गुरुवार, 3 अगस्त 2017

Plastic money ke security feature kya hai?

Leave a Comment

Plastic-money-ke-security-feature-kya-hai
दोस्तों पिछले आर्टिकल में मैंने आप लोगो को बताया था की plastic money kya hai? लेकिन आज मैं, plastic money के कुछ security फीचर के बारे में बताऊंगा जो आपके लिए काफी उपयोगी साबित होंगे और उन्हें जानकर आप अपने plastic money के फ्रॉड transaction को रोक सकते है और अपने plastic money को सुरक्षित रख सकते है.  तो चलिए अब हम आपको बताते  है की Plastic Money me kaun kaun se security feature hai?  जिन्हें जानना आपके लिए अति आवश्यक है.
इसके साथ हम आप को यह भी बताएँगे की इसको इस्तेमाल करने में क्या क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

Plastic money ke 6 security feature

plastic money के जो security फीचर आप लोगो को बता जा रहे है. वे ऐसे फीचर है. जो प्रत्येक ब्यक्ति के card के लिये अलग अलग होते है और उन्हें किसी के साथ भी शेयर नहीं करना चाहिए.


1- अन्य payment gateway

बैंक हमेशा यह सलाह देते है की अप को अपने card का नंबर कई payment gateway  के साथ  सेव नहीं करना चाहिए. क्योकि इससे security रिस्क बढ़ जाता है.

2- cvv number

प्रत्येक card के पीछे 3 अंक का एक code होता है जिसे CVV (card verification value) कहा जाता है. यह एक बहुत ही बेतरीन फीचर है जिसके द्वारा अपने card को फ्रॉड transaction से बचा सकते है इन्हें भी किसी के साथ शेयर ना करें.

3- 16 अंक का card number के द्वारा सर्विस प्रोवाइड का पहचान

card नंबर से आप किसी के भी  card के सर्विस प्रोवाइडर को जान सकते है. जैसे वीसा का card की शुवती अंक 4 होता है, mastercard का पहला अंक 5, अमरकां एक्सप्रेस के लिए 34 या 37, discover के लिए 6, पेट्रोलियम card के लिए 7 और एयरलाइन्स card के लिए 1 शुरुवाती नंबर हैं.  यह नंबर सभी card का अलग अलग होता है और इसे किसी के साथ भी शेयर नहीं करना चाहिए.

4- एक्सपायरी डेट

प्रत्येक debit card या credit card की expiry डेट होता है. जिसके बाद उस card को रेनेव कराने की जरुरत होती है. online payment में इसकी भी जरुरत होती है. इसलिए इसे भी किसी के साथ शेयर नहीं किया जाता है.

5- Magnetic strip

पुराने card के पीछे एक ब्लैक कलर की पट्टी होती है, जिसमे कस्रोमेर की सारी  डिटेल होती है. और जिससे कस्टमर और card सर्विस प्रोवाइडर  तथा बैंक की पहचान करने में सहायता मिलती है.  और इस प्रकार के card से POS मशीन के जरिये सारी जानकारी को चुराया जा सकता है.

6- Chip एंड Pin

Pos मशीन के द्वारा कोई गड़बड़ी ना कर पाए इसके लिए रिज़र्व बैंक ने एक निर्देश जारी किया है की अब सभी बैंक अपने card में मैग्नेटिक स्ट्रिप की जगह smart chip का इस्तेमाल करेंगे. जिसके जरिये हर online पेमेंट पर एक यूनिक टोकन तैयार होगा और इससे card की सुरक्षा बढ़ जाएगी.


plastic money को इस्तेमाल करने में सावधानियां.

  1. जहा plastic money को इस्तेमाल करने में बहुत से फायदे है वही थोड़ी सी भी लापरवाही आपको चुना भी लगा सकती है.
  2. यदि आप का card किसी ATM मशीन में फस गया है तो आप किसी बाहरी ब्यक्ति या वहा पर मौजूद security guard की बजाय नजदीकी ब्रांच में तुरंत संपर्क करें. कुछ बैंक तुरत ही card को तुरंत ही वापस कर देते है. जबकि कुछ बैंक उस card को निकल कर नष्ट कर देते है और कस्टमर को दूसरा card दे देते है. इस प्रकार की परेशानी से बचने के लिए आप हमेशा ऐसे ATM का इस्तेमाल करे जिसमे पूरा card अन्दर नहीं जाता है.
  3. हमेशा अपने पास बैंक के कस्टमर केयर का नंबर जरुर रखे रहे.
  4. अपने card का डिटेल जैसे card नंबर, एक्सपायरी डेट, cvv नंबर हमेशा अपने पास लिख कर रखे. क्योकि card के चोरी हो जाने या खो जाने पर card को ब्लाक कराते समय इन सब की जरुरत पड़ती है.
  5. यदि आप का card चोरी हो गया हो तो तुरंत ही नजदीकी पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज कराए और कस्टमर केयर पर फोन करके उस card हो तुरंत ही ब्लाक करा दें. ताकि कोई भी उसके transaction ना कर पाए.

NFC क्या होता है 
VPN क्या है 
blue whale game क्या है

Conclusion

plastic money के इस्तेमाल में थोड़ी सी सावधानी बरतने से आप के मेहनत की कमाई को कोई चुना नहीं लगा सकता है. और यदि आप थोड़ी सी सतर्कता बरते तो किसी भी दिक्कत में फ़सने से बच सकते है. इसमे आपको इसके security feature आपकी काफी मदद कर सकते है.
मुझे उम्मीद है की आज का यह आर्टिकल Plastic money ke security feature kya hai? आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा और इसको जानकर आप जरुर लाभ उठाएंगे. यदि यह आर्टिकल पसंद आया तो आप इसे अपने मित्रो के साथ सोशल मीडिया पर जरुर शेयर करें.
If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें