गुरुवार, 31 अगस्त 2017

Laser keyboard kya hota hai, yah kaise kaam karta hai?

अगस्त 31, 2017 1
 Laser-projection-keyboard
दोस्तों हम सभी अपने स्मार्ट फ़ोन में और कंप्यूटर में बहुत से कीबोर्ड का इस्तेमाल किये होंगे या कर रहे होंगे जैसे वायर्ड कीबोर्ड, वायरलेस कीबोर्ड, रोलिंग कीबोर्ड, लेकिन क्या आपने laser keyboard ya Projection keyboard का कभी इस्तेमाल किया है, या कभी आपने इसके बारे में सुना है. यदि नहीं सुना है तो यह पोस्ट आपके लिए ही है, आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आप लोगो को बताएँगे की Laser keyboard kya hota hai aur yah kaise kaam karta hai?

Laser Keyboard/Projection keyboard Kya Hai?

यह एक प्रकार का इनपुट डिवाइस जो लेज़र लाइट की मदद से कीबोर्ड की डिजाईन को किसी समतल जगह पर प्रोजेक्ट करता है. और यह कंप्यूटर या मोबाइल से ब्लूटूथ से जुड़ा होता है.  और जैसे ही इस बने हुए कीबोर्ड के किसी बटन को  छूटे है तो उसे मालूम चल जाता है की कौन सा बटन टच किया गया है.
हो सकता है की भविष्य में यह हम लोगो  के मोबाइल और कंप्यूटर के साथ ही आये, और बिना किसी एक्स्ट्रा प्रोजेक्टर के इसका यूज़ कर पाए.


History of Laser Keyboard?

Optical vertual keyboard या Laser keyboard को सबसे पहले 1992 में International Business machine( IBM) ने बनाया. यह हाथ और अंगुलियों के मोशन को डिटेक्ट करके CPU को सिग्नल ट्रान्सफर करता है. जिससे के स्ट्रोक का पता लगता है. यह डिवाइस पिंक कलर की लाइट प्रोजेक्ट करती है.
इसके बाद canseta कंपनी ने इसको और ज्यादा विकसित किया और इसके लिए एक छोटा सा प्रोजेक्टर बनाया और एक फाउंटेन पेन भी बनाया ताकि इसका इस्तेमाल आसानी से हो सके.

Laser keyboard kaam kaise karta hai?

दरअसल लेज़र कीबोर्ड में सबसे ऊपर की तरफ एक लेज़र लाइट लगी होती है. इसके आगे के कीबोर्ड का लेआउट लगा होता है. जो लेज़र लाइट के द्वारा किसी समतल सरफेस पर एक कीबोर्ड का लेआउट डिस्प्ले करती है. इसके ठीक निचे एक सेंसर लगा होता है और उस सेंसर के निचे एक इन्फ्रारेड लाइट लगी होती है जो कीबोर्ड के ऊपर एक थीं लेयर generate करती है. जो दिखाई नहीं देती है.
अब जैसे ही हम किसी के सरफेस को छूटे है तो तो वह इन्फ्रारेड लाइट हम लोगो की अंगुलियों से टकराकर वापिस CMOS सेंसर से गुजरती है. और यह सेंसर यह पता लगा लेता है की हमने कौन से के को टच किया है. और वह सॉफ्टवेर के मदद से हमें इसका आउटपुट दे देती है.

Connectivity

laser कीबोर्ड को कंप्यूटर और स्मार्ट फ़ोन के साथ USB और ब्लूटूथ से कनेक्ट किया जा सकता है. ब्लूटूथ दोंगल की मदद से भी आप इसे अपने डेस्कटॉप से कनेक्ट कर सकते है. इसमें multi पॉइंट कनेक्टिविटी भी मिलता है.

Laser keyboard se fayda kya hai?

इसको इस्तेमाल करने के लिए आपको वायर की जरुरत नहीं पड़ती.
आप इसे USB या ब्लूटूथ किसी से भी जोड़ सकते है.
यह रात में काम करने के लिए काफी बेहतर आप्शन है.
आप इससे लम्बे समय तक भी इस्तेमाल कर सकते है.
यह साइज़ में छोटा होता है, और इसका वजन भी कम होता है. जिससे इसे कही भी ले जा सकते है.


Laser keyboard se nuksan kya hai?

इसका मूल्य एक सामान्य कीबोर्ड के मुकाबले दस गुना होता है.
इसे OTG सपोर्टेड स्मार्ट फ़ोन , या टेबलेट में ही इस्तेमाल किया जा सकता है.
ब्लूटूथ लेज़र कीबोर्ड को इस्तेमाल करने के लिए आपको सेल का इस्तेमाल करना पड़ता है.
इसको इस्तेमाल करने के लिए इसका कनवर्टर सॉफ्टवेर इस्तेमाल करना पड़ता है यह एक प्लग एंड प्ले डिवाइस नहीं है.
एकदम एक्यूरेट keystroke के लिए आपको उसे एकदम समतल एरिया पर इस्तेमाल करना पड़ेगा.

Conclusion

आज के समय में यह laser keyboard एक नयी टेक्नोलॉजी है. लेकिन यह काफी महंगा होने के कारन अभी इसका बहुत इस्तेमाल नहीं हो रहा है. लेकिन देखा जाये तो अभी इसमे सुधार की बहुत ही गुंजाईश है. और जब यह अच्छी तरह से इम्प्रोव हो जायेगा यह तभी मार्किट में स्पीड पकड़ेगा.
चुकी यह अभी सभी डिवाइस को सपोर्ट नहीं कर पता है और यह प्लग एंड प्ले डिवाइस भी नहीं है, और सबसे बड़ी बात की यह बहुत ही ज्यादा महंगा है. यह कम से कम 2500 रुपये में मिलता है. इसीलिए अभी यह पैर नहीं पसार प् रहा है. लेकिन आज के 4 से 5 साल बाद यह हम लोगो के सभी स्मार्ट फ़ोन और कंप्यूटर में inbuild आ सकता है.
मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Laser keyboard kya hota hai, yah kaise kaam karta hai? आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ सोशल मीडिया पर जरुर शेयर करे.

मंगलवार, 29 अगस्त 2017

List of Smartphone which get Android Oreo Update In India [Hindi]

अगस्त 29, 2017 0
List-of-Smartphone-which-get-Android-Oreo-Update-In-India
दोस्तों आज हम आपको उन smartphone की लिस्ट देंगे जिनको android Oreo 8.0 का अपडेट मिलेगा. google का यह operating system बहुत ही कमाल का है और सभी टेक यूजर के अलावा एक समय यूजर भी यही सोच रहा है की क्या उसके फ़ोन को इस नए operating system का अपडेट मिलेगा या नहीं. तो आज हम आपको इन्ही फ़ोन के बारे में बताने वाले है जिनको इस ऑपरेटिंग android oreo का update मिलाने वाला है.

SmartPhone ki list Jinko Android Oreo ka Update Milega?

India में लांच होने वाले बहुत से फ़ोन ऐसे होते है जिनका हार्डवेयर सिर्फ एक ही operating को सपोर्ट करता है लेकिन सभी अच्छे फ़ोन निर्माता कम्पनी अपने फ़ोन को ऐसे हार्डवेयर के साथ डिजाईन करते है की उनमे भी किसी अन्य operating के आने पर उनको update मिल सके. इंडिया में कुछ ऐसे फ़ोन है जिनको Android O update मिलेगा.

Google Phone jinko Android Oreo ka Update Milega.

Android OS का update सबसे पहले google phone में आता है उसके बाद ही अन्य स्मार्ट प्फोने में उसके update आते है. सबसे पहले google अपने आने वाले फ़ोन  pixel 2 के लिए Android Oreo Updates Revealed किया. इसके अलावा निम्नओने को भिऊ update मिलेगा.
  • nexus 5x
  • Nexus 6P
  • Pixel
  • Pixel XL

Samsung Phone jinko Android O ka Update Milega.

google के बाद Samsung मोबाइल के कुछ डिवाइस को Android Oreo का update मिलेगा. लेकिन इसके लगभग 11 डिवाइस ही है जिनको इसका update मिलने वाला है.
  • Galaxy J5 2017
  • J7 Prime
  • J7 2017
  • Galaxy A7 2017
  • A5 2017
  • Galaxy Note 7 फैन एडिशन
  • Galaxy S7 Edge
  • S7
  • Galaxy S8
  • S8+
  • Galaxy S8 Note

One Plus Phone jinko Android O ka Update Milega.

One Plus के सिर्फ तीन डिवाइस ही ऐसे है जिनको Android Oreo update मिल सकता है.
  • OnePlus 5
  • OnePlus 3T
  • OnePlus 3

Nokia Smart Phone jinko Android O ka Update Milega.

Nokia अभी जल्दी ही android के साथ स्मार्ट फ़ोन के मार्किट में आया है. और इसने आते ही बहुत ही बेहतरीन फ़ोन लानुच किया है. लेकिन शायद ही किसी को यह फ़ोन अभी मिल पाया हो. लेकिन नोकिया ने यह announce किया है की उसके सभी फ़ोन को Android Oreo Update मिलेगा.
  • Nokia 3
  • Nokia 5
  • Nokia 6
  • Nokia 8

Motorola ke smart phone jinko Android Oreo ka Update Milega

Motorola अपने सभी मिड रेंज और एंट्री लेवल के स्मार्ट फ़ोन में Android Oreo का update मिलेगा.
  • Motorola G5 Plus
  • Moto Z Force
  • Z2 Play
  • Moto Z2 2017

Xiaomi  ke Smart Phone Jinko Android O ka Update Milega

Xiaomi चीनी कंपनी है जो बहुत से देशो में अपने फ़ोन को बेचती है. यह चीन की सबसे बड़ी फ़ोन निर्माता कंपनी है इसी कारण इसे चीन का एप्पल कहा जाता है. और यह फ़ोन कंपनी इंडिया में अपने फ़ोन को जरुर लांच करती है. और इसके फ़ोन इंडिया में बहुत ही फेमस हैं. इसके कुछ फ़ोन जैसे Redmi note3, redmi 3S, redmi 3sPrime, में android Oreo  का update नहीं मिलने ने वाला है.
लेकिन इसके Mi max और Mi Max 2 को android Oreo का update जरुर मिलेगा.

ViVo and Oppo smart Phone jinko Android O ka update milega

इंडियन मार्किट में Vivo aur Oppo सेल्फी एक्सपर्ट के नाम से मशहूर है. और लोग इनका फ़ोन सिर्फ इसीलिए खरीदते है ताकि वे अच्छी सेल्फी ले सके. लेकिन इनके सभी फ़ोन ऐसे नहीं है जिन पर android oreo रन कर सके.  इसी लिए इसके यूजर को थोड़ी निराशा हो सकती है. लेकिन यदि आप के पास इनके निम्न फ़ोन है तो आप को android oreo का update मिल सकता है.

Conclusion

हमने यहाँ पर उन्ही फ़ोन को लिस्टेड किया है जिनको Android oreo का update मिलाने वाला है. और यदि आप इस समय कोई फ़ोन को खरीदने की सोच रहे है तो मेरा यही विचार है की आप इन लिस्टेड फ़ोन में से ही कोई फ़ोन ख़रीदे. यही आपके लिए लाभदायक रहेगा. और आप इन लिस्ट में से कोई फ़ोन नहीं खरीदना चाहते है तो पहले आप पता कर ले की आप के द्वारा ख़रीदे जा रहे फ़ोन को Android Oreo Update मिलेगा की नहीं.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का मेरा यह आर्टिकल List of Smartphone which get Android Oreo Update In India [Hindi] जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ social media  facebook, twitter पर जरुर शेयर करे.

सोमवार, 28 अगस्त 2017

Microsoft Windows 10 Shortcut keys [Hindi]

अगस्त 28, 2017 0
microsoft-windows-shortcut
दोस्तों आज हम आप के लिए लाये है Microsoft Windows 10 Shortcut keys इन शॉर्टकट key के द्वारा आप अपने windows 10 के कार्यो को और भी आसान बना सकते है. तो चलिए जानते है इन Microsoft Windows 10 के सभी शॉर्टकट key को.

Windows 10 general Shortcut Keys


Keyboard Shortcut                                         Action
F2                                                 Rename the selected item
F3                                                 Search for a file or folder in File Explorer
F4                                                 Display the address bar list in File Explorer
F5                                                 Refresh the active window
F6                                                Cycle through screen elements in a window or on the desktop
F10                                                Activate the Menu bar in the active app
Alt+F4                                        Close the active item, or exit the active app
Alt+Esc                                        Cycle through items in the order in which they were opened
Alt+underlined letter                Perform the command for that letter
Alt+Enter                                Display properties for the selected item
Alt+Spacebar                                Open the shortcut menu for the active window
Alt+Left arrow                        Go back
Alt+Right arrow                       Go forward
Alt+Page Up                               Move up one screen

Alt+Page Down                       Move down one screen
Alt+Tab                                       Switch between open apps
Ctrl+F4                                      Close the active document (in apps that are full-screen and allow                                                             you to have multiple documents open simultaneously)
Ctrl+A                                      Select all items in a document or window
Ctrl+C (or Ctrl+Insert)             Copy the selected item
Ctrl+D (or Delete)                     Delete the selected item and move it to the Recycle Bin
Ctrl+R (or F5)                             Refresh the active window
Ctrl+V (or Shift+Insert)             Paste the selected item
Ctrl+X                                    Cut the selected item
Ctrl+Y                                    Redo an action
Ctrl+Z                                   Undo an action
Ctrl+Right arrow                  Move the cursor to the beginning of the next word
Ctrl+Left arrow                  Move the cursor to the beginning of the previous word
Ctrl+Down arrow                  Move the cursor to the beginning of the next paragraph
Ctrl+Up arrow                  Move the cursor to the beginning of the previous paragraph
Ctrl+Alt+Tab                         Use the arrow keys to switch between all open apps

Ctrl+arrow key (to move to an item)+Spacebar Select multiple individual items in a window or onthe desktop

Ctrl+Shift with an arrow key    Select a block of text

Ctrl+Esc                                    Open Start

Ctrl+Shift+Esc                    Open Task Manager

Ctrl+Shift                            Switch the keyboard layout when multiple keyboard layouts are  available

Ctrl+Spacebar                            Turn the Chinese input method editor (IME) on or off

Shift+F10                             Display the shortcut menu for the selected item


Shift with any arrow key    Select more than one item in a window or on the desktop, or select      text within a document

Shift+Delete                            Delete the selected item without moving it to the Recycle Bin first

Right arrow                            Open the next menu to the right, or open a submenu

Left arrow                            Open the next menu to the left, or close a submenu

Esc                                            Stop or leave the current task

Microsoft Windows 10 useful Shortcut with Windows logo key  

Windows logo key                   Open or close Start

Windows logo key +A          Open Action center

Windows logo key+B              Set focus in the notification area

Windows logo key +C             Open Cortana in listening mode

Note  Cortana is only available in certain countries/regions, and some Cortana features might not be available everywhere. If Cortana isn’t available or is turned off, you can still use search.

Windows logo key+D           Display and hide the desktop

Windows logo key+E   Open File Explorer

Windows logo key+G   Open Game bar when a game is open

Windows logo key+H   Open the Share charm

Windows logo key+I   Open Settings

Windows logo key+K   Open the Connect quick action

Windows logo key +L Lock your PC or switch accounts

Windows logo key +M Minimize all windows

Windows logo key+O   Lock device orientation

Windows logo key +P Choose a presentation display mode

Windows logo key+R   Open the Run dialog box


Windows logo key +S         Open Search

Windows logo key+T   Cycle through apps on the taskbar

Windows logo key +U Open Ease of Access Center

Windows logo key +V Cycle through notifications

Windows logo key+Shift+V   Cycle through notifications in reverse order

Windows logo key+X   Open the Quick Link menu

Windows logo key +Z Show the commands available in an app in full-screen mode

Windows logo key +comma (,) Temporarily peek at the desktop

Windows logo key+Pause   Display the System Properties dialog box

Windows logo key+Ctrl+F   Search for PCs (if you’re on a network)

Windows logo key +Shift+M         Restore minimized windows on the desktop

Windows logo key +number Open the desktop and start the app pinned to the taskbar in the     position indicated by the number. If the app is already running,switch to that app.

Windows logo key+Shift+number   Open the desktop and start a new instance of the app pinned  to the taskbar in the position indicated by the number

Windows logo key +Ctrl+number Open the desktop and switch to the last active window of app pinned to the taskbar in the position indicated by the number

Windows logo key +Alt+number Open the desktop and open the Jump List for the app pinned    to the taskbar in the position indicated by the number

Windows logo key+Ctrl+Shift+number   Open the desktop and open a new instance of the app       located at the given position on the taskbar as an administrator

Windows logo key+Tab                        Open Task view

Windows logo key+Ctrl+B           Switch to the app that displayed a message in the notification area

Windows logo key+Up arrow   Maximize the window

Windows logo key+Down arrow  Remove current app from screen or minimize the desktop window

Windows logo key+Left arrow   Maximize the app or desktop window to the left side of the screen

Windows logo key+Right arrow   Maximize the app or desktop window to the right side of the screen

Windows logo key+Home   Minimize all but the active desktop window (restores all windows on second stroke)

Windows logo key+Shift+Up arrow   Stretch the desktop window to the top and bottom of the screen

Windows logo key+Shift+Down arrow   Restore/minimize active desktop windows vertically, maintaining width

Windows logo key +Shift+Left arrow or Right arrow Move an app or window in the desktop from one monitor to another

Windows logo key +Spacebar Switch input language and keyboard layout

Windows logo key+Ctrl+Spacebar   Change to a previously selected input

Windows logo key+Enter   Open Narrator

Windows logo key +forward slash (/) Initiate IME reconversion

Windows logo key+plus (+) or minus (-)   Zoom in or out using Magnifier

Windows logo key+Esc   Exit Magnifier

Some other useful Shortcut for Windows 10


Ctrl+C (or Ctrl+Insert) Copy the selected text


Ctrl+V (or Shift+Insert) Paste the selected text

Ctrl+M                         Enter Mark mode

Alt+selection key     Begin selection in block mode

Arrow keys               Move the cursor in the direction specified

Page up                    Move the cursor by one page up

Page down                Move the cursor by one page down

Ctrl+Home (Mark mode) Move the cursor to the beginning of the buffer

Ctrl+End (Mark mode)        Move the cursor to the end of the buffer

Ctrl+Up arrow                 Move up one line in the output history

Ctrl+Down arrow             Move down one line in the output history

Ctrl+Home (History navigation) If the command line is empty, move the viewport to the top of the buffer. Otherwise, delete all the characters to the left of the cursor in the command line.

Ctrl+End (History navigation) If the command line is empty, move the viewport to the command line. Otherwise, delete all the characters to the right of the cursor in the command line.

F4 Display the items in the active list

Ctrl+Tab Move forward through tabs

Ctrl+Shift+Tab Move back through tabs

Ctrl+number (number 1-9) Move to nth tab

Tab Move forward through options

Shift+Tab Move back through options

Alt+underlined letter Perform the command (or select the option) that goes with that letter

Spacebar Select or clear the check box if the active option is a check box

Backspace Open a folder one level up if a folder is selected in the Save As or Open dialog box

Arrow keys Select a button if the active option is a group of option buttons

Alt+D Select the address bar

Ctrl+E Select the search box

Ctrl+F Select the search box

Ctrl+N Open a new window
Ctrl+W Close the current window

Ctrl+mouse scroll wheel Change the size and appearance of file and folder icons

Ctrl+Shift+E Display all folders above the selected folder

Ctrl+Shift+N Create a new folder

Num Lock+asterisk (*) Display all subfolders under the selected folder

Num Lock+plus (+) Display the contents of the selected folder

Num Lock+minus (-) Collapse the selected folder

Alt+P Display the preview pane

Alt+Enter Open the Properties dialog box for the selected item

Alt+Right arrow View the next folder

Alt+Up arrow View the folder that the folder was in

Alt+Left arrow View the previous folder

Backspace View the previous folder

Right arrow Display the current selection (if it’s collapsed), or select the first subfolder

Left arrow Collapse the current selection (if it’s expanded), or select the folder that the folder was
in

End                               Display the bottom of the active window

Home                  Display the top of the active window

F11                          Maximize or minimize the active window

Windows logo key+Tab             Open Task view

Windows logo key+Ctrl+D   Add a virtual desktop

Windows logo key+Ctrl+Right arrow   Switch between virtual desktops you’ve created on the right

Windows logo key+Ctrl+Left arrow   Switch between virtual desktops you’ve created on the left

Windows logo key+Ctrl+F4   Close the virtual desktop you’re using

Shift+click a taskbar button          Open an app or quickly open another instance of an app

Ctrl+Shift+click a taskbar button   Open an app as an administrator

Shift+right-click a taskbar button Show the window menu for the app

Shift+right-click a grouped taskbar button Show the window menu for the group

Ctrl+click a grouped taskbar button Cycle through the windows of the group

Right Shift for eight seconds Turn Filter Keys on and off

Left Alt+left Shift+Print Screen Turn High Contrast on or off

Left Alt+left Shift+Num Lock Turn Mouse Keys on or off

Shift five times Turn Sticky Keys on or off

Num Lock for five seconds Turn Toggle Keys on or off

Windows logo key+U   Open the Ease of Access Center

Windows logo key+plus (+) or minus (-)   Zoom in or out

Ctrl+Alt+Spacebar                       Preview the desktop in full-screen mode
Ctrl+Alt+D                              Switch to docked mode
Ctrl+Alt+F                              Switch to full-screen mode
Ctrl+Alt+I                               Invert colors
Ctrl+Alt+L                               Switch to lens mode
Ctrl+Alt+R                               Resize the lens
Ctrl+Alt+arrow keys               Pan in the direction of the arrow keys
Windows logo key+Esc                Exit Magnifier

Windows logo key+Enter   Open Narrator

Spacebar or Enter                 Activate current item

Tab and arrow keys   Move around on the screen
Ctrl                                 Stop reading
Caps Lock+D                 Read item
Caps Lock+M          Start reading
Caps Lock+H           Read document
Caps Lock+V           Repeat phrase
Caps Lock+W          Read window

Caps Lock+Page Up or Page Down Increase or decrease the volume of the voice

Caps Lock+plus (+) or minus (-) Increase or decrease the speed of the voice

Caps Lock+Spacebar Do default action

Caps Lock+Left or Right arrows Move to previous/next item

Caps Lock+F2 Show commands for current item

Press Caps Lock twice in quick succession Turn Caps Lock on or off

Caps+Esc Exit Narrator

Tap once with two fingers Stop Narrator from reading

Tap three times with four fingers Show all Narrator commands (including the ones not in this list)

Double-tap Activate primary action

Triple-tap Activate secondary action

Touch or drag a single finger Read what’s under your fingers

Flick left/right with one finger Move to next or previous item

Swipe left/right/up/down with two fingers Scroll

Swipe down with three fingers Start reading on explorable text

मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. और आप अब  Microsoft Windows 10 Shortcut keys को अच्छी तरह से जान गए होंगे.यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने मित्रो के साथ सोशल मीडिया facebook, twitter, google plus पर जरुर शेयर करें.

रविवार, 27 अगस्त 2017

Photoshop cs6 keyboard shortcuts [Hindi]

अगस्त 27, 2017 1
Photoshop-cs6-keyboard-shortcuts-[Hindi]
दोस्तों आज हम आप लोगो को adobe photoshop cs6 keyboard shortcut के बारे में बताने वाले है जिनके द्वारा आप अपने फोटोशॉप  के कार्य को और भी आसानी से कर सकते है. यदि आप मैक कंप्यूटर इस्तेमाल कर रहे है तो आप Option button का इस्तेमाल कीजिये, और यदि windows कंप्यूटर का इस्तेमाल कर रहे है तो आप ALTL button का इस्तेमाल कीजिये. क्योकि windows का ALT button mac कंप्यूटर के Option नाम से होता है. और windows के CTRL button, mac कंप्यूटर के CMD button के बराबर होता है.

Tools

V    Move
M    Marquee tools
L    Lasso tools
W    Quick Selection, Magic Wand
C    Crop and Slice Tools
I    Eyedropper, Color Sampler, Ruler, Note, Count
J    Spot Healing Brush, Healing Brush, Patch, Red Eye
B    Brush, Pencil, Color Replacement, Mixer Brush
S    Clone Stamp, Pattern Stamp
Y    History Brush, Art History Brush
E    Eraser tools
G    Gradient, Paint Bucket
O    Dodge, Burn, Sponge
P    Pen tools
T    Type tools
A    Path Selection, Direct Selection
U    Rectangle, Rounded Rectangle, Ellipse, Polygon, Line, Custom Shape
K    3D Tools
N    3D Camera Tools
H    Hand
R    Rotate
Z    Zoom
D    Default colors
X    Switch Foreground and Background colors
Q    Quick Mask Mode

Selecting

Draw Marquee from Center    Option-Marquee
Add to a Selection    Shift
Subtract from a Selection    Option
Intersection with a Selection    Shift-Option
Make Copy of Selection w/Move tool    Option-Drag Selection
Make Copy of Selection when not in Move tool    Cmd-Option-Drag Selection
Move Selection (in 1-pixel Increments)    Arrow Keys
Move Selection (in 10-pixel Increments)    Shift-Arrow Keys
Select all Opaque Pixels on Layer    Cmd-Click on Layer Thumbnail (in Layers panel)
Restore Last Selection    Cmd-Shift-D
Feather Selection    Shift-F6
Move Marquee while drawing selection    Hold Space while drawing marquee

Viewing

Fit on Screen    Double-click on Hand tool or Cmd-0
100% View Level (Actual Pixels)    Double-Click on Zoom Tool or Cmd-Option-0
Zoom in    Cmd-Space-Click or Cmd-Plus(+)
Zoom out    Option-Space-Click or Cmd-Minus(–)
Hide all tools and panels    Tab
Hide all panels except Toolbox and Options bar    Shift-Tab
Rotate through full screen modes    F
Scroll image left or right in window    Cmd-Shift-Page Up/Down
Jump/Zoom to part of Image    Cmd-drag in Navigator panel
Toggles layer mask on/off as rubylith    \

Layer Shortcuts

Create new layer    Cmd-Shift-N
Select non-contiguous layers    Cmd-Click layers
Select contiguous layers    Click one layer, then Shift-Click another layer
Delete Layer    Delete key
View contents of layer mask    Option-Click layer mask icon
Temporarily turn off layer mask    Shift-Click layer mask icon
Clone layer as you move it    Option-Drag
Find/Select layer containing object    Control-Click on object w/Move tool
Change layer opacity    Number keys (w/Move tool selected)
Cycle down or up through blend modes    Shift-Plus(+) or Minus(–)
Change to a specific blend mode    (w/Move tool) Shift-Option-letter (ie: N=Normal, M=Multiply. etc.)
Switch to layer below/above current layer    Option-[ or Option-]
Move layer below/above current layer    Cmd-[ or Cmd-]

Type Shortcuts

Select all text on layer    Double-Click on T thumbnail in Layers panel
Increase/Decrease size of selected text by 2pts    Cmd-Shift->/<
Increase/Decrease size of selected text by 10 pts    Cmd-Option-Shift->/<
Increase/Decrease kerning/tracking    Option-Right/Left Arrow
Align text left/center/right    Cmd-Shift-L/C/R

Painting

Fill selection with background color    Cmd-Delete
Fill selection with foreground color    Option-Delete
Fill selection with foreground color using Lock Transparent Pixels    Option-Shift-Delete
Fill selection with source state in History panel    Cmd-Option-Delete
Display Fill dialog box    Shift-Delete
Sample as background color    Option-Click w/Eyedropper tool
To get Move tool    While in any painting/editing tool-hold Cmd
To get Eyedropper with Paint tools    Option
Change paint opacity (with Airbrush OFF)    Number keys
Change paint opacity (with Airbrush ON)    Shift-Number keys
Change Airbrush flow (with Airbrush ON)    Number keys
Change Airbrush flow (with Airbrush OFF)    Shift-Number keys
Cross-Hair Cursor    Any painting/editing tool-turn Caps Lock on
Decrease/Increase Brush Size    [ or ]
Decrease/Increase Hardness of Brush    Shift-[ or Shift-]
Switch between preset Brushes    < or >
Open Brushes pop-up panel    Ctrl-Click in Image window
Erase to History panel's source state    Option-Eraser
Cycle down or up through blend modes    Shift-Plus(+) or Minus(–)
Change to a specific blend mode    Shift-Opt-letter (ie: N=Normal, M=Multiply, etc.)
Create fixed color target from within a dialog box    Shift-Click in image window
Delete fixed color target    Option-Click on target with Color Sampler tool
Create new spot-color channel from current selection    Cmd-Click on New Channel button in Channels panel

Pen Tool Shortcuts

To get Direct Selection tool while using Pen    Cmd
Switch between Add-Anchor and Delete-Anchor Point tools    Option
Switch from Path Selection tool to Convert Point tool when pointer is over anchor point    Cmd-Option
To Select a whole path w/Direct Selection tool    Option-click
Convert path to a selection    Cmd-click on path name (in Paths panel)

Panel Shortcuts

Show/Hide Brushes panel    F5
Show/Hide Color panel    F6
Show/Hide Layers panel    F7
Show/Hide Info panel    F8
Show/Hide Actions panel    Option-F9
Open Adobe Bridge    Cmd-Option-O

Other Shortcuts

Switch between open documents    Cmd-tilde(~)
Undo or Redo operations beyond last one    Cmd-Option-Z/-Shift-Z
Apply Last Filter    Cmd-F
Opens Last Filter Dialog Box    Cmd-Option-F
Hand Tool    Spacebar
Reset Dialog Box    Hold Option, Cancel turns into Reset Button, Click it
Increase/Decrease value (in any option field) by 1 unit    Up/Down Arrow
Increase/Decrease value (in any option field) by 10 units    Shift-Up/Down Arrow
Repeat Last Transformation    Cmd-Shift-T
Measure Angle between Lines (Protractor Function)    After ruler is drawn, Option-Drag end of line with Ruler Tool
Move Crop Marquee while creating    Hold Space while drawing
Snap Guide to Ruler ticks    Hold Shift while dragging
Highlight Fields in Options bar (n/a for all tools)    Return
Don't Snap object edge while moving    Hold Control while dragging
मुझे उम्मीद है की आप का यह पोस्ट Photoshop cs6 keyboard shortcuts [Hindi] आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करें.

शनिवार, 26 अगस्त 2017

Blogging aur Youtube me se Kisko Chune, Kisme hai Jyada Fayda?

अगस्त 26, 2017 3
 Blogging-aur-Youtube
दोस्तों यदि आप भी Blogging aur Youtube में कैरियर बनाने के लिए सोच रहे है और कंफ्यूज है की किसको एक कैरियर की तरह से चुने तो आज का यह आर्टिकल आप ही के लिए है और यदि आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ लेंगे तो आप का सारा confusion दूर हो जायेगा. और आप एक दम से फ्रेश होकर अपने पसंद के अनुसार किसी एक को कैरियर की तरह चुन सकते है. इसीलिए आज हम आपको blogging और youtube दोनो के बारे में डिटेल से बताऊंगा Blogging aur Youtube/Vlog me kya antar hai?

Blogging kya hai?

Blog असल में weblog शब्द से लिया गया है. यह एक ऑनलाइन डायरी या जर्नल की तरह से होता है. यह पूरी तरह से टेक्स्ट आधारित होता है.
blogging में आपको एक वेबसाइट किसी डोमेन या subdomain के साथ बनाना होता है और उस पर आपको डेली या वीकली या अपने समयानुसार पोस्ट लिख कर डालना होता है. यदि आप चाहे तो किसी कंटेंट राइटर को भी hire करके पोस्ट लिखवा सकते है. और यदि आप खुद भी लिख सके तो यह बहुत ही बेहतर बात है.आप किसी भी एक टॉपिक को सेलेक्ट करके उस टॉपिक पर आर्टिकल लिख कर पब्लिश कर सकते है.


Blogging ke liye requirment

  • Domain name और hosting खरीदनी पड़ेगी.
  • Writing की जानकारी होनी चाहिए और यदि आप खुद write नहीं करना जानते है तो किसी कंटेंट राइटर को hire करना होगा और उसे भी पेमेंट करना पड़ेगा.
  • आपको रेगुलर पोस्ट लिख कर अपलोड करना पड़ेगा.
  • SEO (Search engine optimization) की अच्छी जानकारी होनी चाहिए.

Youtube kya hai?

Youtube एक vlog है जो पूरी तरह से विडियो पर आधारित होता है. और इसमे आपको विडिओ के द्वारा ही अपने दर्शको को जानकारी दिया जाता है.
अब जहा तक बात youtube की है तो इसमे आप को किसी भी एक विषय पर विडिओ बनाना होता है और youtube पर एक चैनल क्रिएट कर के उस पर उस विडियो को पब्लिश करना होता है. इसमे भी विडियो को आप खुद भी शूट कर सकते है या किसी की सहायता से शूट कर सकते है.

Youtube channel ke liye requirement

  • आपके पास एक बढ़िया कैमरा होना चाहिए
  • video एडिटिंग की जानकारी होनी चाहिए.
  • Youtube SEO की जानकारी होनी चाहिए.
  • यदि requirement के हिसाब से देखा जाये तो आपको पता लग जायेगा की youtube पर चैनल बनाना ज्यादा आसान है. लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए की सब चीजों की तरह से इनमे भी कुछ पॉजिटिव बातो के साथ कुछ negative बाते भी है.

Blogging vs Youtube/Vlog या Blogging aur Youtube/Vlog me Antar kya hai?

  1. Blogging टेक्स्ट आधारित होता है और इसमे आप टेक्स्ट के साथ इमेजेज का प्रयोग तो कर सकते है लेकिन अपनी बातो को टेक्स्ट के द्वारा ही लोगो को बताई जाती है.
  2. जबकि Youtube में अपनी बातो को केवल  विडियो के साथ ही पेश किया जा सकता है. इसी कारण इसे Vlog या video blog भी कहते है.
  3. Blogging के लिए hosting और एक domain  का होना जरुरी है.जबकि youtube/Vlog  के लिए होस्टिंग और domain की जरुरत नहीं होती है. इसे gmail ID के द्वारा youtube.com पर चैनल फ्री में क्रिएट किया जा सकता है.
  4. Youtube में revenue के लिए केवल एक ही ad network adsense है. जबकि blog के लिए बहुत से ad network मौजूद है. जिनका इस्तेमाल करके आप revenue बना सकते है.
  5. Youtube के लिए बहुत ज्यादा जानकारी की जरुरत नहीं होती है. इसके लिए आपको अपने टॉपिक के सिवाय विडियो एडिटिंग आनी चाहिए. जबकि ब्लॉग्गिंग में आपको SEO, backlinks, domain, Hosting, theme की भी जानकारी होनी चाहिए.
  6. Blog पर व्यूज Youtube/ Vlog के अपेक्षा कम होता है. Vlog पर व्यूज बहुत जल्द ही मिलियन में पहुच जाते है. जबकि Blog में ऐसा होने में बहुत समय लग जाता है.
  7. Blog का CPC (Cost per Click) RPM( 1000 ad view par earning) ज्यादा होता है. इसीलिए इस पर कम विजिट होने पर भी कमाई ज्यादा हो सकती है. लेकिन youtube पर CPC और RPM कम होने के कारण ज्यादा व्यूज होने पर ही अच्छी कमाई हो सकती है. 
  8. Blog में आप कई जगह पर ad लगा कर कर कम व्यूज में भी अच्छी कमाई कर सकते है लेकिन youtube पर अप ऐसा नहीं कर सकते है.

Blogging aur Youtube me se Kisko Chune,  Kisme hai Jyada kamaai?

जहा तक बात सेलेक्ट करने की है तो आप किसी भी को चुन सकते है लेकिन आप उसी को चुने जिसमे आपका इंटरेस्ट हो यदि आप यह सोच कर की इस क्षेत्र में ज्यादा कमाई है तो उसी को करेंगे तो आप कुछ ही दिन में उसे छोड़ देंगे. क्योकि आपका ध्यान सिर्फ पैसो पर रहेगा और जब भरपूर पैसा नहीं आएगा तो आपका मन काम करने ने नहीं लगेगा.
आप उसको चुनिए जिसमे आप का मान हो और उसे आप आसानी से कई सालो तक कर सके. लेकिन मेरा यह सलाह है की आप किसी को भी चुने लेकिन फुल टाइम कैरियर की तरह से किसी को भी सेलेक्ट न करें. इसे हमेशा एक पार्ट टाइम कैरियर की तरह से ही शुरू करें और जब बाद में आप इस क्षेत्र में सफल हो जाये तो इसे फुल टाइम कर सकते है.
नाम, दाम और शोहरत तो यह दोनों में ही है लेकिन इस क्षेत्र में असफलता का ज्यादा चांस है, क्योकि यह कोई जॉब नहीं है. इसमे यदि अपने मन से काम नहीं किया तो सफलता कई वर्षो तक नहीं मिल सकती है.

Conclusion

और अंत में मैं यही कहूँगा की आप एक साथ दोनों को ही शुरू कर सकते है. लेकिन इसे एक सीरियस जॉब की तरह करें तो आपको सफलता जरुर मिल सकती है.
मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Blogging aur Youtube me se Kisko Chune,  Kisme hai Jyada kamaai? जरुर पसंद आया होगा और अब आप जान गए होने की Blogging aur Youtube/Vlog me kya antar hai? यदि पोस्ट आपको पसंद आया है तो आप इसे अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करे.

शुक्रवार, 25 अगस्त 2017

Blog ka Loading Time Kaise Kam Kare, 5 Killer Tips

अगस्त 25, 2017 0
Blog-ka-Loading-Time
दोस्तों क्या आप जानते है की Blog ka Loading Time Kaise Kam Kare अगर जानते है तो ठीक है यदि नहीं पता है तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने वाले है की कैसे हमने ब्लॉग के page load टाइम को कम सकते है और विजिटर को बाउंस करने से रोक सकते है.
सबसे पहले तो हमें यह पता होना चाहिए की blog ka loading time kya hota hai?


blog ka loading time kya hai?

दरअसल ब्लॉग का लोडिंग टाइम वह टाइम होता है जो यूजर URL को browser में टाइप करके enter प्रेस करता है और उसके बाद जितने समय में ब्लॉग पूरी तरह से browser में load हो जाती है.
अब यह दो बातो पर निर्भर करती है.  इंटरनल फैक्टर और दूसरा एक्सटर्नल फैक्टर इंटरनल फैक्टर में server response time, caching, DNS response time
और दूसरा एक्सटर्नल फैक्टर जो  विजिटर के साथ जुड़े होते है. जैसे की यूजर द्वारा उसे की रही इन्टरनेट की स्पीड,

blog ka loading time kam kyo hona chahiye isase kya fayda hai?

अब चुकी एक्सटर्नल फैक्टर पर हम लोगो का कोई वश नहीं चलता है. क्योकि हम इन्टरनेट की स्पीड को घटा या बढ़ा नहीं सकते है. इसीलिए हमें अपने वेबसाइट या ब्लॉग को की सेटिंग और डिजाईन ऐसी करनी चाहिए की ब्लॉग का लोडिंग टाइम कम से कम हो.
क्योकि यह SEO की दृष्टि से भी बहुत ही बढ़िया बात है. क्योकि  किसी ब्लॉग का page load टाइम जितना ही कम होगा वह सर्च इंजन रिजल्ट page में उतना ही हाई रैंक करेगी.
अब हम आपको कुछ ऐसे तरीके बता रहे है जिनको आप अपना कर अपने ब्लॉग के page load टाइम को कम कर सकते है या दुसरे शब्दों में कही तो आप अपने ब्लॉग का लोडिंग स्पीड बढ़ा सकते है.
website या Blog की loading Time  को कम करने के Methods या तरीके

Widget का कम से कम इस्तेमाल

आपका ब्लॉग wordpress पर हो या blogger पर यदि आप बहुत ज्यादा विजेट का इस्तेमाल करेंगे तो आपके ब्लॉग का page load टाइम बढ़ जायेगा और उसके load होने में ज्यादा समय लगाने लगेगा. जिससे  यूजर आपके ब्लॉग या वेबसाइट से बाउंस कर जायेगा. और दुबारा लौट कर नहीं आएगा.
अपने ब्लॉग पर यदि आप पॉपअप का इस्तेमाल करते है तो आपके page load टाइम ज्यादा हो जायेगा इसलिए मेरा मन्ना है की अपने ब्लॉग पर पॉपअप का इस्तेमा न करे ताकि वेबसाइट या ब्लॉग जल्दी यूजर के browser में load हो जाये. और विजिटर को एक अच्छा यूजर एक्सपीरियंस मिले और आपका SEO बेहतर हो जाये.

Website ya Blog par Simple Theme ka istemaal kare

आप अपने ब्लॉग के लुक को यूनिक रखने के लिए बहुत हैवी डिजाईन का इस्तेमाल न करे आप अपने ब्लॉग का डिजाईन ऐसा रखे की उसमे कम से कम जावा स्क्रिप्ट का इस्तेमाल किया गया हो क्योकि ज्यादा स्क्रिप्ट से डिजाईन हैवी हो जाती है जिससे वेबसाइट की स्पीड कम हो जाती है.

Images Compression

किसी भी वेबसाइट के लोडिंग स्पीड को कम करने में सबसे ज्यादा हाथ इमेज का ही होता है. विसुअल एलिमेंट के द्वारा वेबसाइट या ब्लॉग का लोअद्टिंग स्पीड काफी कम हो जाता है. इसलिए मेरा सुझाव है की आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर इमेज को हमेशा कम्प्रेश करके ही इस्तेमाल करें.
आप इमेज को कॉम्प्रेस करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट पेंट का इस्तेमाल कर सकते है और अपने ब्लॉग के लिए सभी इस्तेमाल होने वाले इमेज को कम्प्रेश कर सकते है.

Home Page par jyada Post Show nahi karna chahiye

यदि आप चाहते है की आपका ब्लॉग या वेबसाइट यूजर के browser में बहुत जल्दी load हो जाये तो उसके लिए आप अपने ब्लॉग के होम page पर पोस्ट की संख्या मात्र 5 ही रखे  इसके द्वारा भी आप अपने वेबसाइट के page load टाइम को कम कर सकते है.
क्योकि ज्यादा पोस्ट शो करेंगे तो ज्यादा इमेजेज भी शो होंगी और आप जानते ही है की इमेजेज load होने में ज्यादा समय लेती है जिससे आपके वेबसाइट का स्पीड कम हो जायेगा और आप का ब्लॉग load होने में ज्यादा समय लेगा.

बेहतर hosting ka istemaal

यदि आप का ब्लॉग ब्लॉगर पर है तो यह सेर्विस google का है और इसमे यदि आप बहुत ज्यादा विजेट का इस्तेमाल नहीं करते है तो आपको स्पीड के बारे में कोई प्रॉब्लम नहीं होती है.  लेकिन यदि आप wordpress का इस्तेमाल कर रहे है तो आपको एक अच्छी कंपनी का होस्टिंग सर्विस लेना होगा जिससे आप के यूजर को अच्चा एक्सपीरियंस हो.
आप कभी भी किसी ऐसे होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर को सेलेक्ट करे जिस का response time 200 ms से कम हो ताकि आपका वेबसाइट का लोडिंग टाइम कम हो.

Conclusion

ऊपर बताये गए तरीको का इस्तेमाल करके आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट का लोडिंग  time को बहुत हद तक कम कर सकते है. जिससे विविजिटर  को एक अच्छा यूजर एक्सपीरियंस मिलेगा. और वह आपके साईट का डेली विजिटर बन जायेगा.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का यह आर्टिकल Blog ka Loading Time Kaise Kam Kare, 5 Killer Tips जरुर पसंद आया होगा और आप यह अच्छी तरह से जान गए होंगे की blog ka loading time kam kyo hona chahiye isase kya fayda hai? यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो आप इसे अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करे.

बुधवार, 23 अगस्त 2017

Top 10 Important Ranking Factor for Google SERP [Hindi]

अगस्त 23, 2017 0
Top-10-Ranking-factor
दोस्तों आज हम आप लोगो को दस ऐसे टिप्स बताएँगे जिनको अपना कर आप अपने ब्लॉग पोस्ट को google SERP में हमेशा टॉप पर रख सकते है. चुकी नए ब्लॉगर के साथ यह एक समस्या होती है की उनकी ब्लॉग पोस्ट google में top position पर नहीं रैंक कर पाती है. जिससे उन्हें निराशा होती है. तो अब आप लोगो को कतई निराश होने की जरुरत नहीं है. हम आप लोग को बताएँगे Top 10 important factor for top ranking in Google SERP [Hindi].
नए ब्लॉगर सोचते है की हमने तो आर्टिकल बढ़िया लिखा. उसमे इमेजेज का इस्तेमाल भी किया लेकिन तब भी हमारा ब्लॉग पोस्ट google में रैंक नहीं किया. आखिर क्यों. आज आप लोगो को इस क्यों का जवाब इस पोस्ट में मिल जायेगा


google me top par rank kaise kare? or Blog post ko google me top par kaise laye?

नए ब्लॉगर अक्सर on page SEO तो करते है. लेकिन उन्हें शायद ही पता हो की google किसी page को रैंक करने से पहले 200 से अधिक फैक्टर की जाँच करता है. और उनके आधार पर ही ब्लॉग पोस्ट को रैंक करता है. और उसमे से जो top के 10 फैक्टर आज हम आप लोगो को बताने वाले है जिनसे आप भी अपने ब्लॉग के पोस्ट को रैंक करा सकते है.

#1 Page Authority

दरअसल page authority किसी ब्लॉग के page की वैल्यू होती है. यदि आप अपने ब्लॉग के page को सही ढंग से मैनेज करे तो यह बढ़ सकती है जैसे की heading tag H1, H2, H3, H4 का सही ढंग से इस्तेमाल, page में इमेजेज का ALT tag के साथ यूज़ करें.
अपने page को दुसरे page से लिंक करें. और इसके साथ ही अपने इस page का backlinks भी भी दिलाये.

#2 Page Load Time

यदि आप का page load टाइम ज्यादा है तो विजिटर आपके ब्लॉग से बाउंस कर जायेंगे. और जब आपके ब्लॉग का बाउंस रेट ज्यादा होगा तो आपक page google में  रैंक नहीं करेगा.
आप खुद भी उस वेबसाइट को देखना पसंद नहीं करते होंगे जो ज्यादा समय में load होती होगी. google भी इस बात को ध्यान में रखता है और जिस ब्लॉग का page load टाइम ज्यादा होता है उसे यह रैंक नहीं करने देता है.

#3  Responsive Design

आप यदि चाहते है की आपका ब्लॉग google में रैंक करें तो आपको अपने ब्लॉग का डिजाईन रेंपोसिवे रखना होगा. ताकि आपके यूजर जितनी आसानी से उसे डेस्कटॉप पर इस्तेमाल कर सकते है वह उतने ही आसानी से मोबाइल में भी इस्तेमाल कर सके.
एक अच्चा यूजर इंटरफ़ेस आपको google में रैंक करने में सहायक हो सकता है.

#4 Ads का सही जगह पर इस्तेमाल

यदि आप अपने ब्लॉग के page में बहुत ज्यादा adsका इस्तेमाल करते है तो यह यूजर को परेशां कर देती है. इसके लिए आपको अपने page में ads की संख्या बहुत ज्यादा नहीं रखनी चाहिए. isase यूजर यह समझ ही नहीं पाते है की ads कौन सा है और पोस्ट कौन सा है. ऐसे में विजिटर ब्लॉग को छोड़ कर चले जाते है.
यह भी एक वजह होती है google मे रैंक नहीं होने का. यदि आप चाहते है की आपका page google में top पर रैंक करे तो आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना होगा की आपका ब्लॉग neat & clean हो.

#5 Domain Authority

domain authority भी एक बहुत बड़ा फैक्टर है google के top page पर top रैंकिंग पाने के लिए. यदि आप इसके बारे में ज्यादा नहीं जानते है तो मेरा आर्टिकल domain authority kya hai? जरुर पढ़े.
आपका DA जितना ज्यादा होगा , उतना ही जल्दी आपका page google में रैंक कर जायेगा.

#6 Keyword ka sahi tarike se istemaal

यदि आपका कीवर्ड डेन्सिटी 2.5 से ज्यादा है तो google आपको कीवर्ड स्पैमिंग समझ कर penalize कर सकता है इसीलिए सभी सक्सेसफुल ब्लॉगर अपने पोस्ट में 1.7 से लेकर 2.0 तक ही कीवर्ड का डेन्सिटी रखते है. और सबसे बड़ी बात की आप  अपने  टाइटल tag में कीवर्ड को जरुर इस्तेमाल करें.

#7 Unique Content

यदि आप किसी ऐसे विषय पर लिखते है जो एक दम से यूनिक हो तो वह आर्टिकल google में top पर रैंक कर जायेगा. लेकिन यदि आप किसी  की नक़ल कर के कुछ भी लिखते है तो वह रैंक नहीं करेगा. इसीलिए मैं अपने हर आर्टिकल में आप लोगो से कहता हूँ की आप किसी का नक़ल न करे. और अपना खुद काआर्टिकल लिखे.
यदि आप ऐसा करते है तो आपका ब्लॉग लोगो के बिच में फेमस भी हो जायेगा और और google भी इसे पसंद करेगा जिससे आप का आर्टिकल top पर रैंक करेगा.

# 8 Bounce rate

google में top पर रैंक करने के लिए ब्लॉग का बाउंस रेट कम होना चाहिए यदि बाउंस रेट ज्यादा होगा तो आपका ब्लॉग top पर रैंक नहीं करेगा.
बाउंस रेट को कम करने के लिए आप आर्टिकल को इस प्रकार से लिखे की विजिटर आपके आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए उत्सुक हो जाये. औए उसे पूरा पढ़े.. बाउंस रेट क्या है और इसे कैसे कम करे?

#9 Article length

यह बात तो सभी जानते है की जो आर्टिकल जितना बढ़ा होगा वह उतनियो जल्दी रैंक करेगा. यदि कोई वेबसाइट किसी पर 750 शब्द में आर्टिकल लिखी है और आप भी उसी टॉपिक पर 900 शब्द में आर्टिकल लिखेंगे तो आपका आर्टिकल SERP में पहले वेबसाइट से top पर होगा.  इसीलिए हमेशा यह कोशिश होनी चाहिए की आर्टिकल की लम्बाई ज्यादा होनी चाहिए.
लेकिन  आर्टिकल की लम्बाई ज्यादा करने के चक्कर में फालतू की चीज़े आर्टिकल में नहीं दाल देनी चाहिए. आप जिस भी टॉपिक पर लिखे उसे पूरी डिटेल के साथ और अच्छी तरह से समझा कर लिखे ताकि विजिटर उस टॉपिक को अच्छी तरह से जान जाये.

#10 Backlinks

यदि आपके ब्लॉग का backlinks नहीं है तो आप कितना भी बढ़िया आर्टिकल लिख ले वह पहले page पर तो आ जायेगा लेकिन top पर नहीं आएगा.  इसके आपको अपने ब्लॉग page के लिए backlinks बनाना होगा.
लेकिन इस बात का जरुर ध्यान दीजिये की आप का आर्टिकल जिस विषय पर हो backlinks भी उसी प्रकार से साईट से आणि चाहिए नहीं तो उसक लाभ आपको नहीं मिल पायेगा. यदि आप backlinks के बारे में नहीं जानते है तो आप यह backlink kya hai aur yah SEO ke liye kyo jaruri hai? जरुर पड़े .

Conclusion

यदि आप अपने विजिटर को अच्छा एक्सपीरियंस देंगे तो आपका ब्लॉग पोस्ट google में top पर रैंक करेगा. और यदि google को लगा की आप अपने विजिटर को बेहतर जानकारी और अनुभव दे रहे है तो यह आपके ब्लॉग को खुद ही SERP में top रैंक पर कर देगा.
मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Top 10 important factor for top ranking in Google SERP [Hindi] जरुर पसंद आया होगा. और आप यह जान गए होंगे की google search me top rank par kaise aaye. या
Blog post ko google me top par kaise laye? इसे आप अपने मित्रो के साथ social media पर जरुर शेयर करें.

मंगलवार, 22 अगस्त 2017

Successful Blogger Kaise Bane, Blogging Me Fail Hone ke 6 Karan.

अगस्त 22, 2017 0
Blogging-Me-Fail-Hone-ke-6-Karan.
दोस्तों आज हम आप लोगो को बताएँगे की Successful Blogger Kaise Bane, Blogging Me Fail Hone ke 6 Karan. जब हम ब्लोगिंग शुरू करते है तो यह सोचते है की इसमे हम बहुत ही जल्दी सफल हो जायेंगे. हम यह सोचते है की आज ब्लॉग शुरू किये कुछ आर्टिकल लिखे और उसे सोशल मीडिया पर शेयर किए और 5 से 10 दिन में ट्रैफिक आनी  शुरू हो जाएगी. अब यहाँ ब्लोगिंग से हम बहुत जल्दी पैसा कमाने लगेंगे और फेमस हो जायेंगे. लेकिन कुछ दिनों के ब्लोगिंग के बाद यह पता चलता है की अभी तक ब्लॉग पर इतनी ट्रैफिक नहीं हुई है की हम उससे अच्छी revenue कमा पायें. और हम इससे निराश होकर ब्लोगिंग को अलविदा कह देते है. और हमें लगता है की यह बहुत अच्छी चीज़ नहीं है.
यदि आप एक ब्लॉगर है या आप ब्लॉग शुरू करने के बारे में सोच रहे है तो आप मेरा आज का यह आर्टिकल जरुर पढ़े. यह आप ही के लिए है.


6 Mistake who destroy your blogging career [Hindi]

आज हम आप लोगो को blogging के उन 8 गलतियों के बारे में बताएँगे की जो आपके blogging कैरियर को ख़तम कर सकते है.

#1 SEO ki poori jankari na hona

जब आप blogging शुरू किये है या शुरू करने के बारे में सोचा रहे है तो पहले आप SEO (Search engine optimization) के बारे में जानकारी ले लीजिये. क्योकि यदि आपका आर्टिकल SEO फ्रेंडली नहीं होता तो वह सर्च इंजन में रैंक नहीं करेगा और आपके ब्लॉग पर आर्गेनिक ट्रैफिक नहीं आएगी.
आप जो आर्टिकल लिखते है उसके टाइटल को भी SEO फ्रेंडली लिखे और उसमे आप नंबर का इस्तेमाल करें, क्या, क्यों, कैसे शब्दों का इस्तेमाल करें और टाइटल के शुरू में कीवर्ड का इस्तेमाल करें. इन सब बातो का ध्यान रख कर आप एक SEO फ्रेंडली टाइटल लिख सकते है.
आप जब भी आर्टिकल लिखे तो उसमे यूज़ किये गए कीवर्ड की डेंसिटी हमेशा 1.7 से 2.0 तक ही रखे वैसे कुछ लोग कहते है की कीवर्ड की डेंसिटी 2.5 तक रख सकते है. लेकिन मेरा मानना है की कीवर्ड की डेनसिटी 2.0 या इससे कम ही रखना चाहिए.

#2 Kisi anya ke Article ko copy karna

मैं ऐसा मानता हूँ की नए ब्लॉगर इसी लिए ब्लॉग्गिंग में फ़ैल हो जाते है क्योकि वे दुसरे ब्लॉगर का आर्टिकल को कॉपी करके अपने ब्लॉग पर पेस्ट कर देते है. लेकिन आज यह जान लीजिये की कभी भी कॉपी पेस्ट करके ब्लॉग्गिंग में सफल नहीं हुआ जा सकता है.
यदि आप किसी अन्य ब्लॉगर के आर्टिकल को कॉपी पेस्ट करके अपने ब्लॉग पर पब्लिश कर देते है तो सर्च इंजन आपके ब्लॉग को स्पैम की लिस्ट में दाल कर उसे black listed कर देगा. जिससे आपका ब्लोगिंग कैरियर समाप्त हो जाता है.

#3  Hamesha traffic ke baare me sochna

जब हम ब्लोगिंग शुरू करते है तो दिन में बीस बार अपने ट्रैफिक स्टेटस को चेक करते है, और अपने दिमाग को खराब करते है. भाई मेरे यह ब्लॉग्गिंग है कोई चाय की दुकान नहीं है की आज आपने ओपन किया और कस्टमर आने लगे. ब्लॉग पर ट्रैफिक आने में समय लगता है.
जब आप बार बार अपने ट्रैफिक स्टेटस को देखते है तो कम ट्रैफिक होने पर आपके मन में एक निराशा जन्म लेती है और आपका मन नए आर्टिकल लिखने में नहीं लगता है. और यदि इस हालत में आप आर्टिकल लिखते भी है तो आप बहुत अच्छा नहीं कर पाएंगे.
इसीलिये कभी भी ट्रैफिक के बारे में न सोचे. जब आपका आर्टिकल बढ़िया होगा और आप कुछ ऐसा बताएँगे की लोगो को उससे फायदा हो. तो लोग आपके ब्लॉग पर खुद ही चले आयेंगे.

#4 Blog ka Design Resposive aur User friendly na Hona

यदि आप का ब्लॉग का डिजाईन यूजर फ्रेंडली नहीं है तो विजिटर एक बार आएंगे लेकिन फिर दुबारा नहीं आयेंगे. ब्लॉग का डिजाईन ऐसा होना चाहिए की किसी भी यूजर को कोई जानकारी इंस्टेंट मिल जाये.
ब्लॉग का डिजाईन रेस्पोंसिवे भी होना चाहिए क्योकि आजकल स्मार्ट फ़ोन का जमाना है और 80 प्रतिशत लोग अपने मोबाइल पर ही सर्फिंग करते है. यदि ब्लॉग का डिजाईन रेस्पोंसिव नहीं है तो विजिटर आपके ब्लॉग को पसंद नहीं करेंगे. और आप एक बड़े विजिटर वर्ग नाराज़ कर देंगे.


#5 Article ka promotion sahi dhang se na karna

नए ब्लॉगर आर्टिकल लिखते है और उसे पब्लिश कर देते है. उसके तुरंत बाद ही उस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर शेयर करना शुरू कर देते है. लेकिन इससे उन्हें कोई विशेष फायदा नहीं होता है. सबसे पहले तो आप यह जान ले की आर्टिकल को पब्लिश करने के तुरंत बाद ही उसे सोशल मीडिया पर नहीं डालना चाहिए.
सोशल मीडिया पर आर्टिकल को प्रमोट करने के लिए आप उसे दिन में दो बजे के बाद  शेयर करें और एक बार रात को दस बजे शेयर करें. क्योकि यही वह समय है जब लोग सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा सक्रीय रहते है.

#6 Article ko publish karane se pahle dubara padhe

नए ब्लॉगर अक्सर यह गलती कर देते है की वे आर्टिकल लिखते है और उसे तुरंत ही पब्लिश कर देते है लेकिन यह गलती उनके ब्लोगिंग कैरियर को बर्बाद कर सकती है.
जब भी आप आर्टिकल लिखे तो उसे कम्पलीट करने के बाद उसे सेव करके छोड़ से और कोई अन्य काम कर ले जिससे मूड फ्रेश हो जाये. और फिर उस लिखे हुए आर्टिकल को दुबारा से पढ़े और उसमे की स्पेलिंग और जो भी गलतिया हो उन्हें सुधार कर सही करने के पश्चात ही उसे पब्लिश करें.

Conclusion

यदि आप इन बताये गए गलतियों को सुधार लेते है तो आपका ब्लोगिंग कैरियर सक्सेस हो सकता है. और आप एक सक्सेसफुल ब्लॉगर बन सकते है. लेकिन मैं एक बार फिर आपको यह बताना चाहूँगा की इसमे सफल होने में थोडा समय लगता है. यदि आप धैर्य के साथ लगातार काम करते रहेंगे तो आप इसमे एक दिन जरुर सफल होंगे.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का यह आर्टिकल Successful Blogger Kaise Bane? Blogging Me Fail Hone ke 6 Karan जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ facebook, twitter पर जरुर शेयर करे.और यदि कोई सुझाव या शिकायत हो तो इसे कमेंट बॉक्स के जरिये हमें जरुर बताएं.

सोमवार, 21 अगस्त 2017

Blog Post ko Automatic Publish karne ke liye kaise Schedule kare?

अगस्त 21, 2017 1
blog-post-autometic-schedule
दोस्तों यदि आप ब्लॉगर है तो आप जानते ही होंगे की ब्लॉग पर डेली पोस्ट अपडेट करना कितना जरुरी होता है, लेकिन कभी कभी किसी कारणवश हम कही बाहर होते है, और उस समय पोस्ट को पब्लिश करना संभव नहीं होता है. तो हम सोचते है की आज हमारे विजिटर को कुछ नया पढ़ने को नहीं मिलेगा, और हमारे विजिटर निराश हो जायेंगे. तो चलिए हम आज आपकी इस परेशानी को दूर कर देते है और अआप लोगो को बताते है की Blog Post ko Automatic Publish karne ke liye kaise Schedule kare?
डेली ब्लॉग को अपडेट करना भी SEO की दृष्टि से बेहतर होता है. और पेज भी सर्च इंजन में जल्दी रैंक कर जाते है. जहा तक सर्च इंजन का ज्वाल है तो आप को बता दे की सभी सर्च इंजन प्रतिदिन अपडेट होने वाली ब्लॉग या वेबसाइट को काफी पसंद करता है. और यदि आप अपने ब्लॉग पर पोस्ट को एक निश्चित समय पर पब्लिश करते है तो यह भी SEO और सर्च इंजन रैंकिंग में फायदा दे सकता है.

रविवार, 20 अगस्त 2017

blog post ka title kaise likhe? 7 badiya tarike

अगस्त 20, 2017 0
blog-post-ka-title
दोस्तों यदि आप एक ब्लॉगर है तो आपको यह जरुर पता होगा की कैसे एक SEO Title ब्लॉग पोस्ट के लिए लिखना जरुरी होता है. और यदि आप ब्लॉग्गिंग शुरू करने की सोच रहे है तो आपको यह पता होना चाहिए की कैसे अपने ब्लॉग पोस्ट के लिए एक टाइटल लिखे जो लोगो को आकर्षित करे और SEO के लिए भी उपयुक्त हो. क्योकि यदि आप का पोस्ट कितना भी बढ़िया हो और आप उसका टाइटल बढ़िया नहीं रखते है तो लोग आपके उस पोस्ट को नहीं पढ़ते है. इसका सबसे बढ़ा कारण यह है की सबसे पहले लोग टाइटल को ही देखते है और उसी से अंदाजा लगते है की आपका पोस्ट कैसा है. तो चलिए आज हम आप लोगो को बताते है की blog post ka title kaise likhe? 7 badiya tarike.

7 Tips Post title likhne ke liye.

सभी लोग अपने ब्लॉग के लिए हमेशा एक यूनिक पोस्ट लिखने की कोशिस करते है और लिखते भी है. लेकिन फिर भी उनके ब्लॉग पर ट्रैफिक नहीं आती है. इसका सबसे बढ़ा कारण यह है की उस पोस्ट का टाइटल लोगो को आकर्षित नहीं कर पता है.  आज हम आप को बताते है की कैसे आप अपने ब्लॉग पोस्ट के लिए टाइटल लिखे.


#1 Title me Number ka istemal karen

आप हमेशा अपने ब्लॉग पोस्ट के टाइटल में अंको का इस्तेमाल करें. यह एक बढ़िया और बेहतर तरीका है. जिसके द्वारा आप अपने ब्लॉग पोस्ट के टाइटल को आकर्षित बना सकते है. आप अपने पोस्ट के कंडीशन के हिसाब से अपने टाइटल में अंको का प्रयोग कर सकते है. जैसे मैंने अपने इस ब्लॉग पोस्ट के टाइटल में 6 का प्रयोग किया हूँ.
7 Biggest Tech Myth in Hindi
Google Chrome Browser 12 Useful Tips and Tricks

#2 Kab, Kyo, Kaise ka jarur istemal karen

हमेशा यह कोशिश करें की आपके ब्लॉग पोस्ट टाइटल में कब क्यों कैसे जरुर आये. क्योकि रीडर हमेशा सर्च में इन शब्दो का इस्तेमाल करते है. इन शब्दों का इस्तेमाल करने से आपके ब्लॉग के विजिटर को आपका टाइटल आकर्षित कर लेगा और विजिटर आपका आर्टिकल पढ़ने के लिए जरुर आएगा.
USB kya hai? Universal Serial Bus 
UV Rays kya hai aur kya hai isake fayde?
OTG Cable ke TOP 10 Uses  

#3 Post Title ko Chhota rakhe.

यदि आपके ब्लॉग का टाइटल बहुत बढ़ा है तो भी आप उससे यह उम्मीद न करें की आपके उस आर्टिकल को पढ़ने के लिए ट्रैफिक आएगी. लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल  भी नहीं है की आप अपने ब्लॉग पोस्ट का टाइटल बहुत छोटा रखे. आप अपने ब्लॉग पोस्ट का टाइटल में  30-70 अक्षर का इस्तेमाल करें.
SEO kya hota hai
Backlinks Kya hota hai

#4 Post Title samsya ko hal karane wala hona chahiye

कोशिश करें की आपके पोस्ट का टाइटल विजिटर के प्रॉब्लम को सोल्व करने वाला होना चाहिए. पोस्ट टाइटल में आपके ब्लॉग पोस्ट का सार संक्षेप आ जाना चाहिए. अर्थात ब्लॉग पोस्ट का टाइटल ऐसा होना चाहिए की विजिटर को यह आईडिया लग जाये की इस आर्टिकल में क्या बताया गया है.
Nofollow Link or Dofollow Link

#5 Keyword ka istemal title ke shuru me hi karen

आप जब भी अपने ब्लॉग पोस्ट के लिए टाइटल लिखे तो टाइटल के शुरू में ही अपने आर्टिकल के कीवर्ड को लिख दे. यह बढ़िया SEO टेकनीक है. जिसके द्वारा सर्च इंजन को यह बताया जाता है की यह आर्टिकल किस टॉपिक पर आधारित है. या इस आर्टिकल में किस चीज़ के बारे में बताया गया है.
ransomware virus attack kya hai  
Calculator kaam kaise karte hai? 

#6 Post Title Clear Ho

ब्लॉग पोस्ट का टाइटल हमेशा क्लियर रखे और इसके साथ ही यह इस प्रकार से होना चाहिए की इसमे किस चीज़ के बारे में बताया गया है. लोग जब आपके ब्लॉग पोस्ट का टाइटल देखे तो तुरत ही समझ जाये की आप इस आर्टिकल में क्या कहना चाहते है.
linux aur windows operating system me kya difference hai?
pdf file se backlinks kaise banaye 

#7 interesting shabdo ka istemal karen

आप अपने ब्लॉग पोस्ट को लोगो के नज़र में लाने के लिए कुछ इंटरेस्टेड शब्दों का बी इस्तेमाल करें. जिससे लोग आपके टाइटल को ही देख कर आपके ब्लॉग की तरफ खिचे चले आये.  इसके लिए आप अपने आर्टिकल के टाइटल में fantastic, Unlimited, Excellent, Secret, Brilliant, Awesome, interesting, outstanding, solid आदि शब्दों का प्रयोग कर सकते है.

Conclusion

बढ़िया और इंट्रेस्टिंग ब्लॉग पोस्ट टाइटल लिखना बहुत ही आसन है यदि आप ऊपर बताये गए रूल्स को follow करे तो. और यह आप पर निर्भर करता है की किस प्रकार से आप अपने ब्लॉग पोस्ट या आर्टिकल के टाइटल को attractive बना सकते है, और अपने विजिटर के इंटरेस्ट को समझ कर ही आर्टिकल और टाइटल लिखे.
मुझे उम्मीद है की आज का यह आर्टिकल blog post ka title kaise likhe? 7 badiya tarike आप लोगो को जरुर पसंद आएगा. यदि इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई शुइकायत या सुझाव हो तो हमें जरुर कमेंट बॉक्स के जरिये जरुर बताएं. और इसे अपने मित्रो के साथ facebook, twitter पर जरुर शेयर करें.

शनिवार, 19 अगस्त 2017

Blogging se paise kaise kamaye? 5 Popular Tarike

अगस्त 19, 2017 0
Blogging-se-paise-kaise-kamaye
दोस्तों आप लोग online business शब्द तो जरुर सुने होंगे और सोचते होंगे की यह कैसे किया जाता है. इन्ही ऑनलाइन business में से एक है blogging यदि आप के पास किसी टॉपिक  की जानकारी है और आप उस पर लिख सकते है तो यह business आपके लिए काफी पैसा कमा सकता है. लेकिन इस बिज़नस के द्वारा पैसे कमाना इतना आसान नहीं है जितना की बोलने और सुनने में लगता है. आज हम आप लोगो को बताएँगे की Blogging se paise kaise kamaye?
आप लोग सोचते होंगे की इस blogging से कितना पैसा कमाया जा सकता है तो मैं आप लोगो को बरता देता हूँ की इस blogging से आप 5k  से लेकर 100k तक कमा सकते है यह कमाई इस बात पर निर्भर करता है की आप का ब्लॉग कितना पोपुलर है.

Blog se paise kaise kamaye?

कामयाब blogger blogging से पैसे कमाने के लिए सिर्फ adsense पर ही केवल निर्भर नहीं होते है. वे इसके अलावा affiliated marketing, direct advertisement, ebook अदि के द्वारा भी पैसे कमाते है, और अपनी earning करते है.
पैसे किसको अच्छे नहीं लगते है? मतलब यह की यदि आप शौक के लिए blogging करते है और आप को पैसे मिलने लगे तो आप भी उसे पसंद करेंगे, और यदि आप blogging को पैसे के लिए कर रहे है तो आप को मेरा यह पोस्ट पूरा पढ़ लेना चाहिए.
adsense एक अकेला ऐसा साधन नहीं है जिससे ब्लॉग से पैसे कमाए जा सकते है. इसके अलावा भी बहुत से तरीके है. तो चलिए आप लोगो को एक एक करके उन तरीको को बता देता हूँ जिससे आप पैसे कम सकते है.


#1 -Affiliated Marketing

blog से पैसे कमाने के लिये यह सबसे अच्छा और बेहतर तरीका है. इसमे आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग के द्वारा किसी अन्य वेबसाइट के सामान को सेल करना होता है और वह वेबसाइट आपके द्वारा किये गए सेल पर आपको कुछ परसेंट कमीशन देती है.
जैसे यदि आप  अपने ब्लॉग पर मोबाइल या कंप्यूटर की जानकारी देते है तो आप flipcart, snapdeal, या amazon पर एक अकाउंट बना ले और कंप्यूटर या लेटेस्ट मोबाइल के लिए एक एफिलिएटेड लिंक generate कर ले और अपने ब्लॉग पर उस प्रोडक्ट की डिटेल के साथ उस लिंक को अपने ब्लॉग में लगा दे.
अब जो विजिटर आपके ब्लॉग पर आयेंगे और अप के आर्टिकल को रीड करेंगे और यदि उन्हें लगा की  ब्लॉग पर दिया गया लिंक उनके काम का है तो वह उसे ओपन करेंगे और यदि प्रोडक्ट पसंद आया तो वह उसे purchase कर लेंगे. जिससे आपको कुछ प्रतिशत commission प्राप्त होगा.

#2 - Direct Advertisement

ब्लॉग के पैसे कमाने का दूसरा बेहतर तरीका है की आप अपने ब्लॉग के खाली स्पेस को डायरेक्ट advertisement के लिए किसी फ़र्म से संपर्क करके उसके ad को लगा दे. इसमे आपको CPC की चिंता करने की जरुरत नहीं होती है.
इस प्रकार के ad में एक ad का कितना पैसा लेना है और उस ad को कितने समय तक लगाना है यह आपके ऊपर निर्भर करता है.  यदि आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक है तो आप ज्यादा फीस चार्ज कर सकते है.

#3- Create and Sell eBook

तीसरा और बहुत से success ब्लॉगर के द्वारा भी अपनाया हुआ तरीका यह है की आप अपने ब्लॉग के टॉपिक के हिसाब से उन पोस्ट का एक पीडीऍफ़ बनाइये जिसे लोग जानना चाहते है और उन्हें लोगो को सेल कर दीजिये.
जैसे मान लीजिये की आप का ब्लॉग इन्टरनेट के टॉपिक पर है तो आप SEO, blogging, online money making पर बुक लिख सकते है और उन्हें पीडीऍफ़ बना कर अपने ब्लॉग के माध्यम से सेल कर सकते है.

# 4 - Khud ki Service dena

खुद की सर्विस देना का मतलब यह है की आप में जो टैलेंट है या आप को जो काम आता है, उसे आप अन्य लोगो के लिए करें, और उसके लिए लोगो से कुछ फीस चार्ज करे.
कुछ इन्टरनेट से जुडी हुई काम आपको example के तौर पर बता रहा हूँ. लेकिन यह जरुरी नहीं की आप यही कम करें आप वह काम कीजिये जिसमे आपका इंटरेस्ट हो. वह काम ऑनलाइन हो या ऑफलाइन.
जैसे

  • blog banaiye
  • Logo  banaiye
  • blog ke liye article likhiye
  • kisi blog ko social media par share kariye

# 5- Paid Review

यह तरीका भी बहुत बढ़िया है लेकिन इसमे कुछ requirement है जिसे आपके ब्लॉग या वेबसाइट को पूरा करना होगा. यह काम आप तब कर सकते है जब आप का ब्लॉग काफी पोपुलर हो जाये. क्योकि जब तक आपका ब्लॉग पोपुलर नहीं होगा तब तक आपको कोऊ कंपनी review करने के लिए पैसे नहीं देगी.
जैसे यदि आप का ब्लॉग software  या app की जानकारी देता है तो, जब आपके पास अच्छी ट्रैफिक आ जाएगी तो software या app डेवलपर कम्पनी आपसे संपर्क करके अपने software या app को रिव्यु करने के लिए कहेंगी और उसके लिए आपको पैसे भी देंगी.

Conclusion

ब्लॉग के द्वारा पैसे कमाने के तरीके है वो सबसे बेस्ट तरीको में से है. इनके वावजूद भी बहुत से ऐसे तरीके है जिन्हें अपनाकर आप अपने ब्लॉग से पैसे कमा सकते है. लेकिन यदि आप अपने ब्लॉग से ज्यादा पैसे कमाना चाहते है तो इन 5 तरीको को जरुर अपनाएं.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का यह आर्टिकल Blogging se paise kaise kamaye? 5 Popular Tarike जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ facebook, twitter पर जरुर शेयर करें.

शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

Famous Technical Words aur Unaka Matlab

अगस्त 18, 2017 0
Famous-Technical-Words
दोस्तों आप लोग मोबाइल, कंप्यूटर और टेबलेट इस्तेमाल करते होंगे और उनके बारे में कुछ न कुछ जरुर जानते होंगे लेकिन इन गैजेट्स के जब आप किसी मैगज़ीन या internet पर पढ़ते होंगे तो कुछ ऐसे शब्द आते होंगे जैसे mAh, megapixcel, resolution, clock स्पीड  आदि जिन्हें आप पढ़ते तो होंगे और उसे अपने गैजेट का एक फीचर समझते होंगे लेकिन उसका मतलब नहीं जानते होंगे और उससे क्या फायदा है शायद यह भी नहीं जानते होंगे.  आज हम आप लोगो को इन्ही Famous Technical Words aur Unake Matlab को आप लोगो को बताएँगे.
विंडोज run कमांड software को start करने का आसान  रास्ता
bold italic अब whatsapp में भी
एंड्राइड मोबाइल के 50 सीक्रेट कोड

mAh Kya hai?

इससे बैटरी के चार्ज पॉवर का पता चलता है. mAh जितना ज्यादा होगा, उतनी ही डिवाइस को ज्यादा पावर मिलेगी और बैटरी लंबे समय तक काम करेगी।


Rear camera Kya hai?

रियर कैमरा मतलब फोन का बैक कैमरा है, या वह कैमरा जो फ़ोन के पिछले हिस्से में होता है. इसकी मदद से पोर्ट्रेट या लैंडस्केप में यूजर्स को फोटो खींचने की सुविधा देता है.

Front camera Kya hai?

किसी भी फ़ोन या टेबलेट्स  में फ्रंट कैमरा यूजर को सेल्फी खींचने और वीडियो कॉलिंग के काम आता है.

Mobile payment Kya hai?

इसका सीधा सा मतलब है की मोबाइल से पेमेंट करना. mobile payment के  द्वारा पैसा ट्रांसफर भी किया जा सकता है. mobile payment को चार तरीको से किया जाता है.

  1. SMS (Short massage service)
  2. Direct Mobile Billing
  3. Mobile Web payment (WAP)
  4. Near Field Communication(NFC)

Quad Core or Octa Core Kya hota hai?

प्रोसेसर को CPU भी कहा जाता है. Quad Core processor का मतलब है की इस processor में 4 layer है. और OCTA core processor का मतलब है की इस processor में 8 layer है. जिस processor में जितने layer होते है वह एक समय में उतने काम कर सकता है. जैसे single core  प्रोसेसर एक समय पर एक ही काम करता है, वैसे ही क्वाड-कोर प्रोसेसर एक समय में चार अलग-अलग काम कर सकते हैं. मल्टीटास्किंग के लिए ये जरूरी है कि फोन में मल्टीकोर प्रोसेसर हो.

64 bit processor Kya hai?

64 बिट प्रोसेसर का मतलब है कि जो प्रोससेर अआपके system में इस्तेमाल किया गया है, वो फोन में ज्यादा रैम, ज्यादा मेमोरी और बेहतर कैमरा फीचर्स सपोर्ट कर सकता है. 64 बिट प्रोसेसर के साथ फोन में बेहतर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर फीचर्स दिए जा सकते हैं. इससे बेहतर बैटरी बैकअप भी मिलता है. iphone में भी 64 बिट प्रोसेसर मिलता है. और यह पुराने 32 बिट processor से बेहतर स्पीड से काम करता है.

CLOCK SPEED Kya hai?

clock Speed  इस बात का माप होता है कि कोई भी प्रोसेसर एक सेकंड के दौरान कितने ऑपरेशन पूरे कर सकता है. चूंकि नए जमाने के प्रोसेसर एक सेकंड में लाखों क्लॉक साइकिल पूरे कर सकते हैं, इसलिए इन्हें आमतौर पर गीगाहर्ट्स या मेगाहर्ट्ज में मापा जाता है. प्रोसेसर की ओवरऑल परफॉर्मेंस क्लॉक स्पीड पर भी निर्भर करती है. यानी अगर प्रोसेसर में बाकी कंपोनेंट अच्छे हैं, लेकिन उसकी क्लॉक स्पीड कम है, तो वह धीमा काम करेगा.  इसलिए नया मोबाइल, लैपटॉप या कम्प्यूटर खरीदते समय उसके प्रोसेसर की क्लॉक स्पीड की जानकारी भी लेनी चाहिए.

Cash memory Kya hai?

यह  डिवाइस मेमोरी में एक ऐसी जगह होती है जहां से हाल ही में एक्सेस किया गया डाटा आसानी से रिट्रीव किया जा सकता है.  यूजर्स अपने डिवाइस पर जो भी काम करते हैं उसकी कॉपी कैश मेमोरी में भी सेव रहती है, और processor  मेन मेमोरी की जगह कैश मेमोरी से डाटा लेता है. high कैश मेमोरी वाले processor high स्पीड से काम करते है.

GPS Kya hota hai?

इसका पूरा नाम Global positioning system है. GPS सर्विस एक सैटेलाइट बेस्ड सर्विस है जो डिवाइस की लोकेशन, पोजिशन और स्थान विशेष के मौसम की जानकारी आदि देती है. इसे सुरक्षा के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है.

GPU Kya hota hai?

इसका पूरा नाम Graphic processing Unit है. इसके उपयोग से बेहतर विडियो quality प्राप्त किया जाता है. मोबाइल में high एंड गेम खेलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. जिससे बेहतर डिस्प्ले quality मिलती है.

WCDMA Kya hai?

इसका पूरा  नाम wideband code division multiple access होता है. WCDMA का  इस्तेमाल  3G टेक्नोलॉजी में होता है. WCDMA डिवाइस और नेटवर्क आम CDMA डिवाइसेस पर काम नहीं करते हैं. इसीलिए 3G सिम और फोन अलग होते हैं.

HDMI Kya hota hai?

इसका पूरा नाम High Defination Media Interface होता है. डिजिटल ऑडियो और वीडियो ट्रांसफर करने के लिए HDMI पोर्ट और केबल का इस्तेमाल किया जाता है.  स्मार्टफोन्स के डाटा केबल में एक साइड USB होता है और दूसरी तरफ HDMI, और इसके द्वारा आप अपने smart फ़ोन के विडियो या पिक्चर अपने टीवी पर भी देख सकते है.

Resolution Kya hota hai?

किसी भी कंप्यूटर, laptop, मोबाइल टेबलेट की स्क्रीन quality उसके resolution पर ही निर्भर करती है. जिस डिवाइस का जितना ज्यादा resolution होगा उसकी डिस्प्ले quality उतनी ही अधिक होगी. कुछ resolution की लिस्ट निचे है.

  • VGA (Video Graphics Array) - 640x480
  • SVGA (Super Video Graphics Array) - 800x600
  • QVGA (Quarter Video Graphics Array) - 320x240
  • WQVGA (Wide QVGA) - XXXx240
  • HVGA (Half VGA) - 480x320
  • WVGA (Wide VGA) - XXXx480
  • FWVGA (Full Wide Video Graphics Array) - 854x480
  • Quarter HD or qHD - 960x540
  • XGA (Extended Graphics Array) - 1024x768
  • SXGA (Super Extended Graphics Array)) – 1080 x 1024
  • WXGA (Wide Extended Graphics Array) - 1366x768
  • HD Ready (High Definition Ready) – 1360 x 768
  • HD (High Definition ) – 1280x 720
  • FHD (Full High Definition ) – 1920 x 1080
  • 4k or UHD (Ultra High Definition) - 3840 x 2160
  • 8k UHD (Ultra High Definition) - 7680 x 4320

मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का यह पोस्ट जरुर पसंद आया होगा. और कुछ Famous Technical Words aur Unake Matlab को अच्छी तरह से जान गए होंगे. यदि किन्ही और शब्दों का मतलब जानना हो तो आप कमेंट box के जरिये हमें जरुर बताये, हम उनकेबारे में आप को जरुर बताने की कोशीश करेंगे.