सकता है की google आपके form का review करके आपको email सेंड कर दे.

3 best ways to make money in 2018 [Hindi]

January 15, 2018 0
video देखने के लिए इमेज पर क्लिक करे 

दोस्तों आज इस video 3 best ways to make money in 2018 [Hindi] में मैं आप लोगो को 3 ऐसे मनी मेकिंग मेथड बताऊंगा जिससे आप online paise kama सकते है.
बहुत से लोग यह सोचते है की यह कैसे सम्भव है, लेकिन उनका सोचना सही है, आजकल बहुत से स्कैम होते रहते है जिससे लोग online money पर विश्वाश नहीं करते है.
लेकिन मेरे बताये यह 3 तरीके से आप जरुर ऑनलाइन मनी कमा कर सकते है. लेकिन ऑनलाइन मनी को कमाने के लिए कुछ सेटअप करना पड़ता है.
जिसे हम स्टेप by स्टेप गाइड आप लोगो को video के द्वारा बताएँगे.
video देखने के लिए इमेज पर क्लिक करे 

vivo v7+ का prices, feature और Review in HIndi

January 11, 2018 0
vivo-v7+-review-hindi
दोस्तों आज हम एक और फ़ोन vivo v7+ के prices, feature और specification के बारे में बताने वाले है.

चुकी vivo smartphone की दुनिया में बहुत ही जाना माना नाम बन गया है, और यह अपने selfie phone की वजह से और ही जाना जाता है.

vivo का नया phone v7+ online shopping sites flipkart, aur amazon दोनों से ही खरीद सकते है.

vivo ने इसे selfie के दीवानों के लिए यह smartphone लांच किया है. यह vivo के पुराने फ़ोन vivo v5 plus का अपग्रेड रूप vivo v7+ है.

vivo v7+ से vivo ने front dual camera हो हटाकर एक single camera कर दिया है. लेकिन इस बार इसने front camera के resolution को बढ़ा दिया है.

इस बार इसमे अपने camera में  DSLR इफेक्ट भी दिया है. जिस प्रकार से एक DSLR camera से फोटो क्लिक करने पर बैकग्राउंड blur हो जाता है.

इस फ़ोन से भी फोटो क्लिक करने पर बैकग्राउंड blur हो जाता है.

इसके साथ ही vivo कंपनी ने vivo v7+ के स्क्रीन को भी अपग्रेड किया है, और इसको 18:9 के format में तैयार किया है.

कंपनी ने इसकी प्राइस Rs. 21990 /- रखी है.  चलिये अब हम इसके feature को डिटेल में बताए है ताकि आप खुद ही निर्णय कर सके की क्या यह आप के लायक है या नहीं.
Vivo v7+ को Flipkart से खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे - Rs. 21990/-
Vivo v7+ को amazon से खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे - Rs. 21990/-

Vivo v7+ (Plus) Features की जानकारी [Hindi]


सबसे पहले हम आपको vivo v7plus के build quality और design के बारे में बताए है.

Vivo v7+ ki design aur build quality

इस फ़ोन का डिजाईन इतना बढ़िया है की कोई भी इसे एक बार देख ले तो उसका मन ललचा  जायेगा.इसकी मोतील मात्र 7.7 mm है, और यह काफी हल्का होने के साथ स्लिम भी है.

इसको इस तरह से बनाया गया है ताकि कोई भी इसे हाथो में आसानी से पकड़ सके. और पकड मजबूत बनी रहे.

इसके एक ही sim ट्रे में दोनों sim और माइक्रो sd कार्ड लगाने की सुविधा दी हुई है. और इसमे नैनो sim ही सपोर्ट करता है.

इसके स्टोरेज को 256 gb तक sd कार्ड की सहायता से बढ़ाया जा सकता है.

screen -

जब बात इसके स्क्रीन की हो रही है तो हम आपको बता दे की इसकी स्क्रीन साइज़  5.99 इंच की है.

लेकिन जब बात इसके resolution की आती है तो vivo ने अपना कमाल दिखा दिया है, इसकी resolution मात्र 720x1440  का ही है.

लेकिन यह 2.5d curved edge गोरिल्ला glash प्रोटेक्शन से लैस है.

processor , ram एंड storage

vivov v7+ में qualcomm के snapdragon 450 processor लगा हुआ है, जो multitasking में तो दिक्कत नहीं करेगा, लेकिन इसका स्पीड थोडा सा कम है. और कभी कभार multitasking के दौरान फ़ोन थोडा स्लो हो हो जायेगा.

ग्राफ़िक processor की बात करे तो इसमे adreno का 506 GPU लगा हुआ है.

यदि बात करे इसके ram की तो यह फ़ोन 4 gb ram के साथ आ रहा है.

इसके साथ यह 64 gb storage भी है. और यदि आप इसे बढ़ाना चाहते है तो आप इसे माइक्रो sd की मदद से 256 gb तक कर सकते है.

बैटरी

इसमे मात्र 3225mAh की बैटरी दिया गया है, जो की बहुत अच्छी बात नहीं है. इसकी अधिकतम बैकअप लगभग एक दिन हो सकती है.

Vivo v7+ की खामियां

  • screen की resolution कम है, अगर इस रेंज की अन्य फ़ोन को देखे तो इनमे FHD resolution है.
  • processor - यदि vivo ने इसमे snapdragon की 625 प्रोसेसर को दिया होता तो यह multitasking भी बहुत ही अच्छे तरीके से करता, और स्लो नहीं होता.
  • बैटरी- यदि इसमे ज्यादा पॉवर की बैटरी रहता तो ज्यादा बेहतर होता, price के हिसाब से देखा जाये तो इसमे किसी 6000-7000 के फ़ोन वाली बैटरी दी गई है.
  • यदि आप इस बैटरी से बैकअप की  उम्मीद करे तो यह ठीक नहीं है.
  • सबसे बढ़ी बात की इसमे fastcharging की सुविधा नहीं है. जो की इतने महंगे फ़ोन में होने ही चाहिए.

Vivo v7+ (plus) Specification in Hindi

GENERAL
·         Device Type                           Phablet
·         Dual Sim Capability                Dual Sim (Nano+Nano)
·         Input Mechanism                    Touchscreen
·         2G Network Technology        GSM, (2/3/5/8)
·         3G Network Technology        WCDMA, (1/5/8)
·         4G Network Technology        LTE, FDD, (1/3/5/7/8), TDD, (40)
NETWORK
·         Network Type                      GSM, WCDMA, LTE
·         Network Capability                 2G,3G,4G
DATA
·         GPS                                        GLONASS, GPS
·         Bluetoothv                               4.2
·         Wi-Fi                                        YES
·         USB                                        YES
·         Infrared Port                            NO
DISPLAY
·         Display Size                            5.99-inches
·         Display Resolution                  HD+ (720×1440 pixels)
·         Display Technology                IPS, FullView Display
MEMORY
·         Internal Memory                     64GB Internal Storage, 4GB RAM


·         SD Card                                  microSD, up to 256GB
Operating
·         OSAndroid                              v7.1 Nougat with FunTouch OS 3.2
·         Processor                                Qualcomm Snapdragon 450 Octa-Core 1.8GHz 64-bit
CAMERA
·         Camera resolution                  16 MP with f/2.0 aperture
·         Camera Features                    Night, Ultra HD, PPT, Anti-Shake, Professional, Slow, Time- Lapse
·         Camera Video Features         Video Recording 1080
·         Secondary Camera                24 MP with f/2.0 aperture, Normal, Face Beauty , Group selfie, Portrait mode, LIVEOn, Watermark, Touch Capture, Voice Capture, Palm Capture, Timer, Mirrored Selfie, Videos
SIZE AND WEIGHT
·         Size (L by B by T)                   155.87 x 75.74 x 7.7 mm
·         Form                                       FactorCandybar
·         Weight                         160 gm
OTHERS
·         AccelerometerYES
·         Games SupportYES
BATTERY
·         Battery Type                           Non-Removable lithium-ion
·         Battery Capacity                     3225 mAh Battery

Vivo v7+ को Flipkart से खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे - Rs. 21990/-
Vivo v7+ को amazon से खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे - Rs. 21990/-

Conclusion

दोस्तों मैंने vivo v7+ की price, feature, एंड स्पेसिफिकेशन के बारे में पूरी डिटेल से बता दिया है. market में देखा जाये तो कोई भी फ़ोन सम्पूर्ण नहीं है.

सभी फ़ोन में खुछ खासियत है, तो उनमे कुछ खामिया भी है. यदि आप को यह फ़ोन अच्छा लगा और आप इसे खरीदना चाहते है तो आप ऊपर दिए लिंक पर क्लिक करके इसे खरीद सकते है.

मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट vivo v7+ का prices, feature और Review in HIndi आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. आप हमारे facebook पेज को जरुर like करे.