Ads Top


Blog पर USA UK country ke traffic कैसे लाये


target-Country-Specific-Traffic
आज इस पोस्ट USA UK country ke traffic kaise laye- Beginners Guide में आप लोगो को बताएँगे की आप किसी specific country के traffic को कैसे target कर सकते है.

चुकी इन देशो के traffic को इस लिए target किया जाता है की इन देश के CPC rate काफी high होता है.

इसके साथ ही U.S. और U.K. जैसे देशों के traffic इन देशों के users के सामान को जल्दी खरीदते है इसकी वजह से advertising के लिए बेहतर तरीके से convert होते हैं.

वैसे तो बहुत से factor है, जो आप लोगो को अपने ब्लॉग पर specific country के traffic को टारगेट करने में मदद कर सकते है.


जैसे की alexa ranking, किसी भी वेबसाइट के popularity को जानना हो तो आप उसके alexa ranking को चेक कर सकते है.

इससे आप यह पता कर सकते है की कोई भी website पूरे world में कितनी फेमस है, और India में कितनी फेमस है.


यदि आपका ब्लॉग हिंदी में है तो आप को इसके लिए उन देशो को target करना चाहिए जहा के लोग अधिकांश हिंदी को समझते हो.

जैसे India, Pakistan, Srilanka, Maleshiya, Indoneshiya, Nepal आदि.

वैसे तो Indian audience को target करना बेहतर है, क्योंकि इन audience से आपको कम competition में  बेहतर demand ratio मिल सकता है.

लेकिन यदि आप का ब्लॉग English में है तो आप US, UK country को भी traffic  के लिए target कर सकते है.

वैसे तो आप  हिंदी ब्लॉग पर भी USA Uk country के traffic को टारगेट कर सकते है. क्योकि हिंदी विश्व की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली लैंग्वेज है.

हममे से बहुत से blogger जिनका इनकम सोर्स मात्र  AdSense ही है, और specific देशों से traffic चाहते हैं.

इस पोस्ट में, मैं आपके साथ कुछ ऐसे ideas share करूँगा, जो target country से traffic बेहतर करने में आपकी मदद कर सकते हैं.

How to target Country Specific Traffic- Beginners guide [Hindi]

किसी specific country जैसे USA UK की traffic को टारगेट करने के लिए निम्न factor सहायक हो सकते है.

  1. Blog ka Domain Name
  2. Blog ka Web Hosting Server Location
  3. Backlins, Commenting, and Guest Post
  4. Content aur Language
  5. Local SEO
  6. Local Search Engine and Directory
  7. Keyword Popularity
  8. Google Search Console

Blog ka Domain Name:

आप जिस country का traffic चाहते है, आपको उसके हिसाब से ही domain name को purchase करना चाहिए.

अक्सर देखा गया है की  .com और .org जैसे Top level domain extensions का global search engines पर rank काफी high होता है.

लेकिन अपने blog या website के लिए specific country को target करने के लिए country-specific domain खरीदना ज्यादा अच्छा idea होता है.

यदि आप यह चाहते है की आपके ब्लॉग पर india की traffic ज्यादा हो तो आपको इसके लिए  .in या .co.in को अपने domain extensions के रूप में target कर सकते हैं.

यदि आप यह चाहते है की U.K. (United Kingdom) से traffic के लिए, अच्छे results के लिए आप .co.uk domain extension चुन सकते हैं.

आप चाहे तो अपने इन domain के  दूसरे TLD’s जैसे .com या .org भी खरीद सकते हैं.

लेकिन इस idea का एक सबसे major disadvantage यह है कि दूसरे country-specific search engines पर rank पाना आपके लिए बहुत मुश्किल होगा.

इसलिए, यदि आप country specific target audience को ही चाहते  हैं तो country-specific domain extension आपके लिए सबसे best option है.

Blog ka Web Hosting Server Location:

Geo-targeted traffic को drive करने में एक दूसरा सबसे बड़ा factor है, आपका server location.

आपको जिस country का traffic चाहिए आपको उसी country के server पर अपने blog या website को host करना चाहिए. जैसे कि -

यदि traffic के लिए आपकी target country U.S. (United States) है तो आपको U.S. based servers पर अपनी website होस्ट करनी चाहिए.

यदि आप ऑस्ट्रेलिया का traffic target कर रहे हैं तो अपनी website को ऑस्ट्रेलिया के server पर  होस्ट करें.

इसके साथ ही CDN (Content delivery network) भी अलग-अलग देशों में आपके वेबसाइट को तेज करने में help करता है.

आप जिस देश के traffic को target कर रहे है, वहा ब्लॉग को host करने का फायदा यह है की, उस देश की IP होने की वजह से उस देश में आपका ब्लॉग loading fast होगा.

search engines bots आपके सर्वर का location पता कर पाएंगे. जिसकी वजह से आप का ब्लॉग उस specific country में high ranking प्राप्त करेगा.

Backlins, Commenting, and Guest Post:

जब Google search शुरू हुआ था उस समय  content की popularity का पता करने के लिए backlinks का इस्तेमाल होता था.

लेकिन आज के समय में सर्च इंजन में बहुत से बदलाव आये  लेकिन, backlinks की importance अभी भी बनी हुई है.

आप जिस specific country की traffic को टारगेट कर रहे है, आप कोशिश करे की backlinks भी वही के ब्लॉग या website से हो जैसे की-

यदि आपके target audience U.K. में हैं तो ज्यादातर backlinks U.K.-based websites से लेने की कोशिश करें.

आप इसके लिए alexa की भी use कर सकते है.  जब आप किसी specific country के traffic को target करना चाहते हैं तो यह particular strategy सबसे ज्यादा efficient साबित होती है.

आप उस specific country के ब्लॉग पर commenting करे. लेकिन इस बात का ध्यान रखे की spamm न करें. आप blog commenting पर थोड़ा समय बिताकर भी country-based backlinks drive कर सकते हैं.

आप guest blogging opportunities  के द्वारा भी country-based backlinks drive कर सकते हैं.

यदि इन दोनों को अच्छी तरह से किया जाए तो यह दोनों तरीके proven और Penguin-safe हैं. और traffic drive करने में बहुत ही सफल हैं.
इन्हें भी पढ़े

Content aur Language:

किसी ब्लॉग के content  के द्वारा ही कोई भी सर्च इंजन यह पता करता है की ब्लॉग किस country को target कर रहा है.

यदि आप top lavel domain जैसे .com, .org से एक साथ कई देशों के traffic को  टारगेट कर रहे हैं तो देश का नाम अपने पोस्ट के meta titles और descriptions में जरुर जोड़ें.

यह आपके content को और ज्यादा keyword-targeted बनाने के साथ ही country specific को भी एक फिक्वेंसी सेंड करेगा, जिसे आप target कर रहे हैं.

यदि आप किसी इंडियन लैंग्वेज में अपने कंटेंट को लिखते है तो उससे U.S. traffic को target करना बेहद मुश्किल होगा.

आप को जिस देश के traffic को target कर रहे है, उसी country के लैंग्वेज के हिसाब से कंटेंट भी लिखना होगा.

यदि आप खुद उस country के लैंग्वेज के हिसाब से लिखने में सक्षम नहीं है तो आपको उस specific country के writers hire करें.

या जिन लोगों के पास उस देश की भाषा के लिए excellent writing और grammatical skills हो उन्हें hire करें.

Local SEO :

Local SEO को सभी blog के लिए apply नहीं किया जा सकता है, लेकिन यदि आप कोई E-commerce website चला रहे हैं तो Google Places आपके लिए बहुत useful होगा.

अपने business को Google Places में क्लेम करें और सभी related information जैसे पता, फ़ोन नंबर आदि जोड़ दें..

यह Google को आपके ब्लॉग या वेबसाइट या आपके service का location पता करने में मदद करेगा.

अपने target किये गए देश के specific traffic को push करने के लिए, और ज्यादा local citations पाने में मदद करने के लिए आप अलग-अलग websites पर social media profiles भी बना सकते हैं और जानकारी भी भर सकते हैं.

local search engines and directories :

यह country-specific backlinks पाने के लिए एक बहुत useful tool की तरह से आप इसका use कर सकते है.

किसी specific country के traffic को अपने ब्लॉग पर drive करने के लिए आपको उस country के  local search engines और local web directories में अपने ब्लॉग को submit करना चाहिए.

Keyword popularity :

अपने blog के content को उन keywords के अनुसार target करना चाहिए, जो उस specific country में popular हों, जहाँ का traffic आप टारगेट कर रहे हैं.

जैसे की भारत में amazone keyword बहुत पॉपुलर है लेकिन, बहुत से  देशों में नहीं है.

आपका ध्यान उन keywords पर होना चाहिए जो उस देश में पोपुलर हो जहां का आप traffic target कर रहे है.

जैसे की weight loss india से ज्यादा USA में पोपुलर है तो इस keyword का use आप पाने ब्लॉग के ब्लॉग पोस्ट में करे. तो USA की traffic ज्यादा आएगी.

Google search console :

Google search console, यह एक मुफ्त tool है, जो country-specific traffic पाने की कोशिश करने वाले blogger या webmaster के लिए बहुत helpful है.

इस tool से आप यह सेट कर सकते हैं कि आपका website किस देश के लिए target रहता है, और इस तरह यह आपको targeted country का traffic पाने में मदद करता है.


  1. इसके लिए आप अपने google सर्च console account में लाग इन करे.
  2. अब उस साईट की प्रॉपर्टीज को ओपन करे जिससे आप country specific की traffic drive करना चाहते है.
  3. अब आप Search Traffic >International Targeting> Country के अंदर आप यह specify कर सकते हैं कि आप किस देश को target करना चाहते हैं.

इस प्रकार से आप अपने ब्लॉग पर किसी भी specific country के traffic को drive कर सकते है.

मुझे उम्मीद है की आज का यह पोस्ट Blog पर USA UK country ke traffic कैसे लाये आप लोगो को जरुर पसंद आया होगा.

यदि इस पोस्ट में दी गयी जानकारी आपको useful लगी है तो please इसे Facebook, Twitter और Google Plus पर अपने दोस्तों के साथ जरुर  share करें.

2 टिप्‍पणियां:

Blogger द्वारा संचालित.