सोमवार, 3 अप्रैल 2017

Hardware Vs Software Vs Firmware [Hindi]

हैलो दोस्तो कैसे है आप सब आज हम बात करेंगें की साफ्टवेयर और हार्डवेयर तथा फर्मवेयर क्या होता है, और इनमे अंतर क्या है। साफ्टवेयर और फर्मवेयर में क्या समानताये है और क्या है इनमें अलग जो इनको एक दूसरे से भिन्न बनाती है तथा इनमें हार्डवेयर की क्या उपयोगिता है। क्या ये तीनो एक दूसरे के बिना भी कार्य कर सकते हैं यदि हाॅ तो फिर इन तीनो की आवश्यकता क्या है। यदि नही तो क्यो?
तो सबसे पहले यह जानते है कि साफ्टवेयर, हार्डवेयर और, फर्मवेयर क्या है।

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इन्हें भी पढ़े 

जानिए गोर्रिला ग्लास की सच्चाई
इन्टरनेट स्पीड की सच्चाई
फेसबुक auto liker का काला सच
विंडोज का registry editor एक मैजिक विंडोज
विंडोज run कमांड software को start करने का आसान  रास्ता
bold italic अब whatsapp में भी
एंड्राइड मोबाइल के 50 सीक्रेट कोड
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

हार्डवेयर 

किसी भी मशीन का वह भाग जिसे आप छू सके देख सके और महसुस कर सके हार्डवेयर कहलाता है। या किसी भी मशीन का वह हिस्स जो उस मशीन के साफ्टवेयर को कार्य करने के लिये क्षमता प्रदान करता है। हार्डवेयर कहलाता है।

साफ्टवेयर 

किसी मशीन का वह हिस्सा जो दिखाई दे और उस पर कार्य किया जा सके लेकिन उसे छू कर महसूस नही किया जा सके। दूसरे शब्दो में हार्डवेयर पर किसी विशेष कार्य को करने के लिये निर्देशो के समूह को साफ्टवेयर कहते है।
यह किसी प्रोग्रामिग लैग्वेज में फाइल्स, प्रोग्राम और फंक्शन को मिलाकर बनता है। जिसके द्वारा किसी विशेष कार्य को अंजाम दिया जाता है। साफ्टवेयर के इस्तेमाल से हम हार्डवेयर के द्वारा किसी विशेष कार्य को सम्पन्न कर सकते हैं।
साफ्टवेयर को मुख्यतः तीन भागो में बाटा जा सकता है।

  •  सिस्टम साफ्टवेयर
  •  एप्लीकेशन साफ्टवेयर
  •  यूटिलीटी साफ्टवेयर


------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इन्हें भी पढ़े 

जानिए गोर्रिला ग्लास की सच्चाई
इन्टरनेट स्पीड की सच्चाई
फेसबुक auto liker का काला सच
विंडोज का registry editor एक मैजिक विंडोज
विंडोज run कमांड software को start करने का आसान  रास्ता
bold italic अब whatsapp में भी
एंड्राइड मोबाइल के 50 सीक्रेट कोड
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

फर्मवेयर

फर्मवेयर का सटीक परिभाषा देना थोडा सा मुश्किल है, यह हार्डवेयर से कुछ उपर लेकिन साफ्टवेयर से कुछ नीचे का साफ्टवेयर है। चूकि फर्मवेयर भी एक प्रकार का साफ्टवेयर है जो हार्डवेयर की जगह पर प्रयोग किया जाता है। और इसका इस्तेमाल अन्य इलेक्ट्ानिक वस्तुओं में किया जा है। हम जो भी इलेक्ट्निक वस्तुओं का इस्तेमाल करते है वे सभी फर्मवेयर के द्वारा ही कार्य करते है।  जैसे कैलकुलेटर के द्वारा हम सभी प्रकार के अंकगणितिय कार्य पूरा करते है। कैलकुलेटर के द्वारा किया गया कार्य एक फर्मवेयर के द्वारा ही सम्पन्न होता है।
अब आप सोच रहे होगे कि कम्प्यूटर भी तो एक इलेक्ट्ानिक मशीन है। तो आपको बता दें कि इसमें भी फर्मवेयर का इस्तेमाल किया जाता है। इसके फर्मवेयर को हम रोम के नाम से जानते है और यही रोम कप्यूटर को स्टार्ट करने पर उसके सभी हार्डवेयर की जाॅच करने के बाद की सभी सही एंग से कार्य कर रहे है कि नही आपरेटिंग सिस्टम जो कि एक साफ्टवेयर है को रैम पर लोड कर के कम्प्यूटर को कार्य करने की स्थिती में लाता है।
 अब सामान्य सा उदाहरण लेते है कि टीवी का रिमोट जब हम रिमोट में 2 नंबर का बटन दबाते है तो कितने फिक्वेंसी का सिग्नल जनरेट हो ताकि टीवी 2 नंबर के चैनल पर ट्यून हो जाय। इसका नियन्त्रण फर्मवेयर के द्वारा ही किया जाता है।
फर्मवेयर के द्वारा टीवी, मानीटर, कूलर कैलकुलेटर, वाशिंग मशीन सभी में किया जाता है ताकि उनके कार्यो को यूजर के मुताबिक कन्टोल किया जा सके।

हार्डवेयर, साफ्टवेयर और फर्मवेयर में अंन्तर


  • बगैर हार्डवेयर  के साफ्टवेयर और फर्मवेयर का इस्तेमाल संभव नही है। साफ्टवेयर या फर्मवेयर का उपयोग करने के लिये हार्डवेयर का होना अति आवश्यक है।
  • किसी प्रोग्रामिंग लैग्वेज के सहायता से बनाई गई फाइल होती है जो कम्प्यूटर पर किसी विशेष कार्य को करने के लिये बनाई जाती है। किसी भी साफ्टवेयर को हार्डवेयर पर रन करने के लिये फर्मवेयर की जरुरत होती है। जबकि फर्मवेयर  किसी हार्डवेयर पर किसी विशेष कार्य को करने के लिये तैयार किया जाता है, और फर्मवेयर सीधे ही हार्डवेयर में एम्बेडेड होते है।
  •  किसी साफ्टवेयर को हम मैनुअली इन्स्टाल कर सकते है और आवश्यकता न होने पर अनइंस्टाल भी कर सकते है। हम जिस साफ्टवेयर को अनइंस्टाल कर देंगे उससे सम्बन्धित कार्य नही कर पायेंगंें बाकि सभी कार्य सामान्य रुप से करते रहेगें। जबकि फर्मवेयर को हम मैनुअली इंस्टाल या अनइंस्टाल नही कर सकते। इसको अपग्रेड या डाउनग्रेड कर सकते है।
  • कम्प्यूटर में किसी साफ्टवेयर को अनइंस्टाल भी कर दे तो कोई खास फर्क नही पडता हाटाये गये साफ्टवेयर से होने वाले कार्य को नही कर सकते हैं बाकि सभी कार्य सामान्य रुप से कर सकते है। जबकि फर्मवेयर में यदि किसी तरह (जो कि मैनुअली शायद ही संभव हो) से फर्मवेयर को हटा दे तो वह मशीन किसी काम की नही रहेगी। अर्थात फर्मवेयर के बिना वह हार्डवेयर एक दम से बेकार हो जायेगा। और हम अपने कार्य को संपादित नही कर पायेंगे।
  • हम एक साफ्टवेयर से दूसरा साफ्वेयर बना सकते है। लेकिन एक फर्मवेयर से दूसरा फर्मवेयर नही  बना सकते है।
  • साफ्टवेयर में यूजर इन्टरफेस होता है, अर्थात यह यूजर से सीधे इन्टरेक्ट करता है। जबकि फर्मवेयर यूजर इन्टरफेस नही होता है और यह हार्डवेयर के द्वारा यूजर से इन्टरैकट करता है।

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इन्हें भी पढ़े 

जानिए गोर्रिला ग्लास की सच्चाई
इन्टरनेट स्पीड की सच्चाई
फेसबुक auto liker का काला सच
विंडोज का registry editor एक मैजिक विंडोज
विंडोज run कमांड software को start करने का आसान  रास्ता
bold italic अब whatsapp में भी
एंड्राइड मोबाइल के 50 सीक्रेट कोड
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
तो दोस्तो मेरा यह पोस्ट कैसा लगा हमें जरुर बताईयेगा। आशा है जरुर पसंद आया होगा | आप हमारे ब्लाग को फ्री में सब्सक्राइब करें, और पाये विभिन्न लेटेस्ट अपडेट। पोस्ट अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करे, आज के लिए  सिर्फ इतना ही ।
धन्यवाद






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें