बुधवार, 23 अगस्त 2017

Top 10 Important Ranking Factor for Google SERP [Hindi]

Leave a Comment

Top-10-Ranking-factor
दोस्तों आज हम आप लोगो को दस ऐसे टिप्स बताएँगे जिनको अपना कर आप अपने ब्लॉग पोस्ट को google SERP में हमेशा टॉप पर रख सकते है. चुकी नए ब्लॉगर के साथ यह एक समस्या होती है की उनकी ब्लॉग पोस्ट google में top position पर नहीं रैंक कर पाती है. जिससे उन्हें निराशा होती है. तो अब आप लोगो को कतई निराश होने की जरुरत नहीं है. हम आप लोग को बताएँगे Top 10 important factor for top ranking in Google SERP [Hindi].
नए ब्लॉगर सोचते है की हमने तो आर्टिकल बढ़िया लिखा. उसमे इमेजेज का इस्तेमाल भी किया लेकिन तब भी हमारा ब्लॉग पोस्ट google में रैंक नहीं किया. आखिर क्यों. आज आप लोगो को इस क्यों का जवाब इस पोस्ट में मिल जायेगा


google me top par rank kaise kare? or Blog post ko google me top par kaise laye?

नए ब्लॉगर अक्सर on page SEO तो करते है. लेकिन उन्हें शायद ही पता हो की google किसी page को रैंक करने से पहले 200 से अधिक फैक्टर की जाँच करता है. और उनके आधार पर ही ब्लॉग पोस्ट को रैंक करता है. और उसमे से जो top के 10 फैक्टर आज हम आप लोगो को बताने वाले है जिनसे आप भी अपने ब्लॉग के पोस्ट को रैंक करा सकते है.

#1 Page Authority

दरअसल page authority किसी ब्लॉग के page की वैल्यू होती है. यदि आप अपने ब्लॉग के page को सही ढंग से मैनेज करे तो यह बढ़ सकती है जैसे की heading tag H1, H2, H3, H4 का सही ढंग से इस्तेमाल, page में इमेजेज का ALT tag के साथ यूज़ करें.
अपने page को दुसरे page से लिंक करें. और इसके साथ ही अपने इस page का backlinks भी भी दिलाये.

#2 Page Load Time

यदि आप का page load टाइम ज्यादा है तो विजिटर आपके ब्लॉग से बाउंस कर जायेंगे. और जब आपके ब्लॉग का बाउंस रेट ज्यादा होगा तो आपक page google में  रैंक नहीं करेगा.
आप खुद भी उस वेबसाइट को देखना पसंद नहीं करते होंगे जो ज्यादा समय में load होती होगी. google भी इस बात को ध्यान में रखता है और जिस ब्लॉग का page load टाइम ज्यादा होता है उसे यह रैंक नहीं करने देता है.

#3  Responsive Design

आप यदि चाहते है की आपका ब्लॉग google में रैंक करें तो आपको अपने ब्लॉग का डिजाईन रेंपोसिवे रखना होगा. ताकि आपके यूजर जितनी आसानी से उसे डेस्कटॉप पर इस्तेमाल कर सकते है वह उतने ही आसानी से मोबाइल में भी इस्तेमाल कर सके.
एक अच्चा यूजर इंटरफ़ेस आपको google में रैंक करने में सहायक हो सकता है.

#4 Ads का सही जगह पर इस्तेमाल

यदि आप अपने ब्लॉग के page में बहुत ज्यादा adsका इस्तेमाल करते है तो यह यूजर को परेशां कर देती है. इसके लिए आपको अपने page में ads की संख्या बहुत ज्यादा नहीं रखनी चाहिए. isase यूजर यह समझ ही नहीं पाते है की ads कौन सा है और पोस्ट कौन सा है. ऐसे में विजिटर ब्लॉग को छोड़ कर चले जाते है.
यह भी एक वजह होती है google मे रैंक नहीं होने का. यदि आप चाहते है की आपका page google में top पर रैंक करे तो आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना होगा की आपका ब्लॉग neat & clean हो.

#5 Domain Authority

domain authority भी एक बहुत बड़ा फैक्टर है google के top page पर top रैंकिंग पाने के लिए. यदि आप इसके बारे में ज्यादा नहीं जानते है तो मेरा आर्टिकल domain authority kya hai? जरुर पढ़े.
आपका DA जितना ज्यादा होगा , उतना ही जल्दी आपका page google में रैंक कर जायेगा.

#6 Keyword ka sahi tarike se istemaal

यदि आपका कीवर्ड डेन्सिटी 2.5 से ज्यादा है तो google आपको कीवर्ड स्पैमिंग समझ कर penalize कर सकता है इसीलिए सभी सक्सेसफुल ब्लॉगर अपने पोस्ट में 1.7 से लेकर 2.0 तक ही कीवर्ड का डेन्सिटी रखते है. और सबसे बड़ी बात की आप  अपने  टाइटल tag में कीवर्ड को जरुर इस्तेमाल करें.

#7 Unique Content

यदि आप किसी ऐसे विषय पर लिखते है जो एक दम से यूनिक हो तो वह आर्टिकल google में top पर रैंक कर जायेगा. लेकिन यदि आप किसी  की नक़ल कर के कुछ भी लिखते है तो वह रैंक नहीं करेगा. इसीलिए मैं अपने हर आर्टिकल में आप लोगो से कहता हूँ की आप किसी का नक़ल न करे. और अपना खुद काआर्टिकल लिखे.
यदि आप ऐसा करते है तो आपका ब्लॉग लोगो के बिच में फेमस भी हो जायेगा और और google भी इसे पसंद करेगा जिससे आप का आर्टिकल top पर रैंक करेगा.

# 8 Bounce rate

google में top पर रैंक करने के लिए ब्लॉग का बाउंस रेट कम होना चाहिए यदि बाउंस रेट ज्यादा होगा तो आपका ब्लॉग top पर रैंक नहीं करेगा.
बाउंस रेट को कम करने के लिए आप आर्टिकल को इस प्रकार से लिखे की विजिटर आपके आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए उत्सुक हो जाये. औए उसे पूरा पढ़े.. बाउंस रेट क्या है और इसे कैसे कम करे?

#9 Article length

यह बात तो सभी जानते है की जो आर्टिकल जितना बढ़ा होगा वह उतनियो जल्दी रैंक करेगा. यदि कोई वेबसाइट किसी पर 750 शब्द में आर्टिकल लिखी है और आप भी उसी टॉपिक पर 900 शब्द में आर्टिकल लिखेंगे तो आपका आर्टिकल SERP में पहले वेबसाइट से top पर होगा.  इसीलिए हमेशा यह कोशिश होनी चाहिए की आर्टिकल की लम्बाई ज्यादा होनी चाहिए.
लेकिन  आर्टिकल की लम्बाई ज्यादा करने के चक्कर में फालतू की चीज़े आर्टिकल में नहीं दाल देनी चाहिए. आप जिस भी टॉपिक पर लिखे उसे पूरी डिटेल के साथ और अच्छी तरह से समझा कर लिखे ताकि विजिटर उस टॉपिक को अच्छी तरह से जान जाये.

#10 Backlinks

यदि आपके ब्लॉग का backlinks नहीं है तो आप कितना भी बढ़िया आर्टिकल लिख ले वह पहले page पर तो आ जायेगा लेकिन top पर नहीं आएगा.  इसके आपको अपने ब्लॉग page के लिए backlinks बनाना होगा.
लेकिन इस बात का जरुर ध्यान दीजिये की आप का आर्टिकल जिस विषय पर हो backlinks भी उसी प्रकार से साईट से आणि चाहिए नहीं तो उसक लाभ आपको नहीं मिल पायेगा. यदि आप backlinks के बारे में नहीं जानते है तो आप यह backlink kya hai aur yah SEO ke liye kyo jaruri hai? जरुर पड़े .

Conclusion

यदि आप अपने विजिटर को अच्छा एक्सपीरियंस देंगे तो आपका ब्लॉग पोस्ट google में top पर रैंक करेगा. और यदि google को लगा की आप अपने विजिटर को बेहतर जानकारी और अनुभव दे रहे है तो यह आपके ब्लॉग को खुद ही SERP में top रैंक पर कर देगा.
मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Top 10 important factor for top ranking in Google SERP [Hindi] जरुर पसंद आया होगा. और आप यह जान गए होंगे की google search me top rank par kaise aaye. या
Blog post ko google me top par kaise laye? इसे आप अपने मित्रो के साथ social media पर जरुर शेयर करें.
If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें