शुक्रवार, 12 मई 2017

smartphone se hone wali haani in hindi

Smartphone can damage your body

दोस्तों क्या आप जानते है की smartphone se hone wali haani  कौन कौन से है ? आज हम इसी के विषय में चर्चा करेंगे की कैसे हमारा प्रिय smartphone हमरे शारीर को हानी पहुचता है | लेकिन यह कहना  गलत होगा की हानि हमें सिर्फ smartphone पहुचाते है | हमारे शारीर को हानि इसके अलावा laptop, desktop, TV, and tablet जैसे गैजेट जो हमारे दिनचर्या में शामिल है वो भी पहुचाते है| अब यह सभी मानव शारीर को हानि  कैसे पहुचाते है| हम आज इसी विषय में आप लोगो को बताएँगे |

Sleep wake Cycle और smartphone se hone wali haani

हम लोगो के शारीर में एक जैविक वाच होता है जो मेंटेन कर  है हमारे sleep wake cycle को और इसी सिस्टम के दम पर हम जानते है की कब हमें जगाना है, कब हमें सोना है | और इसी के आधार पर हम काम करते आये है | लेकिन यह सब चीजे पिछले कुछ सालो तक तो ठीक थी| लेकिन जब से smartphone आ गए है| तब से हमारी यह cycle system कुछ गड़बड़ हो गई है| यह system थोडा बिगड़ गया है| हम अपने फ़ोन को सभी जगहों पर उसे करते  है |  
रात में जब हम सोने जाते है तो सोने से पहले भी हम अपने फ़ोन का इस्तेमाल कर अपना facebook. whatsapp, instagram आदि अकाउंट को चलते है | कई बार एसा होता है की काफी रात तक हम अपने फ़ोन का इस्तेमाल करते है, और हमें नींद ही नहीं आती है | फिर हम सोचते है की हमें नींद क्यों नहीं आ रही है| नींद नहीं आने के कारण हम अपने smartphone को फिर से यूज़ करने लगते है | क्या आप जानते है की आपके हाथ में जो फोन है वही आपके नींद न आने का कारण है |

motilin hormone

shaam के समय में हमारे दिमाग से मेटालिन हार्मोन को रिलीज़ करता है | और यही हार्मोन हामरे complete sleep wake cycle को कण्ट्रोल करता है | और उसको पूरा करने में मदद करता है |

SmartPhone , मानव शरीर और रंग का प्रभाव 

मानव शरीर वह अलग-अलग रंग के हिसाब से respond करता है | जैसे blue color से blue light निकलती है| और इस लाइट से हमारे शरीर  को एनर्जी मिलती है | और इसको दिन समझता है और इसी blue light के वजह से दिमाग हमें सिग्नल देता है की , यह अभी दिन का समय है , जो हमारे काम करने का वक्त है, और इसके साथ ही हम अपना सारा दिन स्पेंड करते है| और जैसे जैसे दिन ख़तम होता है| शाम होती है| सूरज ढलने लगता है | उस समय जो light होता है amber light होता है | और इस light में दिमाग हमें यह सिग्नल भेजता है की अभी शाम हो गई है, रात हो गई है | अब हमारे सोने का समय हो गया है| 
हम लोगो के पास जो laptop, computer, tablet है | इन सभी गैजेट की स्क्रीन blue light देती है | जिससे हम लोगो के दिमाग को लगता है की अभी दिन है और यह सोने का टाइम नहीं है| जिससे दिमाग मेतालिन हार्मोन को रिलीज़ नहीं करता है | जिस वजह से हमारे sleep wake cycle का संतुलन बिगड़ जाता है| और अंत में हमारा शरीर थक जाता है और तब सो जाता है | ताकि खुद को रिफ्रेश कर सके ऐसी परिस्थिति में यह पता नहीं लग पाता  है की हम कब सोये थे|

नींद न आने का कारण 

रात को smartphone का उसे करने के बाद  उसे 10 -15 मिनट तक इसके एक्रीन को बंद करके सोने की कोशिश भी करे तो ऐसी स्थिति में हो सकता है की हमें नींद न आये| जिससे हम पुन: परेशान होकर अपना smartphone उठाते है और शुरू हो जाते है |
यहाँ पर यह एक बहुत बढ़ा फैक्टर है की हम  अपने sleep wake cycle को कण्ट्रोल करे और उसको ठीक करे जिससे एक अच्छी और स्वस्थ नींद ले सके |

कम नींद से होने वाली परेशानिया 

यदि कम हमेशा कम नींद लेते है तो हमारा दिमाग तो हमारा दिमाग मेतालिन हार्मोन को सक्रिय नहीं कर पता है| जिसकी वजह से हमें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है | कम नींद की वजह से हमें Dipresion, झुंझलाहट, किसी किसी केश में तो कैसर जैसे बिमारी भी हो जाती है |  कुल मिलाकर कम नींद लेना हमारे शरीर के लिए नुकसानदायक है | smartphone se hone wali haani में से यह एक है कम नींद का आना | या कम नींद लेना | 

कम नींद से बचने के उपाय 

smartphone se hone wali haani से बचने के लिए आप जब  सोने जाने से पहले कम से कम एक घंते पहले आप अपने फोन को अपने से दूर कर दे| उसका यूज़ ना करे | यदि आप किताब पढना चाहते है| तो यह एक बेस्ट आप्शन है | इससे आपको एक अच्छी नींद भी आएगी| इसके साथ ही अपने कमरे में एक amber शेड का नाईट बल्ब का इस्तेमाल कर सकते है| 

smartphone se hone wali haani से बचने के लिए Mobile के night mode का प्रयोग करे |

कुछ ऐसे काम भी होते है जिनको हम दिन भर नहीं कर पते है | तो उनको हम रात को पूरा करने के लिए लग जाते है | यदि रात को आपको काम करना ही है तो आप अपने गैजेट को night mode में इस्तेमाल करे| यदि आपके मोबाइल में यह आप्शन नहीं है तो आप app स्टोर से एक software download कर ले और तब अपने mobile, laptop, tablet का इस्तेमाल करे| एंड्राइड फ़ोन में यह reading mode के नाम से भी यह आप्शन होता है| 
यह सभी app बेसिक र्रोप से आपके मोबाइल से blue light को निकाल देते है जिससे आपको थोड़ी वर्म टोन मिलाती है | यह light आँखों के लिए एक दम परफेक्ट है | और blue light न होने की वजह से दिमाग मेटालिन हार्मोन को रिलीज़ कर देता है | और यह सिग्नल भेज देता है की रात हो गई है| हमें सो जाना चाहिए | और रात को एक अच्छी नींद भी आएगी|

conclusion

smartphone se hone wali haani  तो बहुत है लेकिन मैंने आज सिर्फ नींद न आना ही एक कारण पर विस्तार से बताया है की क्यों smartphone के प्रयोग से नींद नहीं आती है| अन्य कारणों को भी हम बाद के लेखो में पोस्ट करेंगे| आज के लिए सिर्फ इतना ही|
यदि यह पोस्ट अच्छा  लगा है तो इसे जरुर शेयर करे | और हमारे ब्लॉग को subscribe जरुर कर ले | 

2 टिप्‍पणियां: