सोमवार, 7 अगस्त 2017

PCB kya hota hai? Printed Circuit Boards

1 comment

PCB-printed-circuit-boards
दोस्तों क्या आप ने कभी सोचा है की आज के समय में सभी इलेक्ट्रॉनिक सामान पतले और छोटे कैसे होते जा रहे है. आखिर इनके पीछे किसका हाथ है? कैसे यह इतने छोटे होते जा रहे है? आज हम इसी के बारे में आप लोगो को बताएँगे की कैसे इलेक्ट्रॉनिक सामान पतले होते जा रहे है? दरअसल इनके पीछे हो ही कारण है पहला है सभी इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स छोटे होते जा रहे है और दूसरा है printed circuit boards क्योकि यह जितने छोटे होंगे हमारे सभी इलेक्ट्रॉनिक सामान भी छोटे होते जायेंगे. आज हम इसी PCB (Printed Circuit Boards) के बारे में आप लोगो को बताएँगे.

PCB kya hai?

पीसीबी  का अविष्कार सन 1980 में आस्ट्रिया के इंजिनियर पाल एस्लर ने अपने इंग्लैंड में काम करने के दौरान किया था.
PCB का पूरा नाम Printed Circuit Boards है. यह एक पतला बोर्ड होता होता है.जो core फाइबर का बना होता है. जिसपर कॉपर की कोटिंग की जाती है. उसके बाद जो भी circuit उस पर बनाना होता है, उसका कंप्यूटर से एक मास्क बनाया जाता है. फिर केमिकल प्रोसेस के द्वारा उसे वाश आउट करते है. फिर उस पर लगे एक्स्ट्रा कॉपर को हटा देते है जिसे इच कहते है. अब सिर्फ बोर्ड पर वही कॉपर बचे हुए है जो कॉम्पोनेन्ट को जड़ने का काम करते है. और इस पर circuit के कॉम्पोनेन्ट को लगाने के लिए छेद बने होते है. और एक कॉम्पोनेन्ट को दुसरे कॉम्पोनेन्ट से जोड़ने के लिए कॉपर के ट्रैक बने होते है.
जितने भी इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे laptop मोबाइल, डेस्कटॉप, LEDBulb, Monitor इन सभी को बनाने में इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स को इसी PCB या printed circuit boards पर एक दुसरे से कनेक्ट किया जाता है.
आप जब भी किसी पीसीबी को देखते होंगे तो जरुर सोचते होंगे की दो कॉम्पोनेन्ट को जोड़ने के लिए आखिर क्यों टेड़े मेढे वायर क्यों घुमाये गए होते है. चलिए हम अब आपको बता देते है की यह ऐसा क्यों होता है.


PCB par wire ki design tedha medha kyo hota hai? or PCB me Length match kya hota hai?

PCB पर दो कॉम्पोनेन्ट को जोड़ने के लिए सीधे वायर को न बना कर उसे टेढ़ा मेढ़ा बना कर जोड़ा जाता है. इसका कारण यह है की मान लीजिये कोई ऐसा कॉम्पोनेन्ट है जिसे 4 इनपुट पिन्स मिल रहे है. और यह चारो अलग अलग सोर्स से आ रहे है. अब यहाँ यह देखना होता है की यह सिग्नल सही टाइम पर अपने डेस्टिनेशन तक पहुचें. कही ऐसा न हो की यह आगे पीछे पहुचे. यदि यह सिग्नल सही समय पर नहीं पहुचेंगे तो आउटपुट रिजल्ट बदल सकता है.
इसमे यह देखना होता है की वायर की लेंथ same हो. इसके बाद जो दूसरी चीज़ होती है जिसे देखना होता है वह है उनकी थिकनेस . असल  में हमें अलग अलग level का करंट काम में लेना होता है. उस करंट के हिसाब से ही वायर की थिकनेस को रखा किया जाता है. ताकि वह करंट को सही ढंग से प्रवाहित कर सके. इसी को हम PCB में Length match के नाम से जानते है
लेकिन यदि आप ने PCB के लेआउट पर ध्यान दिए होंगे तो आप देखे होंगे की इन सभी  में से कोई भी 90 डिग्री के एंगल पर नहीं मुड़ा होगा. क्योकि इस तरह के design में दिक्कत होती है और दुसरे बात यह है की 90 डिग्री के एंगल पर मुड़े ट्रैक उखड सकते है.
इसीलिए सभी PCB 45 डिग्री के एंगल पर मुड़े होते है. और यह हमें यह सुविधा भी देता है की कम से कम एरिया में जो वायर ट्रैक है उन्हें अच्छे से अरेंज कर पाएंगे.

PCB kitane prakar ke hote hai?

PCB ke prakar

  1. Singal layer
  2. Dual layer
  3. Multi layer

Singal layer

इस प्रकार के PCB में कॉपर के बने ट्रैक सिर्फ एक ही तरह होते है. इनका इस्तेमाल रेडिओ, पुराने टेलीविज़न, पुराने मॉनिटर, और इस समय आने वाले LED बल्ब में होता है.

Dual layer

कुछ ऐसे पीसीबी या printed circuit boards होते है, जिनके दोनों तरफ लेआउट होते है. इस प्रकार के पीसीबी को Dual layer PCB कहते है.

Multi layer

इस प्रकार के पीसीबी में दो से ज्यादा layer होते है. और इन्हें एक दुसरे के ऊपर स्टैग करके बनाया गया होता है इस प्रकार के PCB का इस्तेमाल हमारे कंप्यूटर के motherboard, ram स्टिक, laptop के motherboard, या मोबाइल फ़ोन के motherboard और ram में इस्तेमाल किया जाता है.
multi layer PCB इस लिए design किये गए है ताकि एक बहुत ही छोटे space में बहुत ज्यादा circuit को लगा सके. और हमारे सामान की design छोटी रह सके.

Conclusion

पुराने पीसीबी पर हम कॉम्पोनेन्ट को उनके वायर के साथ सोल्डरिंग आयरन से सोल्ड करते थे. लेकिन अब हम इस तरीके का इस्तेमाल नहीं करते है. अब हम SMD (Surface Mounted Device) के द्वारा बिना किसी एक्स्ट्रा वायर के भी कॉम्पोनेन्ट को बोर्ड के ऊपर चिपका देते है.
हम कोई भी इलेक्ट्रॉनिक सामान का इस्तेमाल करें अगर उसे ओपन करके देखे तो उसमे जरुर PCB (Printed Circuit Boards) लगा होता है. भले ही वह एक 50 रुपये का रिमोट ही क्यों ना हो.  मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट PCB kya hota hai? Printed Circuit Boards आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा. आप इसे अपने मित्रो के साथ facebook और twitter पर शेयर करना ना भूले. यदि इस आर्टिकल से जुडी कोई सुझाव या सिकायत हो तो आप कमेंट box के जरिये हमें जरुर बताएं.हमें ख़ुशी होगी.
If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

1 टिप्पणी: