शनिवार, 30 सितंबर 2017

Voice Recognition ke advantage aur Disadvantage

voice-speech-recognition-system
दोस्तों मेरे पिछले पोस्ट में आपने पढ़ा की speech recognition सिस्टम क्या होता है? और यह कैसे काम करता है? लेकिन आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आप लोगो को बताएँगे की Voice Recognition ke advantage aur Disadvantage kya hai? aur iska prayog kha par kiya ja sakta hai? यह तो आप लोग जान ही गए    होंगे की voice/ speech recognition के    द्वारा आप अपने मोबाइल को या कंप्यूटर को अपने वौइस् से ही कंटोल कर सकते है . तो चलिए जानते है की इसके एडवांटेज क्या है?

Voice Recognition system ke Advantage


  • इस टेक्नोलॉजी की मदद से आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर को बिना टच किये ही कोई भी काम करवा सकते है.
  • यदि कोई ब्यक्ति शारीरक रूप से अक्षम है तो वो भी बिना कीसी की मदद के कंप्यूटर पर हर काम बड़ी ही आसानी से कर सकता है. यदि उसे टाइप भी करना हो तो वह वौइस् कमांड के द्वारा बढ़ी ही आसानी से टाइप कर सकता है. बिना किसी की मदद के.
  • आप कम समय में आसानी से अपने काम को कर सकते है.
  • इस टेक्नोलॉजी में spelling और grammer की एरर की चिंता नहीं होती है, क्योकि या यह खुद ही grammer की एरर और spelling की गलती को सही कर लेता है.
  • यही कोई ब्यक्ति हाथ से अपाहिज है तो भी वह मोबाइल एयर कंप्यूटर पर इस टेक्नोलॉजी की मदद से काम बड़ी ही आसानी से कर सकता है.
  • यदि कोई ब्यक्ति पढ़ा लिखा नहीं है तो भी वह अपने सवालों के जवाब इन्टरनेट पर voice/ speech recognition  की मदद से खोज सकता है.ने वौइस् के द्वारा ही अपने सवालों को  पूछ सकता है और मोबाइल या कंप्यूटर के द्वारा अपने जवाब को सुन कर जन सकता है.
  • छात्रो केलिए यह एक वरदान से कम नहीं है, वे अपने सवालो को पूछ कर ही उनके आंसर  को जान सकते है.
यह हो Voice Recognition system ke Advantage है, जो हम सभी कार्यो को बहुत ही आसन बना दे रहा है. चलिए अब जान लेते है इसके दुसरे पहलू disadvantage के बारे में.

voice/ speech recognition system ke Disadvantage

  • शुरू शुरू में वौइस् को समझना मुश्किल होता है. या दुसरे शब्दों में कहे तो यह वौइस् को समझने में कुछ समय लगता है.
  • कभी कभी  voice/ speech recognition सिस्टम वौइस् को समझ नहीं पाता है, जिसके कारन वर्ड का इनपुट गलत ले लेता है, और उसका आउटपुट भी गलत दे देता है.
  • यदि बैकग्राउंड में शोरगुल है तो वह वर्ड को गलत-सलत या उल्टा पुल्टा लिखने लगता है.
  • आपको थोडा जोर से बोलना पड़ता है है जिससे यदि आप किसी शांत जगह पर काम कर रहे है तो वहा पर अशांति फ़ैल सकती है.
  • आप को  कंप्यूटर और मोबाइल से जब voice/ speech recognition system पर काम कर रहे है तो एक ही टोन में बात करनी होती है. नहीं तो यह भी कभी बात की समझ नहीं पाता है.
  • voice/ speech recognition system में कंपनी आपके आवाज़ को रिकॉर्ड करके अपने सर्वर पर सेव कराती रहती है. हो सकता है की वह आपके आवाज़ को गलत काम में इस्तेमाल करे. वैसे इसकी सम्भावना बहुत ही काम है, क्योकि इसमे सभी टॉप रेटेड कम्पनी है. और वह इस प्रकार से अपने यूजर  के डाटा का गलत इस्तेमाल नहीं कर सकती है.

Applications of voice/ speech recognition system

यह टेक्नोलॉजी काफी लोकप्रिय हो चूका है, और यदि आयरन मैन फिल्म देखे है तो यह भी उसी प्रकार जारविस की तरह से काम करती है. जैसे
  • आप अपने मोबाइल को ब्लूटूथ के द्वारा अपने कार से कनेक्ट कर सकते है. और काल, म्यूजिक, या माप को अपने वौइस् कमांड के द्वारा मोबाइल को बिना टच किये ही कर सकते है.
  • टाइपिंग - गूगल वौइस् टाइपिंग के द्वारा आप कुछ भी बोलकर टाइप कर सकते है वो भी बिना spelling मिस्टेक के. यह टाइपिंग काफी स्पीड से करता है, आप बोलते जाइये और यह टाइप करता जायेगा.
  • जब कोई भी ब्यक्ति कस्टमर केयर के नंबर पर कॉल करता है तो वौइस् कमांड के द्वारा वहा पर भी इनपुट लिया जाता है. जो voice/ speech recognition system से ही संभव है.

Voice/ Speech recognition software ke example

आज के समय में google, microsoft, और apple जैसे बड़ी कम्पनी ने अपने अपने वौइस् असिस्टेंट डेवेलोप कर चुके है. लेकिन सबसे ज्यादा लोकप्रियता google के google asistantne ने पाई है.
  1. google- google assistant
  2. microsoft- cortana
  3. Apple - SiRi
हम आप लोगो को यहा पर थोड़ी से जानकारी google असिस्टेंट के बारे में दे रहे है.
इस सॉफ्टवेर को google कम्पनी ने डेवेलोप लिया है, और इसका अनाउंसमेंट मई 2016 में google I/O सम्मलेन में किया था. यह आपके साथ टू वे conversion कर सकने में सक्षम है. मतलब यह की यदि आप इसे वौइस् कमांड के द्वारा कोई कमांड देते है तो यह उसके जवाब को भी वौइस् के द्वारा ही देता है.
यह बिलकुल उसी तरह से बात कर सकता है जैसे आप अपने मित्रो से बात करके किसी चीज़ की जानकारी लेते है. इसको इस्तेमाल करने के लिए Ok Google बोला जाता है. इस समय एंड्राइड के जो भी लेटेस्ट फ़ोन है यह उनके साथ आ रहा है.
voice-speech-recognition-system-2
जैसे यदि आप इससे यह कहे की who is Amitabh Bachchcan?  तो अमिताभ बच्चन कौन है इसकी जानकारी आपको बोल कर और स्क्रीन पर लिख कर दे देगा. इस प्रकार से यह two way conversion कर सकता है.
bold italic अब whatsapp में भी

Final Word

यह टेक्नोलॉजी जितनी तेज़ी से हमारे बिच जगह बना रही है. उससे यदि लगता है की बहुत जल्द यह हमारे घरो के इलेक्ट्रॉनिक देवीचे को भी कण्ट्रोल करने लगेगी और हमें किसी भी डिवाइस को बिना टच किये ही सिर्फ वौइस् से ही कण्ट्रोल कर सकेंगे. और जब ऐसा होने लगेगा तब हम लोगो की जिंदगी और भी मज़ेदार हो जाएगी.
मुझे उम्मीद है की आप लोग voice/ speech recognition system के advantage aur Disadvantage को अच्छी तरह से समझ गए होंगे.और मैं उम्मीद करता हूँ की आज का मेरा यह पोस्ट Voice Recognition ke advantage aur Disadvantage आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा.आप लोग मेरे इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करे. ताकि वह लोग भी इससे जानकारी प्राप्त कर सके.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें