बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

Top 10 Content Marketing Myth Jise aap sahi janate hai

Top-10-Content-Marketing-Myth
आप सभी Content Marketing का नाम तो जरुर सुना होगा और यदि आप एक ब्लॉगर है तो यह जरुर जानते होंगे की यह किसी ब्लॉग या वेबसाइट के लिए कितना जरुरी है.
सामान्य भाषा में Content Marketing का मतलब यह होता है की किसी प्रोडक्ट या सर्विस  के     बारे में Images, video, और text के द्वारा कंटेंट  बनाना और उन्हें लोगो तक पहुचाना होता है. जिससे लोग उस प्रोडक्ट की तरफ आकर्षित हो कर आये. इस प्रचार के तरीको को लगभग सभी बड़ी कंपनी कराती है.
hindi blog का seo कैसे करें?
google drive से high quality backlinks कैसे बनाये?
blogging को क्यों छोड़ देते है लोग 


Top 10 Content Marketing Myth

लेकिन इस Content Marketing में कुछ ऐसे practices है जिसे लोग सही मानते है. आज हम आप लोगों    को उन्ही Content Marketing Myth के बारे में बताएँगे.

1- Content Marketing mere Blog Topic ke liye nahi hai.

यदि आप यह सोचते है की Content Marketing मेरे ब्लॉग के लिए नहीं है तो     यह बिलकुल गलत है.  यह सभी प्रकार के टॉपिक के लिएर सभी प्रकार के लोगो के लिए है.
एक छोटे से दुकानदार से लेकर एक बड़े कंपनी तक के लोगो को इसकी जरुरत है.

2- Content Marketing free me hota hai

कुछ लोग यह सोचते है की Content Marketing बिलकुल फ्री है, यह सोच ही बिलकुल गलत है क्योकि यह फ्री नहीं है.
यह जरुर है की आप के Content Marketing का बजट कम हो सकता है लेकिन फ्री नहीं.

3- Content Marketing बहुत महंगा होता है.

यदि आप कंटेंट मार्केटिंग में बिना किसी योजना के ही पैसा लगते है तो यह मिथ आपके लिए सही साबित हो सकता है. लेकी यदि आप इसमे एक योजना के तहत पैसा लगते है तो यह यह आपको एक्सपेंसिव नहीं लगेगा.
अधिकांश कंपनी अपने मार्केटिंग बजट का एक से पच्चीस प्रतिशत ही कंटेंट मार्केटिंग पर खर्च कराती है.

4- Random Posting on Social Media is  Content Marketing

यदि आप अपने बिज़नस के नाम से एक facebook page बनाया हुआ है और उस पर महीनो में कभी कभार पोस्ट करते है तो वह कंटेंट मार्केटिंग नहीं है.
यदि आप  social  media जैसे facebook, google plus, twitter, instagram पर अकाउंट बनाये हुए है और उसमे आप पोस्टिंग करते रहते है तो यह भी कंटेंट मार्केटिंग नहीं है.
social media का प्रयोग और उस पर पोस्टिंग करना कंटेंट मार्केटिंग नहीं है बल्कि यह उसका एक हिस्सा है.
यदि आप एक लक्ष्य निर्धारित करके है और फिर एक योजना बनाते है और उस योजना के द्वारा अपने लक्ष्य को पाने की कोशिश करते है तो यह कंटेंट मार्केटिंग कहलाता है.

5- Share = सफलता

यदि आप social media पर अपने पोस्ट को शेयर करते है, और उसे कुछ लोग पसंद किये और कुछ लोग शेयर किये लेकिन इससे  यह साबित नहीं होता है की आप का कंटेंट मार्केटिंग सफल है.
क्योकि सभी like और share ट्रैफिक में नहीं बदल सकते. आपको हमेशा कंटेंट मार्केटिंग को अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्रैफिक भेजने या अपने ब्रांड के बारे में अपने ग्राहक को सूचित करने पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए.

6- More Content = Sucsess

आप सभी लोग यह जरुर सुने होंगे की content is King.
लेकिन यदि आप बिना किसी उद्देश्य के आर्टिकल पर आर्टिकल लिखते रहे तो भी आपको सफलता नहीं मिलेगी.
सफलता यानि ट्रैफिक क्योकि यदि आपके आर्टिकल से किसी को कोई फायदा नहीं हुआ तो वह दुबारा आपके ब्लॉग पर नहीं आएगा.
सिर्फ आर्टिकल लिख देना ही कंटेंट मार्केटिंग का हिस्सा नहीं है, उस आर्टिकल में इमेज, gif और video भी ऐड करना होता है.

7- good content खुद ही फेमस हो जायेगा.

यदि आप बहुत बढ़िया आर्टिकल लिखे है इसका मतलब यह नहीं है की यह आपके विजिटर या कस्टमर तक अपने आप पहुच जायेगा.
क्योकि आपके कंटेंट के पास कोई पैर नहीं है जिससे यह आपके कस्टमर के पास खुद ही चल कर जायेगा.
आपको अपने कंटेंट को इस प्रकार से SEO और को कीवर्ड  के द्वारा ऑप्टिमाइज़ करना होता है की आपके विजिटर उन कीवर्ड के द्वारा उस आर्टिकल तक पहुच सके या आपका आर्टिकल आपके विजिटर तक पहुच सके.

8- Content बहुत लम्बा होना चाहिए

यह कोई जरुरी नहीं है की आपके ब्लॉग का या आपका हर कंटेंट लम्बा ही हो.  आप के  आर्टिकल की लम्बाई लिखे जा रहे टॉपिक पर निर्भर करती है.
किसी भी कंटेंट की लम्बाई उतनी होनी चाहिए जितने में उस टॉपिक से जुड़े सारी इनफार्मेशन आ जाये.
आपके कंटेंट की लबाई 300 शब्द भी हो सकती है और 2000 शब्द भी हो सकता है.

9- SEO ही Content Marketing है.

एक बढ़िया content marketing strategy SEO का प्रयोग करता है, लेकिन content marketing strategy और SEO दोनों एक ही चीजे नहीं है.
सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक तरीका है जिससे आप अपने कंटेंट को इस लायक बनाते है जिससे लोग उसे सर्च इंजन में किसी कीवर्ड के द्वारा खोज सके.
जबकि कंटेंट मार्केटिंग एक प्रकार का मार्केटिंग का तरीका है जो ब्लॉग पोस्ट, ईमेल, और social media पोस्ट का इस्तेमाल करता है.

10- Blogging ही content marketing है.

कंटेंट मार्केटिंग ब्लॉग्गिंग नहीं है यह उससे भी कुछ ज्यादा है. आपका ब्लॉग भी content marketing strategy का एक हिस्सा हो सकता है.
कंटेंट मार्केटिंग ईमेल, social media, images आदि सभी को मिला कर भी किया जा सकता है.
किसी ब्लॉग के कंटेंट को अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाना और उन लोगो में से अधिक से अधिक लोगो को अपने ब्लॉग पर लाना ही कंटेंट मार्केटिंग का उदेश्य होता है.
hindi blog का seo कैसे करें?
google drive से high quality backlinks कैसे बनाये?
blogging को क्यों छोड़ देते है लोग 

 Conclusion

content marketing में बहुत से मिथ है जिसे जानकर उनसे बचना बहुत ही जरुरी है क्योकि यदि  हम उन मिथकों को ही सही जानते रहेंगे तो यह भी हमारे लिए अच्छा साबित नहीं होगा.
कुछ लोगो की धारणा यह भी है की यह सिर्फ ब्लॉग बनाने और उस पोस्ट कर देने के लिए ही है. यदि आप अभी तक इसका इस्तेमाल नहीं कर रहे ही तो इसे आज से ही शुरू कीजिये.
 इसके द्वारा आप अपने लिखे हुए आर्टिकल को लोगो तक पहुचाये और उन्हें अपने विजिटर में बदले.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को यह पोस्ट Top 10 Content Marketing Myth Jise aap sahi janate hai. जरुर पसंद आया होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें