मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

HTTP vs HTTPS hindi

Leave a Comment

HTTP-vs-HTTPS-hindi
नमस्कार मित्रो | हम सब इन्टरनेट का इस्तेमाल डेली करते है लेकिन क्या कभी यह सोचते है की इन्टरनेट के लिए डोमेन address के पहले जो http या https लिखा होता है उसका क्या मतलब होता है|  हो सकता है आप में से बहुत से लोग इसका मतलब जानते हो लेकिन जो लोग इसका मतलब नहीं जानते और जानना चाहते है वो इस पूरे पोस्ट को जरुर पढ़े और यदि आप online शोपिंग, ऑनलाइन लेनदेन करते है और हैकिंग से बचना
चाहते है तो आपको मेरा यह पोस्ट जरुर पड़ना चाहिए ताकी आप ऑनलाइन फ्रॉड तथा हैकिंग से आसानी से बच सके | तो चलिए शुरू करते है
इन्हें भी पढ़े 

What is HTTP

इसका पूरा नाम hyper text transfer protocol होता है और यह Client और Server के बीच Communication channel का कार्य करता है और दोनों के बीच data transfer के  कार्य को नियंत्रित करता है | चुकी यह Port 80 का इस्तेमाल करता है और इसका security काफी कमजोर होता है जिसे आसानी से ब्रेक किया जा सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं की हर कोई भी इसको ब्रेक कर सकता है | इसको ब्रेक करने के लिए कंप्यूटर के software की अच्छी नालेज होनी चाहिए | इसीलिये ऑनलाइन लेनदेन में Http का इस्तेमाल नहीं किया जाता है ऑनलाइन शोपिंग और लेनदेन के लिए जितने सिक्यूरिटी की जरुरत होती है उतना सिक्योर नहीं है

What is HTTPS

इसका पूरा नाम Hyper Text Transfer Protocol Secure  होता है | यह Client से Server तक डाटा को encrypted फॉर्मेट में ले जाता है जिसे कोई भी हैक नहीं कर सकता है | दुर्भाग्य वश यही कोई हैकर इसे हैक भी कर लेता है तो वह कभी पता नहीं कर पायेगा की यूजर के द्वारा दि गई डिटेल क्या थी क्योकि इसके द्वारा भेजे जा रहे डिटेल पूरी तरह से एनक्रिप्टेड होते है जिसे हैकर भी तोड़ नहीं सकते है |
यदि आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर HTTPS का इस्तेमाल करते है तो गूगल  search में यह HTTP का इस्तेमाल करने वाले वेबसाइट या ब्लॉग से पहले आएगा जिससे ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्रैफिक इनक्रीस होता है
चुकी http फ्री होता है और https एक पेड सर्विस है और इसको यूज़ करने के लिए SSL सर्टिफिकेट की जरुरत होती है |
इन्हें भी पढ़े 

What is SSL Certificate

इसका पूरा नाम Secure Socket layer होता है तथा  यह क्लाइंट और सर्वर के बीच के डाटा ट्रान्सफर को सिक्योर तथा एन्क्रिप्टेड करने का कार्य करता है ताकि कोई थर्ड पार्टी या हैकर इसे रीड न कर सके इसका इस्तेमाल करने के लिए SSL Secure technology का इस्तेमाल किया जाता है जिसके लिए SSL सर्टिफिकेट की जरुरत होती है, इसको ऑनलाइन purchase करना पड़ता है
SSL RSA Algorithm पर based होता है जहा पर ssl में एक public और एक private key होता है Public key को information encrypt करने लिए एवं private key को decrypt करने लिए इस्तेमाल करते है

SSL सर्टिफिकेट से फायदा

  • https के इस्तेमाल से गूगल search में रैंकिंग बढ़ जाती है
  • वेबसाइट को कोई हैक नहीं कर सकता है 
  • यदि वेबसाइट या ब्लॉग का sitemap सबमिट नहीं हो रहा है तो SSL को इनस्टॉल करने से sitemap तुरंत सबमिट हो जाता है 
  • इ कॉमर्स  वेबसाइट के लिए बहुत जरुरी है क्योकि इन पर ऑनलाइन transaction होता है और यहाँ पर यूजर इनफार्मेशन को एनक्रिप्टेड फोर्मेट में सर्वर तक ले जाना जरुरी होता है ताकि कोई थर्ड पार्टी या हैकर उन इनफार्मेशन को चुरा न ले 
इन्हें भी पढ़े 
तो दोस्तो मेरा यह पोस्ट कैसा लगा हमें जरुर बताईयेगा। आशा है जरुर पसंद आया होगा | आप हमारे ब्लाग को फ्री में सब्सक्राइब करें, और पाये विभिन्न लेटेस्ट अपडेट। पोस्ट अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करे, आज के लिए  सिर्फ इतना ही ।

धन्यवाद

If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें