शनिवार, 2 दिसंबर 2017

Pay Per Click (PPC) advertising kya hota hai(क्या होता है? )

pay-per-click-advertisement-ppc
दोस्तों आज हम आप लोगो को Pay Per Click (PPC) advertising kya hota hai के बारे में बताने वाले है. आज के दौर में इन्टरनेट सभी लोगो तक पहुचने का सस्ता और आसान तरीका है.
आप इसके माध्यम से अपने बात को बड़ी ही सुगमता से किसी ब्यक्ति तक पंहुचा सकते है.  pay per click या PPC एक digital marketing का ही एक तरीका है. जिसका उपयोग करके अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्रैफिक लाया जाता है.
चुकी किसी ब्लॉग या वेबसाइट पर विजिटर सर्च इंजन के द्वारा ही सबसे अधिक आते है. इसीलिए लिए सभी blogger या website owner यह चाहते है की उनकी वेबसाइट रैंकिंग सर्च इंजन में बेहतर हो.
क्योकि बेहतर सर्च इंजन रैंकिंग ब्लॉग को  ज्यादा विजिटर दिलाता है.
Search Engine Optimization एक Free Organic Result होता है लेकिन  pay per click या PPC एक Paid Advertisement है.

pay per click या PPC क्या होता है? what is PPC in Hindi


PPC  का पूरा नाम pay per click होता है. जैसा की नाम से ही पता चल जा रहा है की pay per click मतलब की प्रति क्लिक के लिए पेमेंट करना.
यह एक internet marketing model  हैं जिसमे विज्ञापन देने वाला संस्थान, विज्ञापन पर होने वाले हर क्लिक के लिए, कुछ धनराशि देता हैं.
यह एक तरीका है जिसका आप उपयोग करके अपने ब्लॉग के लिए कुछ विजिट खरीद सकते है, और उस विजिट के बदले एडवरटाइजिंग कंपनी को आप पेमेंट करेंगे.
आप जब google का इस्तेमाल करते होंगे तो आप देखते होंगे की जैसे ही आप कुछ सर्च करते होंगे तो सर्च रिजल्ट के कुछ लिंक के आगे AD लिख कर आता होगा.
यह एक प्रदर्शन आधारित भुगतान मॉडल है, यदि आपके विज्ञापन पर क्लिक नहीं होता है तो आपको कोई भी पेमेंट करने की जरुरत नहीं होती है.

Pay per click (PPC) का मूल्य निर्धारण

PPC के  प्रत्येक क्लिक  के मूल्य का निर्धारण इस बात पर पर निर्भर करता है की विज्ञापनदाता अपने ब्लॉग पर किस देश से  और किस प्रकार के विजिटर को पाने की उम्मीद करता है.
PPC advertisement का मूल्य प्रभावित करने वाले फैक्टर.

1- visitor location

यदि आप अपने ब्लॉग का pay per click के माध्यम से अपने ब्लॉग का advertisment करते है तो इसका मूल्य इस बात पर निर्भर करता है की आप कहा से विजिटर पाना चाहते है. यदि आप इंडिया, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, पाकिस्तान के विजिटर चाहते है तो आप को per क्लिक के लिए कम पैसे खर्च करने पड़ेंगे.
लेकिन यदि आप अमेरिका, ब्रिटेन आदि पश्चिमी देशो के विजिटर pay per click के माध्यम से चाहते है तो आपको ज्यादा पैसे खर्च करने पढ़ सकते है.


2- Keyword

pay per click का मूल्य के निर्धारण के लिए दूसरा फैक्टर है keyword. आप किस keyword के search करने पर अपने ब्लॉग को शो करना चाहते है. यह चीज़ भी आपके PPC advertisement का मूल्य निर्भर करता है.
जैसे आप यदि insurance, loan, software आदि शब्द से अपने ब्लॉग का विज्ञापन करना चाहते है तो आपको अधिक पैसे खर्च करने पढ़ सकते है.
कहने का मतलब यह है की यदि आप high cpc keyword से अपने ब्लॉग का advertisement करेंगे तो आपको अधिक पैसे खर्च करने पड़ेंगे.

Pay Per Click का इतिहास

सबसे पहले 1998 में एक नयी  कंपनी goto.com ने pay per click को शुरू किया. PPC advertising model की आईडिया goto.com के संस्थापक bill grass और idealab कंपनी का था.
google ने pay per click की शुरुवात 1999 में की, और adwords को oct 2000 में पेश किया जो आज के समय में pay per click की एक leading advertisement company है.
हालाँकि ppc को अच्छे तरके से 2002 में ही पेश किया जा सका, उस समय तक विज्ञापन के लिए प्रति हजार की लागत के हिसाब से भुगतान प्राप्त किया जाता था.

Pay Per Click के लाभ


  1. अगर आप यह चाहते है की बिना SEO search engine optimization किये ही आपका blog post सर्च इंजन ने किसी keyword से रैंक करें तो आप इसका सहायता ले सकते है.
  2.  यह अन्य मार्केटिंग टेकनिक से काफी सस्ता है, और आप इसके द्वारा अपने ब्लॉग के ads को हाई ट्रैफिक वाले वेबसाइट पर बहुत ही कम पैसे से दिखा सकते है और जो वहा से ट्रैफिक आपके ब्लॉग पर आएगी, उसका आप पेमेंट करेंगे.
  3. Google Algorithm में समय समय पर कोई न कोई Changes होते रहते है जिससे Websites की Ranking घटती या बढती रहती है लेकिन pay per click  PPC पर इस का कोई Effect नहीं पड़ता है.
  4.  आप pay per click  से अपने Audience को Target कर सकते है, और अपने Products और Services उनको बेच सकते है, PPC से आप किसी Particular Location को भी Target कर सकते है, कहने का मतलब यह है की आप अपने हिसाब से Keywords, Location, Website, Device, Time and Date Target करके अपने ब्लॉग का विज्ञापन कर सकते है.
  5. आप pay per click के द्वारा कम Budget में  भी अपने ब्लॉग या वेबसाइट या अपने business का प्रचार कर सकते है.
  6. यदि आपने अभी जल्द ही कोई कंपनी शुरू की है तो आप उसका विज्ञापन कम पैसे में कर सकते है, या आपकी कंपनी कोई ऑफर शुरू की है तो आप इसके द्वारा अपने ऑफर को लोगो तक कम पैसे में पंहुचा सकते है.

Pay Per Click (PPC) advertising company

Pay Per Click (PPC) advertising company  में, google adwords, yahoo search marketing तथा microsoft adcenter,  तीन सबसे बड़े नेटवर्क ऑपरेटर हैं और ये तीनों bid based model  के तहत काम करते हैं. cost per click  (CPC), search engine  तथा किसी keywords के लिए प्रतियोगिता के स्तर के आधार पर भिन्न होता है.

Conclusion

अब आप लोग यह जान गए होंगे की pay per click क्या होता है? और इससे  आप अपने ब्लॉग  का ट्रैफिक कैसे बढ़ा सकते है? यह एक पेड advertisement है, इसलिए आपको कुछ पैसे भी खर्च करने पड़ेंगे. लेकिन यदि आप अपने ब्लॉग को एक हॉबी की तरह कर रहे है तो ठीक है लेकिन यदि आप इसे एक सीरियस बिज़नस की तरह करना चाहते है तो आपको एक बार इसे जरुर आजमाना चाहिए. 
क्योकि कोई भी बिज़नस का प्रचार प्रसार किये बगैर आप ज्यादा फायदा नहीं ले सकते है. और ब्लॉग एक ऐसा बिज़नस है की आप इसका जितना प्रचार करेंगे यह आपको उतना ही फायदा देगा.
मुझे उम्मीद है की आप लोगो को आज का मेरा यह पोस्ट Pay Per Click (PPC) advertising kya hota hai(क्या होता है? ) जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने मित्रो के साथ जरुर शेयर करें. और मेरे इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें. 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें