शनिवार, 13 मई 2017

spidercam kya hota hai ? yah kaise karya karta hai ?

spidercam kya hota hai and yah kaise karya karta hai ?

इस समय सभी लोग cricket को enjoy करने में लगे है| लेकिन मै आपसे cricket की बात नहीं करूंगा| मै  बात करूंगा एक ऐसे technology की जिसकी वजह से आप बहुत ही आसानी और बेहतरीन तरीके से cricket को देख पाते है| लेकिन मै  Television की बात भी नहीं करने वाला हूँ आज मै बात करूँगा spidercam की| एक ऐसा technology  जो cricket, vollyball, Tennis आदि सभी तरह के खेलो में प्रयोग हो रहा है| आखिर इसकी विशेषता क्या है , सभी खेलो में इसे काफी क्यों  पसंद किया जा रहा है ? और इसके क्या-क्या फायदे है|

spidercam के फायदे 

high quality picture and Multi angle views

जब हम लोग पहले television पर cricket देखते थे| तो हमें बड़े अजीब से camera angle, अजीब से clarity मिलती थी| और हमें उसी से ही काम चलाना पड़ता था| जैसे- जैसे technology बड़ती गई| टाइम बढ़ा telecast की technology improve हुयी| और multiple camera काम  आने लगे| अलग- अलग angle पर camera होते थे| closeup के लिए अलग, top view के लिए अलग| लेकिन मज़ा उतना नहीं था,  जितना आप stadium में जाकर किसी मैच को देखते थे| | लेकिन जब से हम ने काम लेना शुरू किया है spidercam को,  तब से घर पर मैच देखने का मज़ा कई गुना बढ़ गया है| stadium से भी ज्यादा मज़ा घर पर ही आता है| spidercam के द्वारा आप किसी भी sport को उपर से, नीचे से, दाए से, बाए से, विभिन्न angle से high quality में देख कर enjoy करते है| जो उस playground में होता है|

What is Spidercam ?

यह technology न सिर्फ cricket में बल्कि अन्य सभी प्रकार के खेलो जैसे football, baseball, tennis, vollyball में भी इसका प्रयोग किया जा रहा है| क्योकि यह हद से ज्यादा flexibility देता है| इस spidercam technology की सहायता से ऐसे ऐसे शॉट लेते है जिनको आज तक लेना संभव नहीं  था| चाहे  हम अलग - अलग angle पर camera लगा ले या क्रेन पर camera सेट कर ले| लेकिन कोई भी camera develop नहीं कर सकते जो एक साथ horizentaly और vertically  मूव कर पाए| लेकिन यहाँ पर जो spidercam है ऐसा ही कुछ कर के दिखाता है| जो कभी कभी देखते है Camera लटका होता है| camera के पूरे सेटअप को जिसके द्वारा पायलट आसानी से camera को हवा में लटकाया है और उसको विभिन्न angle पर मूव कर रहा है| इसी पूरे setup को हम spidercam कहते है| 

Mounting and working system of Spidercam

Mounting

चुकी इसके पहले भी बहुत से camera उपयोग में लाया  जाता था| जैसे skycam इनका भी यूज़ पहले होता था| लेकिन क्रिकेट  में  लेते है spidercam को | यहाँ पर जो है इस camera को चार रस्सियों पर लटकाया जाता है| लेकिन यह चारो रस्सियां कोई नार्मल रस्सी नहीं होती है| ये केबल आर की बनी होती है| और इतने पतले होते है की जल्दी दिखाई नहीं देती है| इन रस्सियों का daimeter लगभग आधा सेंटीमीटर का होता है| और ये इतने मजबूत होती है की पुरे तीस से पैतीस किलो के सारे system को बढ़ी ही आसानी से संभल लेती है|

working system of spidercam

spidercam को काम में लेने के लिए इसको उचे में केबल आर के द्वारा set किया जाता है| चुकी कुछ playground की रूफ काफी उची होती है| जिससे उसी रूफ को base बनाकर रस्सियों को attach करके इसको लटका दिया जाता है| जहा पर रूफ ऊँची नहीं होती है| वहा पर light poll  के सहारे इनको लटकाया जाता है| यदि light पोल भी ऊँचे नहीं होते है तो, इनको चार पोल माउंट करके उसके सहारे रस्सियों को लटकाया जाता है| इनमे हम पुली को काम में ले रहे है| winches को काम में ले रहे है|  चारो साइड से केबल आर को यूज़ में ली जा रही है और बीच में spidercam को लटकाया जाता है| अब असल में यहाँ होता क्या है की जब winches की सहायता से केबल आर की खीचा जाता है तो पूरा camera system ट्राली की मदद से अलग- अलग डायरेक्शन में  जैसा हम चाहते है मूव करता है|
लेकिन यहाँ पर सबसे पहले डिफाइन करते है no fly zone को, कुछ ऐसे zone जहा पर camera न पहुच पाए| जैसे audience के करीब या जहा पर किसी को चोट लगाने का डर हो| यदि उसको restrict कर दिया तो | इस spidercam का जो पायलट है वो बड़ी ही आसानी  से  इनको कंट्रोल कर सकता है| अलग अलग winches से यह camera अलग अलग डायरेक्शन में बड़ी ही आसानी से मूव करता रहता है| यहाँ पर या सिर्फ उस जगह पर ही नहीं जाता बल्कि यह हमें pan shot, tilt shot का भी आप्शन देता है| इसके सहायता से हम बहुत ही कमाल के shot ले सकते है|
यहाँ पर यह spidercam बड़ी ही तेज़ी से लगभग 30 - 40 किमी/ऑवर की रफ़्तार से यह मूव करत है| तो यहाँ पर हमें चाहिए एक कमाल का simulation. तो इसके लिए यहाँ पर प्रयोग किया जाता है gyroscope base solution का यह वही gyroscope censor होता है जो मोबाइल में प्रयोग किया जाता है| इसी की सहायत से spidercam फ़ास्ट मूवमेंट के बाद भी अपने को establish किये रहता है|

How to transmission from spidercam

अब बताते है की यहाँ से transmission कैसे होता है| spidercam को लटकाने में प्रयोग  हो रहे  चारो केबल में से दो में लगे होते है, fiber optical  cable. इसमे से एक केबल के द्वारा यह सिग्नल को लेता है अपने मूवमेंट के लिए जैसे zoom in, zoom out, pan shot, tilt shot के लिए| जाकी दूसरा केबल का प्रयोग होता है signal को बाहर भेजने में जिससे आपको signal में कोई loss न मिले और fastest communication हो | ऐसे में मिलता है best possible quality जो बाद में टेलीविज़न में broadcast के लिए भेजा जाता है| 
कई बार इसके वजह से controversy भी हो जाती है| जैसे boll camera पर लग गया| किसी का catch छुट गया| तो उस पर लगी boll,  dead boll माना  जाता है| कई बार spidercam के पायलट इसको fix pattern पर भी मूव करते है| इसमे होता यह है की आप एक बार कुछ पॉइंट fix कर देते है| तो spidercam  अपने आप ही उन उन पॉइंट पर मूव करत है| और shot लेता रहता है| जिससे आपको बार- बार मनुअली इसे controll न करना पड़े|

conclusion

दोस्तों आज मैंने इस पोस्ट में यह भरपूर कोशिश किया है की आप यह अच्छी तरह से जान जाये की spidercam kya hota hai ? aur yah karya kaise karta hai ? इससे ट्रांसमिशन कैसे होता है ? और इसका स्पोर्ट्स में क्या महत्व है ? 
मुझे उम्मीद है की यह आप को जरुर पसंद आएगा| इसे शेयर कीजिये| और मेरे ब्लॉग को subscribe कीजिये|
धन्यवाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें