बुधवार, 13 सितंबर 2017

Web Search Engine kya hota hai aur yah kaise kaam karta hai?

web-search-engine-kya-hota-hai
दोस्तो आज हम आपको बताएंगे कि Web search engine kya hota hai aur yah kaise kaam karta hai? आज के इस इंटरनेट के दौर में जब मन मे कोई सवाल आता है तो हम तुरंत ही उस सवाल का जवाब इंटरनेट में google.com, yahoo.com or Bing.com में ढूढने लगते है और उस सवाल का जवाब भी पा जाते है. लेकिन क्या आपने कभी यह सोच है कि आखिर यह Web search engine kya hota hai.
90 के दशक में ऐसा नही था जब भी किसी सवाल का जवाब चाहिए होता था तब हम उसे किसी बड़े या जानकर से पूछ कर या किसी मैगज़ीन में पढ़ कर जानते थे. लेकिन आज के दौर में हम अपने सभी प्रश्नों के उत्तर को इन्ही Web search engine के माध्यम से प्राप्त कर लेते है.




  • क्या आपके स्मार्ट फ़ोन में वेर्चुअल रियलिटी है 
  • क्या आप जानते है की satellite टीवी क्या होता है 

  • Web Search Engine kya hota hai?

    Web Search Engine  एक ऐसा प्रोग्राम है जो आपके द्वारा खोजे जा रहे वाक्यो को या उनके अर्थ को इंटरनेट में मौजूद सभी डेटाबेस में खोज कर उसका उत्तर देता है.
    सर्च इंजन प्रत्येक प्रशो के उत्तर को अपने डाटाबेस में ही खोजता है, और वह इस डेटाबेस में अपने bots के द्वारा जानकारी को इकठ्ठा करता है.
    जैसे इस समय सभी यह खोज रहे है कि  blue whale game kya hai?  अब blue whale game अब एक कीवर्ड है और जो जो वेबसाइट उस शब्द का इस्तेमाल अपने वेबपेज में कई होती है उनको सर्च इंजन खोज करके अपने रिजल्ट पेज में शो कर देता है.


    Web Search Engine kaam kaise karta hai?

    Web Search Engine तीन स्टेप में काम करता है.  सबसे पहले वह crawling करता है. फिर तीसरे स्टेप में Indexing करता है. और लास्ट स्टेप में यह ranking and retrieval करता है.

    1- Crawling

    क्रेवलिंग का मतलब होता है कि किसी भी वेबसाइट से उसके सारी डेटा की जानकारी को हासिल करना. अर्थात पेज का टाइटल क्या है? पेज में कौन कौन से कीवर्ड है.  कीवर्ड की डेंसिटी क्या है? एक तरह से कह सकते है कि यह पूरे वेबपेज को ही कॉपी कर लेता है.और इसके साथ यह भी स्टोर कर लेता है कीइ का लेआउट कैसा है, लिंक कहाँ कहाँ है और advertise कहा पर दिया गया है.
    crawling की यह क्रिया सर्च इंजन के bots या spider के द्वारा आटोमेटिक रूप से की जाती है. google के मुताबिक यह spider एक सेकंड में करीब 100 से 1000 पेज को विजिट कर लेता है. और जैसे ही इस स्पाइडर को कोई नया पेज मिलता है तो वह उसके टाइटल, मेटा टैग, कीवर्ड,  बेक लिंक्स, इमेजेज आदि को अपने डेटाबेस में स्टोर कर लेता है. जब भी कोई नया पेजर इसे मिलता है तो यह इस क्रिया को रिपीट करता रहता है.

    2- Indexing 

    अब crawling के दौरान जो डाटा स्पाइडर को प्राप्त होता है उसे क्रमानुसार डेटाबेस में स्टोर करना ही indexing कहलाता है. सर्च इंजन सिर्फ एक वेबसाइट को crawl  करके बल्कि दुनिया के लगभग सभी वेब पेज को crawl कराती है और इन्हें index करती है. google का spider प्रतिदिन लगभग तीन त्र्रिलियन पेज को क्रॉल करता है. 
    एक तरह से कह सकते है की दुनिया के सभी वेब पेज की लाइब्रेरी गूगल के पास है.

    3- Ranking and Retrieval

    Web search engine का तीसरा और अंतिम स्टेप Ranking and Retrieval का ही होता है. जैसे ही कोई यूजर किसी कीवर्ड को Web search engine में डालता है. तो Web search engine का काम यह होता है की यूजर के द्वारा आई हुई इनपुट के अनुसार उससे मिलती हुई इनफार्मेशन को रिजल्ट पेज पर शो कर दे. 
    चुकी एक ही विषय पर कंटेंट बहुत से वेब पेज पर होते है. ऐसे में किस वेब पेज को फर्स्ट पोजीशन पर दिखाना है और किसको  सेकंड पर या थर्ड या फोर्थ, या ............. दसवे, सौवे, या हजारवे पर. अब इसके लिए गूगल 200 फैक्टर की जाँच करता है.  और उसके आधार पर वह वेब पेज को SERP (Search engine result page) में शो करता है.
    क्या आप जानते है की smart phone हमे हानि पहुचता है?
    क्या आप जानते है की master cardक्या है?

    Conclusion

    मुझे उम्मीद है की आप यह जान गए होंगे की web search engine kya hota hai aur, yah kaise kaam karta hai? यदि आप लोगो को कोई शिकायत या सुझाव हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स के जरिये जरुर बताये. इसे अपने मित्रो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले.

    कोई टिप्पणी नहीं:

    एक टिप्पणी भेजें