सोमवार, 3 जुलाई 2017

HDD smart kya hai? self monitoring and analysis reporting tool

Leave a Comment

smart-kya-hai
दोस्तों आज हम बात करेंगे की HDD smart kya hota hai? What is HDD Smart in Hindi?  हम सभी मोबाइल और कंप्यूटर का यूज़ तो करते ही है, और कई बार ऐसा होता है की हमारा सिस्टम चलते चलते ख़राब हो जाता है. और तो कई बार हम अपने कंप्यूटर पर रात भर काम करते है और उसे शटडाउन करके सोते है, लेकिन जब अगले दिन उस कंप्यूटर पर काम करने के लिए उसे ऑन करते है तो कंप्यूटर एरर देता है और ऑन नहीं जिससे हम समझ नहीं पाते है की यह एरर रैम में है, या cpu में है. या gpu में या हार्ड ड्राइव में है. या खराबी मदर बोर्ड में है यह समझ में नहीं आता है.

लेकिन  s.m.a.r.t. (self monitoring and analysis reporting tool)  की मदद से आप  पहले ही जान सकते है की हार्ड ड्राइव ख़राब होने वाले है.

History of SMART in Hindi  (smart का इतिहास ) या smart kya hai?

सबसे पहले disk monitoring technology को IBM कंपनी के द्वारा सन 1992 में लाया गया. जिसका नाम Predictive Failure Analysis (PFA) था.  यह डिवाइस को विभिन्न पैरामीटर के आधार पर उनकी स्थिति की जाँच करता था. और रिजल्ट को device is OK और drive is likely to fail soon के रूप में  रिजल्ट शो करता था.

बाद में compaq, sigate, corner, & quantum कंपनी के द्वारा एक नया tool डेवेलोप किया गया. जिसका नाम intellisafe रखा गया था. यह भी विभिन्न पैरामीटर के द्वारा हार्ड ड्राइव के केअल्थ की जाँच करता था और उसे ऑपरेटिंग सिस्टम को भेज देता था.

IBM, compaqऔर इसके सहयोगी sigate, corner, & quantum ने intellisafe को 1995 में Small Form Factor (SFF) committee के पास इसे मानकीकरण के लिए भेजा और समिति ने ज्यादा फ्लेक्सिबिलिटी होने के कारण चुना 12 मई 1995 को compaq ने इसे पब्लिक डोमेन में रखा और इसके परिणाम स्वरुप smart दुनिया के सामने आया.

जितने भी smart campatibale device है. या जो HDD या SSD जो smart को सपोर्ट करती है.  इन डिवाइस के अन्दर एक tool की मदद से घुस कर देख सकते है की खराबी क्या है या एक संकेत तो मिल जाता है. यहाँ पर जो self analysis and monitorig reporting tool  है वो विंडोज, apple के ऑपरेटिंग के साथ ही आता है.

इसके अतिरिक्त बहुत अन्य कम्पनीज के भी थर्ड पार्टी टूल भी है. जिनकी मदद से आप अपने हार्ड ड्राइव या ssd की खराबी का पता लगा सकते है.

मान लीजिये की आप किसी कम्पनी जैसे सैमसंग या सीगेट की हार्ड ड्राइव lete है तो इस ड्राइव के साथ एक tool आती है जिससे आप अपने हार्ड ड्राइव के हेल्थ का पता लगा सकते है. जैसे बाद सेक्टर कितने है read  write की स्पीड कितनी है. हार्ड ड्राइव की मैक्सिमम आरपीएम कितना है.

बहुत सारी चीज़े जिनको देख  कर आप  अपने हार्ड ड्राइव के हेल्थ की पूरी जानकारी पा सकते है. की वह इस समय किस कंडीशन में है. लेकिन यह smart पूरी तरह परफेक्ट नहीं है.  क्योकि यहाँ पर हार्ड ड्राइव को कनेक्ट करने के बहुत सारे तरीके है. जैसे ata, sata, और एक्सटर्नल ड्राइव के लिए USB है.

HDD और SSD के लिए smart ki jarurt kyo hai?

यदि हमें पहले ही पता लग जाये की यह मशीन ख़राब होने वाली है, या यह एक वार्निंग ही मिल जाये की  यहाँ पर कुछ एरर कई तो हम उसे समय रहते ठीक कर सकते है. जिससे हमारा समय बच जायेगा. और काम के दौरान दिक्कत भी नहीं आएगी.

यदि हम बात करे कंप्यूटर या मोबाइल की तो इनमे कब कैसे दिक्कत आ जाये इसकी कोई गारंटी नहीं होती है. नए से नए सिस्टम पर भी कभी कभी कम करते करते अचानक से कोई एरर आ जाती है और सिस्टम काम करना बंद कर देता है. और पता भी नहीं लगता की मदर बोर्ड खराब है, या gpu खराब है, या cpu ख़राब है. हमारे सामने बस एक ही आप्शन बचाता है की हम उसे रिपेयर कराये या पुराना है तो नया ले सकते है.

लेकिन यदि बात करे हार्ड ड्राइव की तो इसमे ही हम लोगो का सारा डाटा स्टोर होता है और यदि यह ख़राब हो जाये तो डाटा के खोने का भी डर रहता है.  चुकी हार्ड ड्राइव HDD (hard disk drive) एक मकेनिकल डिवाइस है. तो इसमे खराबी आना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है. खराबी तो आनी ही है. चाहे वह पांच साल बाद आये या 3 साल बाद.

यदि हम बात करे SSD (solid state drive) की तो यह मकेनिकल डिवाइस नहीं है. लेकिन इसमे रीड राइट साइकिल होते है. जो आजीवन तो चलेंगे नहीं. यह भी एक समय के बाद काम करना बंद कर देते है. और SSD ख़राब हो जाते है.

तो ऐसे में हमें एक ऐसे tool की जरुरत पड़ती है. जो हमें पहले ही खराबी के बारे में  बता दे या कोई संकेत दे दे. जिससे हम समय रहते ही खराबी को ठीक कर पाए. और वह tool है smart (self monitoring and analysis reporting tools)

Conclusion

आज के इस आर्टिकल HDD smart क्या है? self analysis and monitorig reporting tool में बारे में जो जानकारी है. वह आप लोगो को जरुर पसंद आई होगी.यदि यह पोस्ट आप लोगो को अच्छी लगे तो इसे मित्रो के साथ facebook, twitter, google+ पर जरुर शेयर करे.

If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें