गुरुवार, 18 मई 2017

lie detector ya polygraph machine kya hota hai ? lie detector kaam kaise karta hai ?

lie-detector-ya-polygraph-machine-kya-hota-hai
दोस्तों आप सभी lie detector ya polygraph machine का नाम जरुर सुने होंगे लेकिन आप यह भी  जरुर सोचते होंगे की कैसे कोई मशीन किसी इंसान के द्वारा बोली गई झूठी  बात को पकड़ लेता है| यह एक आश्चर्यजनक बात है| लेकिन यह सच है की यह मशीन इंसानों के द्वारा बोली गई झूठी बात को तुरंत ही पकड़ लेता है| और मैं आज इसी lie detector machine ya polygraph machine के बारे में आप सब को बताने वाला हूँ|

lie detector ya polygraph machine kya hota hai ?

जहा तक बात है हम लोगो के डेली रूटीन की पता नहीं हम कितने सच बोलते है कितने झूठ बोलते है| कुछ इन्तेंसनल होते है| कुछ अनइन्तेंसनल होते है| कई बार बहुत छोटी छोटी बाते होती है उनकेसेस में यदि हम सच बोलें या झूठ बोलें तो कोई फर्क नहीं पड़ता है| लेकिन जब     बात होती है किसी ऐसे स्टेटमेंट की जिसके उपर बहुत सारी चीजे टिकी है| जैसे मान लीजिये कोर्ट में कोई हिअरिंग है किसी विक्टीम का कोई स्टेटमेंट है तो या ससपेक्ट  का कोई स्टेटमेंट है तो यह जानना जरुरी हो जाता है की यह इंसान सच बोल रहा है या नहीं|
यदि आपको दुनियादारी की ज्यादा समझ है तो आप किसी इंसान के सामने बैठ कर जज कर पाए की वह सच बोल रहा है या   झूठ लेकिन एक्यूरेसी का आपसे दूर दूर तक कोई वास्ता  नही होगा |कभी तुक्का लग जाये तो और बात है लेकिन सामाने बैठे इंसान से बात करके यह पता लगाना की वह झूठ बोल रहा है या सच यह जान पाना बड़ी ही मुस्किल है|

accuracy and lie detector ya polygraph machine

लेकिन मशीन यह काम करे तो एक्यूरेसी काफी बढ़ सकती है, इसी सोच के साथ 1921 में john larson ने पहली बार डेवेलोप किया था, इस टेस्ट को जो खुद ही एक मेडिकल स्टूडेंट थे university of Californian   के| 1921 के बाद हम सभी इस टेस्ट में काफी इम्प्रोव्मेंट कर चुके है| और इम्प्रूवमेंट करते आ रहे है , और कोशिश यही कर रहे है की कैसे इसके एक्यूरेसी को और ज्यादा बढाया जाय| लेकिन आज के डेट में बहुत सारी जगहों पर यह allow है और बहुत सारी जगहों पर यह illegal है|  India में यह polygraph टेस्ट पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है| जबरदस्ती किसी के ऊपर ऐसा टेस्ट नहीं किया जा सकता है| लेकिन यदि कोई अपनी इच्छा से यह टेस्ट करना चाहता है तो यह polygraph Test उसके ऊपर किया जा सकता है| कोर्ट के द्वारा एविडेंस के रूप में यह मान्य नहीं है| 

lie detector ya polygraph machine काम कैसे करती है ?

मानव का दिमाग एक प्रोसेसर है, और जो हम बोलते है वह दिमाग से ही निकल कर आता है| यदि ऐसे में यदि हमें झूठ बोलना हो तो प्रोसेसिंग तो दिमाग ही करेगा लेकिन जो हमारे outcome होते है, वो थोड़े डिफरेंट हो जायेंगे| जब हम झूठ बोलते है तो हमारा blood pressure, pulse rate, respiration rate, हाथ और माथे से निकालने वाला पसीना ये सभी वो पैरामीटर है जो बदल जाते है| ऐसे में पता लगाया जा सकता है, यह इंसान सच बोल रहा है या नहीं|
कुछ लोग यह कहते है की इसकी एक्यूरेसी सही है कुछ लोग कहते है की इसकी एक्यूरेसी ठीक नहीं है| कुछ लोगो को मन्ना है की इसको bypass किया जा सकता है| कुछ बड़ी बड़ी कंपनिया अपने employee का polygraph टेस्ट कराती है| ताकि यह जान सके की उनके अन्दर कितनी ईमानदारी है|
polygraph test में जो सवाल पूछे जाते है उनका जवाब YES or NO में देना होता है| ये जो सवाल होते है वो बहुत रिलेवेंट होते है कुछ इर्रेलिवेंत होते है जिनका उस चीज़ से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं है| वो सवाल पूछे जाते है एक बेसलाइन तैयार करने के लिए ताकि यह जाना जा सके की आपके पैरामीटर नार्मल कंडीशन में कैसे होते है| और झूठ बोलने पर आपके इन पैरामीटर में कैसा change देखने को मिलेगा|

Conclusion 

मित्रो आशा है यह  lie detector ya polygraph machine kya hota hai ? यह आर्टिकल आपको जरुर पसंद आया होगा| एक बात और है जो मै कहना चाहूँगा की lie detector ya polygraph machine का टेस्ट पर प्रश्नचिन्ह लगा होता है| कुछ लोग इसे सही मानते है, लेकिन कुछ लोग   इसे झूठ मानते है| हर एक चीज़ को देखने का अपना अपना नजरिया है |
यदि यह पोस्ट पसंद आया होता इसे जरुर शेयर करे , और इस ब्लॉग को subscribe करना न भूले|
धन्यवाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें