सोमवार, 17 अप्रैल 2017

What is OTP detail explained in hindi

Leave a Comment

What-is-OTP-detail-explained-in-hindi
नमस्कार दोस्तो क्या आप जानते है कि ओटीपी क्या है। या वन टाइम पासवर्ड क्या है। रेलवे टिकट बुकिंग, आनलाईन पेमेंट, आनलाईन शापिंग आदि के लिये हर बार एक 6 अंक का सेक्योरिटी कोड हमारे मोबाईल नंम्बर पर आता है। आखिर किस लिये यह सेक्योरिटी कोड हर बार हमारे मोबाईल पर आता है। इसकी क्या उपयोगिता है। और इस ओटीपी या वन टाइम पासवर्ड
से हम जैसे आम जन को क्या लाभ है।
इन्हें भी पढ़े 

What is OTP (One Time Password)

डिजिटल दुनिया में हम लोगो की सेक्योरिटी बहुत मायने रखती है। इसीलिये एक ऐसे कोड की जरुरत थी जो हर बार के आनलाईन एक्टीविटी के लिये अलग अलग हो जिसके समाधान के रुप में हमारे सामने ओटीपी प्राप्त हुआ। हम कह सकते है कि यह एक ऐसा कोड है जिसे हमारे आनलाईन एक्टीविटी जैसे आनलाईल ट्रान्जक्शन, शापिंग के वक्त पेमेन्ट करते वक्त 6 अंक का सेक्योरिटी कोड हमारे मोबाईल पर आता है और जैसे ही उस कोड को हम एंटर करते है। हमारा लेनदेन पूर्ण हो जाता है।
हम बहुत सी वेबसाइट में लागिन करते है या साइनअप करते है तो वह हमें हमारे मोबाईल नम्बर पर 6 का कोड उस साइट के द्वारा भेजा जाता है। या जब हम अपनी किसी वेबसाइट के लागिन को भूल जाते है तो उसे रिकवर करने के लिये जब हम अपने मोबाईल नंम्बर का इस्तेमाल करते है तो उसपर उस वेबसाइट के द्वारा एक कोड भेजा जाता है और हम उस कोड को उस वेबसाइट में डालकर अपने पासवर्ड को रिकवर कर लेते है। इसके अलावा भी आनलाईन ट्रान्जक्शन, रिचार्ज  आदि सेक्योर रखने के लिये भी इसका प्रयोग किया जाता है।
हम कह सकते है कि यह एक प्रकार का पासवर्ड है जो नार्मल पासवर्ड जिसे यूजर एकाउन्ट बनाते समय हम बनाते है यह उससे अलग है। और हर बार अलग अलग होता है जिससे डिजिटल दुनिया में हमारी डिटेल काफी सेक्योर हो जाती है।
इन्हें भी पढ़े 

ओटीपी से लाभ 

ओटीपी से हमारे आनलाईन एकाउन्ट जैसे गूगल एकाउन्ट, बैक एकाउन्ट, काफी सुरक्षित हो जाते है, क्योकि इसकी सबसे बडी खासियत यह है कि उसके द्वारा जनरेट कोड सिर्फ कुछ समय तक के लिये ही मान्य होता है जैसे ही उसका समय पूरा होता है वह कोड एक्सपायर कर जाता है। जिससे हमारा आनलाईन ट्रान्जक्शन काफी सेक्योर हो जाता है।
किसी हैकर को आपका यूजर नेम पासवर्ड पता लग जाने पर भी वह आपके एकाउन्ट को पूरी तरह एक्सेस नही कर पायेगा। क्योकि बैक आकउन्ट के वेबसाइट में मोबईल नंम्बर आनलाईन नही चेंज किया जा सकता है।
यदि आप अपने नेट बैकिंग में ओटीपी एक्टीव करा दिये है तो कोई भी आपके अकाउन्ट से पैसा ट्रान्स्फर नही कर पायेगा क्योकि जैसे ही वह ट्रान्सफर के लियें रिक्वेट करेंगा, तुरन्त ही आपके मोबाईल नंम्बर पर एक सेक्योरिटी कोड आ जायेगा। जिससे आप जान जायेगें कि कोई आपके अकाउन्ट से लागइन किया है। और बिना उस सेक्योरिटी कोड के पैसा नह निकाल पायेगा।

कहाॅ ओटीपी प्रयोग होता है?

सभी बैक जो नेट बैकिंग की सुविधा दे रही है। रेलवे टिकट का पेमेंट, ह्वाटसअप रजिस्टर, शापिंग साइट के पेमेंट करने पर, गूगल वेरिफिकेशन, जीमेल के पासवर्ड भूल जाने पर पासवर्ड को रिकवर करने के लिये, डिजिटल वैलेट, जैसे पेटीएम, आक्सीजन आदि के द्वारा, रिचार्ज वेबसाइट आदि के द्वारा अपने यूजर के पर्सनल डिअेल और उनके लेन देन को हैकर से बचाने के लिये लगभग सभी कम्पीयों के द्वारा ओटीपी का प्रयोग किया जाता है।
इन्हें भी पढ़े 
तो दोस्तो मेरा यह पोस्ट कैसा लगा हमें जरुर बताईयेगा। आशा है जरुर पसंद आया होगा | आप हमारे ब्लाग को फ्री में सब्सक्राइब करें, और पाये विभिन्न लेटेस्ट अपडेट। पोस्ट अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करे, आज के लिए  सिर्फ इतना ही ।

धन्यवाद

If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें